यूं तो बॉडी फैट को कम करना मुश्किल होता हैं लेकिन फिर भी कोशिश करने से इसे कम किया जा सकता है। लेकिन पेट के जहरीले फैट को कम करना बहुत ही मुश्किल होता है। महीनों डाइट और एक्‍सरसाइज करने के बावजूद हाथ, पैर, थाई और हिप्‍स का फैट तो कम हो जाता है लेकिन पेट पर जरा भी असर नहीं होता है। अगर आप भी पेट की चर्बी से परेशान हैं और बहुत कोशिशों के बावजूद भी पेट का जिद्दी फैट कम नहीं हो रहा है तो आप इस आर्टिकल में एक्‍सपर्ट के दिए टिप्‍स को आजमाएं। 

मेटाबोलिक कंसल्टेंट, स्मार्ट मेटाबोलिक एंटी एजिंग सेंटर की डॉक्‍टर निधि गुप्ता ने हमारे साथ कुछ टिप्‍स शेयर किए हैं। निधि गुप्‍ता का कहना हैं कि हालांकि आनुवांशिकी से लेकर बढ़ती उम्र तक पेट पर चर्बी जमने के बहुत सारे कारण है, लेकिन सबसे बड़ा दोषी इवोलुशन और फीमेल हार्मोन है। बॉडी प्राथमिकता के रूप में कमर को फैट भेजती है ताकि आपातकालीन स्‍थिति में इसकी आवश्‍यकता होने पर संग्रहीत ऊर्जा महत्वपूर्ण अंगों के पास हो। लेकिन लाइफस्‍टाइल और पर्यावरणीय कारक जैसे खान-पान में गड़बड़ी, लंबे समय तक बैठकर काम करना, चीनी को बहुत ज्‍यादा सेवन, प्रोसेस्‍ड फूड्स, स्‍ट्रेस, नींद की कमी, मिनरल की कमी और शारीरिक हार्मोन का असंतुलन जैसे इंसुलिन, कोर्टिसोल, प्रोजेस्‍टेरोन आदि पेट में चर्बी का कारण बनता है।

इसे जरूर पढ़ें: खाना खाने से वजन नहीं बढता, ये आदतें अपनाएं मोटापा घटाएं

belly fat expert tips inside
 
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डायबिटीज एंड डाइजेस्टिव एंड किडनी डिसऑर्डर (NIDDK) में कहा गया है कि बॉडी का एक्‍स्‍ट्रा फैट टाइप-2 डायबिटीज, हार्ट डिजीज, मेटाबोलिक सिंड्रोम, कैंसर, स्‍लीप एपनिया, ऑस्टियोआर्थराइटिस और अन्य खतरे को बढ़ता है।

डाइट की है मुख्‍य भूमिका

लेकिन अच्‍छी खबर यह है कि डाइट में बदलाव करके आप पेट के जिद्दी फैट को आसानी से कम कर फ्लैट टमी पा सकती हैं। इसके लिए सही तरह की डाइट लेना सबसे ज्‍यादा जरूरी है। सब्जियां, फल, नट्स, बीज, क्लिन मीट, मछली, फलियां, हाई फाइबर फूड्स से भरपूर डाइट से आप परफेक्‍ट बैली फैट के सपने को पूरा कर सकती है। रुक-रुक कर उपवास का अभ्यास करके आप क्या खाते हैं और कब खाते हैं, इस बात का ध्यान रखें।

belly fat diet

शुगरी फूड्स से बचना चाहिए

हाई शुगर फूड और ड्रिंक से आपको हर कीमत पर बचाना चाहिए। गेहूं और चावल जैसे अनाजों को थोड़ा कंट्रोल मात्रा में खाएं और मेटाबॉलिज्‍म बढ़ाने में मददगार काली मिर्च, मिर्च, बेरी और आयोडीन जैसे फूड्स को बढ़ावा दें। लेकिन डाइट के साथ-साथ आपको अपने रुटीन में हाई इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग को भी शामिल करना होगा। साथ ही भरपूर नींद लेने से भी आपकी बॉडी नेचुरल तरीके हार्मोन के उत्पादन में मदद मिलेंगी।



बढ़ती उम्र के साथ ही महिलाओं का बैली फैट बढ़ने लगता है। महिला हार्मोन का असंतुलन इसका सबसे बड़ा कारण है। एक बार जब आप 30 साल की उम्र को पार कर लेती हैं तो महिलाएं प्रति वर्ष 1 प्रतिशत की दर से महत्वपूर्ण हार्मोन 'प्रोजेस्टेरोन' खो देती हैं। एक अच्छे हार्मोनल संतुलन का आपकी बॉडी के सारे कामों पर सीधा असर पड़ता है - बॉडी में फैट, पेट के साइज से लेकर सोने और तनाव के लेवल से लेकर पूरी हेल्‍थ तक। 

इसे जरूर पढ़ें: लटकते हुए पेट से हैं परेशान तो आजमाएं ये टिप्स कुछ दिनों में हो जाएगा कमर का साइज जीरो

इन सभी चीजों का ध्‍यान रखकर आप अपने बैली फैट को तेजी से कम कर सकती हैं। तो देर किस बात की अगर आप भी पेट पर जमा चर्बी से परेशान हैं तो आज से ही एक्‍सपर्ट के इन टिप्‍स को अपनाएं।