आजकल की लाइफस्‍टाइल के चलते मोटापा एक आम समस्‍या बन गई है। जिससे ज्‍यादातर महिलाएं परेशान रहती हैं, खासतौर पर पेट की बढ़ती चर्बी तो लगभग हर महिला के लिए परेशानी का सबब है। क्‍योंकि इसे कम करना बहुत ही मुश्किल होता है। शरीर की बढ़ी हुई चर्बी से न केवल आपकी पर्सनैलिटी कम करती है, बल्कि कई तरह की बीमारियों का भी कारण बनती है। मोटापे से आप डायबिटीज, हार्ट डिजीज, अर्थराइटिस, पेट की कई प्रॉब्‍लम्‍स के शिकार हो सकती है। साथ ही मोटापे के कारण आपको हमेशा आलसी व थका हुआ महसूस होता है, जिसका आपका मन किसी काम में नहीं लगता है। इसके अलावा पेट की बढ़ी हुई चर्बी के कारण आप अपनी पसंद की ड्रेसेस भी नहीं पहन सकती हैं। लेकिन अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं क्‍योंकि आज हम आपको कुछ ऐसे योगासन के बारे में बता रहे है जिससे न केवल आपकी पेट की चर्बी कम होगी बल्कि आपका शरीर भी पूरी तरह से फिट रहेगा। आइए जानें कौन से है ये 3 योगासन और इसे कैसे करना चाहिए।   

इसे जरूर पढ़ें: रोजाना करेंगी ये 2 प्राणायाम तो वजन होगा कम और स्किन करेगी ग्‍लो

पादहस्तासन

padahastasana for belly fat

हर महिला चाहती हैं कि उसका पेट फ्लैट हो। लेकिन पेट की चर्बी को कम करना किसी टास्‍क से कम नहीं है। लेकिन रोजाना पादहस्तासन करना इसके लिए सबसे अच्‍छा उपाय है। यह आसन पेट के पास जमा चर्बी को कम करने में हेल्‍प करता है। पादहस्‍तासन का नाम दो शब्‍दों पद और हस्‍त के मेल से बना है। पद का मतलब पैर या हस्‍त का मतलब हाथ है। इस आसन को करने से दिल से संबंधित बीमारियों को खत्‍म किया जा सकता है और हेल्‍थ भी अच्‍छी रहती है। पादहस्तासन करने से क्‍या सच में पेट की चर्बी कम होती है। इस बारे में हमने स्‍वामी परमानंद प्राकृतिक चिकित्‍सालय योग एवं अनुसंधान केन्‍द्र की आयुर्वेदिक डॉक्‍टर दुर्गा अरुंद से बात की तब उन्‍होंने हमें बताया कि ''पादहस्‍तासन रेगुलर करने से आप 1 महीने में ही अपने पेट की चर्बी को कम कर सकती हैं।''

पादहस्तासन करने का तरीका

  • पादहस्तासन करने के लिए सबसे पहले आप सीधे खड़ी हो जाए। 
  • अब धीरे-धीरे अपने हिप्‍स से झुकते हुए अपने हाथों की अंगुलियों से पैरों को छूने की कोशिश करें। 
  • कुछ सेकेंड इसी पॉजीशन में रहकर दोबारा पहली पॉजीशन में वापस आ जाए। 
  • 5 से 7 बार ऐसा करें।

पादहस्तासन करने के फायदे

  • झुकने से पेट पर प्रेशर पड़ता है और पेट की चर्बी कम होती है।
  • मसल्‍स की कमजोरी को दूर करता है। 
  • पेट की समस्याएं जैसी अपच, मसल्‍स की कमजोरी, पेट का फूलना जैसी समस्या कम होती है।
  • शरीर में लचीलापन आता है।
  • थकान दूर होती है और एकाग्रता बढ़ती है।
  • बच्चों में लंबाई न बढ़ने की समस्या दूर होती है।

कपालभाति प्राणायाम

yogasan for belly fat INSIDE

यूं तो योग की हर क्रिया बहुत अच्‍छी होती है, लेकिन बात जब कपालभाती प्राणायाम की होती है तो इसे जीवन की संजीवनी कहा जाता है। योग के आसनों में यह सबसे कारगर प्राणायाम माना जाता है। इसे करने से भी आप अपना पेट का फैट तेजी से कम कर सकती हैं। ग्‍लोबल लिडिग होलिस्टिक के हेल्‍थ गुरु और कॉर्पोरेट लाइफ कोच, डॉक्‍टर मिकी मेहता का कहना है कि ''रेगलुर प्राणायाम करने से आपके पेडू के हिस्से दुरुस्त होते हैं और वजन कम करने में हेल्‍प मिलती है।  ऑक्सीजन के स्थानांतरण को होने दें और इसे आत्म-अनुशासन से प्राप्त किया जा सकता है। इससे मोटापे में काफी कमी आती है।''

कपालभाति प्राणायाम कैसे करें

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Priyanka Vig (@priya.yog) onJul 18, 2019 at 11:19pm PDT

  • आरामदायक पॉजीशन में बैठकर सिर और रीढ़ की हड्डी को सीधा करते हुए हाथों को घुटनों पर ज्ञान मुद्रा में रखें। 
  • फिर आंखें बंद करके शरीर को ढीला छोड़ दें। अब दोनों नासिका से गहरी सांस लें। 
  • फिर पेट की मसल्‍स को सिकोड़ते हुए सांस को बाहर निकाल दें। 
  • शुरुआत में यह प्रक्रिया 10 मिनट तक करें इसके बाद आप इसे बढ़ा भी सकते है।

कपालभाति प्राणायाम के फायदे

  • शरीर में मेटाबॉलिजम को बढ़ाकर वजन कम करने में मदद करता है।
  • पेट की चर्बी को कम कर बॉडी शेप में लाने में मदद करता है।
  • डायबिटीज से पीड़ित लोगों के लिए लाभदायक होता है।
  • सांस के रोगों के लिए बेहद फायदेमंद होता है। 
  • तनाव को दूर करने में भी कपालभाति प्राणायाम बहुत अच्‍छा होता है।

परिवृत्त पार्श्वकोणासन

yoga to reduce belly fat in  week

शिल्‍पा शेट्टी को फिटनेस फ्रीक माना जाता है। वह फिट रहने के लिए एक्‍सरसाइज के साथ-साथ योग करना भी बहुत पसंद करती हैं। वह अपने फैंस को फिटनेस के लिए इंस्‍पायर करने के लिए अपनी योग की फोटोज और वीडियो अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर करती रहती हैं। कुछ दिनों पहले उन्‍होंने एक वीडियो पोस्ट किया जिसमें उन्हें कुछ चुनौतीपूर्ण योग जैसे परिवृत्त पार्श्वकोणासन और प्रसारित पादोत्तासन कर रही थी। उसने वीडियो के कैप्‍शन में लिखा है कि, ''परिवृत्त पार्श्वकोणासन या रिवाइज्ड साइड एंगल पोज के कई फायदे हैं, ये चेस्‍ट, पीठ, क्वाड्रिसेप्स और काफ मसल्‍स को मजबूत करता है, डाइजेशन में सुधार, कब्‍ज की समस्‍या को दूर और आपको फ्लैट टमी पाने में हेल्‍प करता हैं। इसके अलावा ये ब्रोंकाइटिस, अस्थमा और सांस लेने की समस्याओं को भी दूर करने में हेल्‍प करता है।''

परिवृत्त पार्श्वकोणासन करने का तरीका

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Shilpa Shetty Kundra (@theshilpashetty) onFeb 17, 2019 at 9:38pm PST

  • इस आसन को करने के लिए ताड़ासन की स्थिति में खड़े हो जाएं।
  • फिर अपने पैरों को 4 से 4.5 फीट तक खोलें। 
  • अब अपने दोनों हाथों को दोनों दिशाओं में खोलें। 
  • इसके बाद अपने बाएं हाथ को दाहिने पंजे के पास झुकाकर लाएं और हथेली की जमीन पर रख दें। 
  • अब अपने दाएं हाथ को ऊपर की दिशा में ही सीधा रखें। 
  • इस पॉजीशन में 10 सेकंड तक रुके उसके बाद अपनी पहली वाली पॉजीशन आ जाएं। 
  • अब इस प्रक्रिया को दूसरे हाथ से करें। इस प्रक्रिया को 10 बार दोहराएं।

परिवृत्त पार्श्वकोणासन करने के फायदे

  • टांगों, घुटनों और टखनों में स्‍ट्रेच आता है जिससे वह मजबूत बनते है।
  • शरीर के निचले हिस्से खासकर पेट, थाइज और हिप्स में जमा चर्बी को कम करता है।
  • कमर दर्द, पीठ, पैर और जोड़ों के दर्द में भी फायदेमंद होता है।
  • पेट की समस्‍याओं को दूर करने में मददगार। 
  • अस्थमा और सांस लेने की समस्याओं को भी दूर करने में हेल्‍प करता है।

आप भी रोजाना इन 3 योगासन को करके पेट की चर्बी को तेजी से कम कर सकती हैं।