क्या आपने कभी अपने पैरों को दीवार के सहारे ऊपर उठाने की कोशिश की है? अगर नहीं, तो इसे आपको जरूर करना चाहिए, क्‍योंकि यह आपकी हेल्‍थ के लिए बहुत अच्‍छा होता है। अगर आप इस अद्भुत योग को बेहतर तरीके से करना शुरू करते हैं तो यह आपकी हेल्‍थ को कई तरीकों से फायदा पहुंचाता है। जी हां ब्‍लड सर्कुलेशन में सुधार करने से लेकर एनर्जी बढ़ाने और एड़ी के दर्द से राहत पाने के लिए इस पोज का करें। इसके अलावा यह टखनों और पैरों की सूजन को दूर करने वाला सबसे अच्‍छा पोज है। इस पोज को विपरीत करणी या लेग्‍स अप वॉल पोज के नाम से जाना जाता है, इस पोज को मन और बॉडी के लिए सबसे शांत और अच्‍छे पोज में से एक माना जाता है।  

जी हां थका देने वाले दिन के बाद कौन रिलैक्‍स नहीं करना चाहता? लेकिन सोफे पर अपने पैर रखने के बजाय, उन्हें दीवार पर ऊपर उठाने की कोशिश करें - यह पोज न केवल आपको रिलैक्‍स करने में मदद करता है, बल्कि आपके लिए कई तरह से फायदेमंद है। अधिक फायदे पाने के लिए हर सुबह और शाम इस योग मुद्रा को करने की कोशिश करें - बस सुनिश्चित करें कि आप इस आसन को खाली पेट ही करें। लेग्‍स अप वॉल पोज एक आसान पोज है जिसमें बहुत अधिक शक्ति या लचीलेपन की जरूरत नहीं होती है और यह ज्यादातर लोगों द्वारा किया जा सकता है जब तक कि चिकित्सा देखरेख में न हो। क्‍या यह योग हमारे लिए इतना फायदेमंद है यह जानने के लिए हमने फिटनेस एक्‍सपर्ट टीना चौधरी से बात की तब उन्‍होंने हमें इसके फायदों के बारे में विस्‍तार से बताया। आइए जानें उन्‍होंने क्‍या कहा? 

इसे जरूर पढ़ें: ये 4 स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज पैरों के लिए है बहुत फायदेमंद, दर्द से लेकर पॉश्चर तक होगा ऐसा असर

एक्‍सपर्ट की राय 

टीना का कहना हैं कि ''इसे करने से ब्‍लड सर्कुलेशन इम्‍प्रूव होता है और ब्‍लड सर्कुलेशन इम्‍प्रूव होने से आपकी ज्‍यादातर बीमारियां अपने आप ठीक हो जाती है। इसे करने से हम रिलैक्‍स हो जाते हैं, हाइपरटेंशन ठीक हो जाता है, हार्ट ठीक होता है और पीसीओडी की समस्‍या भी ठीक होती है। ये सारी चीजें ब्‍लड सर्कुलेशन के इम्‍प्रूव होने से होती है। आप दूसरे शब्‍दों में कह सकते हैं कि इस पोज को करने से आपकी ब्‍लड सर्कुलेशन से जुड़ी सारी समस्‍याएं दूर हो जाती है। हम अपनी बॉडी को किसी भी ऐसी पोजिशन में घूमते हैं जहां हम ग्रेविटी के विपरीत जाते हैं तो हमारा ब्‍लड सर्कुलेशन इम्‍प्रूव होगा ही होगा। जब आप लेग्‍स उठाते हैं तो हमारे पैरों और घुटनों की अच्‍छे से स्‍ट्रेचिंग हो जाती है। इसके अलावा हमारे घुटनों और पीठ का कनेक्‍शन होता है। पीठ और घुटनों में एक जैसी नर्व जा रही होती है। इसलिए जब पैरों ऊपर उठाते समय जब हमारे घुटनों में स्‍ट्रेच आता है और वह सीधे होते हैं तो हमारी पीठ भी सीधी होती है। लेकिन आपको इस पोज को हैवी खाना खाने के बाद नहीं करना है क्‍योंकि इससे हार्ट पर प्रेशर आता है और डाइजेशन पर असर पड़ता है।'' 

टीना ने आगे बताया, ''इस पोज को करने की हर किसी की क्षमता अलग होती है। हो सकता है कि किसी को लोअर बैक को उस पोजिशन में लाने में दिक्‍कत हो। लेकिन जो रनिंग करता है, वह इस पोज को फटाफट कर लेता है। किसी के घुटनों में दिक्‍कत हो तो वह अपनी टांगों को सीधा कर ही न पाएं। इसलिए इसे हमें धीरे-धीरे बढ़ाना चाहिए। इसे आप सुबह, दोपहर या रात को खाली पेट कर सकती हैं। शुरुआत में 30 सेकंड के 3 स्‍टेप्‍स में 3 बार करना चाहिए।''   

simply  lifting inside

लेग्‍स अप वॉल पोज के फायदे

  • पीठ के निचले हिस्से और हैमस्ट्रिंग को स्ट्रेच करने में हेल्‍प करता है।
  • पाचन और नींद में सुधार करने का एक शानदार तरीका है।
  • लंबे समय तक खड़े रहने या बैठने के कारण सूजन वाले पैरों और टखनों को राहत देने में मदद करता है।
  • मासिक धर्म की ऐंठन से राहत के लिए एक अच्छी एक्‍सरसाइज माना जाता है।

Recommended Video

लेग्‍स अप वॉल पोज करने का तरीका

  • जैसा कि हम आपको बता चुके हैं कि यह एक्‍सरसाइज सुबह और शाम खाली पेट करने पर सबसे अच्छा होता है। इस पोज़ के लिए किसी वार्म-अप की जरूरत नहीं है। 
  • इस आसन को करने के लिए आप सबसे पहले पीठ के बल लेट जाएं और अपने हिप्‍स को दीवार के करीब रखें। 
  • अब धीरे-धीरे अपने दोनों पैरों को दीवार के सहारे ऊपर उठाएं। 
  • जी हां अपने दोनों पैरों को 90 डिग्री कोण तक ऊपर उठाएं।
  • आप चाहे तो शुरुआत में अपने हिप्‍स के नीचे किसी तकिये को लगा सकते हैं।
  • सुनिश्चित करें कि आपकी पीठ और सिर फर्श पर आराम से हो।
  • अपनी आंखों को बंद करें और गहरी सांस लें। 
  • इस स्थिति में आप कम से कम 5 मिनट के लिए रुकें।
  • पोजिशन से बाहर आने के लिए, पहले घुटनों को मोड़ें और खुद को दीवार से दूर धकेलें।

सावधानी

ऐसे लोगों को एक्‍सरसाइज करने से बचना चाहिए। जिन्‍हें ग्लूकोमा, हाई ब्‍लड प्रेशर, हर्निया की समस्‍या है। इसके अलावा गर्भवती महिलाओं को भी इस एक्‍सरसाइज को नहीं करना चाहिए। 

तो खुद को फिट रखने के लिए आप कब कर रही हैं ये एक्‍सरसाइज। फिटनेस से जुड़ी और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुडे रहें।