पेट में दर्द हो या वजन कम करना हो, हमारे घर के बुजुर्ग हमें हमेशा अजवाइन खाने की सलाह देते हैं। मैं तो जोड़ों के दर्द से बचने के लिए रोजाना इसकी आधा चम्‍मच का सेवन करती हूं और इससे मुझे दर्द में बहुत फर्क महसूस होता है। इसके अलावा मेरी बेटी को पीरियड्स के दौरान पेट और कमर में बहुत दर्द और ऐंठन महसूस होती है। ऐसे में उसे अजवाइन का काढ़ा बनाकर देने से काफी राहत महसूस होती है। इन सभी के बारे में मुझे मेरी दादी मां ने बताया था। 

आज यह सभी उपाय मैं आपके साथ शेयर कर रही हूं क्‍योंकि ज्‍यादातर महिलाओं को इस बात की जानकारी है कि यह हमारी हेल्‍थ के लिए अच्‍छा होता है लेकिन इसका इस्‍तेमाल किस तरह से करना चाहिए, वह इस बात से अनजान हैं। आप यह कह सकती हैं कि अजवाइन आपकी रोजमर्रा की छोटी-मोटी बीमारियों का रामबाण इलाज है। इसलिए आज हम आपके लिए समस्‍या के हिसाब से इसका इस्‍तेमाल करने का तरीका लेकर आए हैं। आइए जानें इसका इस्‍तेमाल बीमारियों से छुटकारा पाने के लिए कैसे किया जा सकता है।  

जी हां अजावइन भारतीय घरों में सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला मसाला है। यह कई व्यंजनों के स्वाद को बढ़ाने वाले विशिष्ट स्वाद के लिए जाना जाता है, अजवाइन को एक दवा के रूप में भी काफी सराहा जाता है। इसका इस्‍तेमाल आमतौर पर आयुर्वेदिक और सिद्ध चिकित्सा में किया जाता है। यह कई तरह की समस्‍याओं जैसे पेट दर्द, जलन और अपच, आम सर्दी, दांत दर्द, कान का दर्द, गठिया के दर्द के साथ-साथ बालों के समय से पहले झड़ने के उपाय के रूप में काम करता है।

कोल्‍ड और कफ का इलाज

uses of carom for cold and cough inside

यह छोटे से दिखने वाले बीज सर्दी, खांसी और सांस की बीमारियों के लिए आसान उपाय हैं। यह नाक की रुकावटों को खोलकर, बलगम के स्राव को कम करने, साइनस के तनाव को कम करने और ब्रोन्कियल ट्यूबों को चौड़ा करके सांस लेना आसान करते हैं।

इसे जरूर पढ़ें:डिलीवरी के बाद महिलाओं को दी जाती है अजवाइन, एक्‍सपर्ट से जानिए क्‍यों? 

इस्‍तेमाल का तरीका

  • अजवाइन और गुड़ को बराबर मात्रा में लें और इसे आंच पर गर्म करके पेस्ट बना लें। 
  • सर्दी, दमा और ब्रोंकाइटिस से निपटने के लिए दिन में दो बार 2 चम्मच पेस्ट का सेवन करें। 
  • अजवाइन को पानी में उबालें और खांसी से राहत के लिए गर्म चाय जैसे पानी का सेवन करें।

पीरियड्स में दर्द और ऐंठन का इलाज

uses of carom seeds for periods pain inside

अजवाइन में मौजूद थाइमोल के एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण दर्द जैसे पीरियड क्रैम्प्स, पीएमएस और सिरदर्द को दूर करते हैं। इसके एंटीबायोटिक और एनेस्थेटिक गुण अर्थराइटिस के कारण होने वाले दर्द और सूजन से राहत दिलाने में बहुत फायदेमंद होते हैं।

इस्‍तेमाल का तरीका

  • एक कप पानी में 1 छोटा चम्मच अजवाइन मिलाएं और 5 मिनट के लिए लो आंच पर उबालें। 
  • इसे छानें और घूंट कर-करके पीएं और पीएमएस और ऐंठन को शांत करें। 
  • आप चाहे तो दूसरे तरीके से भी इसका इस्‍तेमाल कर सकती हैं। इसके लिए बस थोड़ी अजवाइन लेकर इसे भूनें और इसे पानी के साथ लगभग 1/2 चम्मच चबाएं।

मुंह की दुर्गंध दूर करें

uses of carom seeds for mouth smell inside

कभी-कभी मुंह की ठीक से सफाई नहीं करने और कई बार खास गंध वाली चीजों का सेवन करने से मुंह या सांसों में बदबू आने लगती है। इसके अलावा सांसों से बदबू कई बार डाइजेशन के ठीक नहीं होने के कारण भी आती है। ऐसे में आप अजवाइन का ये रामबाण नुस्खा जरूर अपनाएं।

इस्‍तेमाल का तरीका 

  • 1 चम्मच अजवाइन और एक चुटकी नमक युक्त पानी के साथ गार्गल करें। 
  • दिन में कम से कम दो बार ऐसा करने से दांत दर्द से छुटकारा मिलता है। 
  • यह मिश्रण एक अद्भुत माउथवॉश के रूप में भी काम करता है। 
  • इसका इस्‍तेमाल ओरल हाइजीन को बनाए रखने के लिए किया जा सकता है।

डाइजेशन के लिए अच्‍छा

uses of carom seeds for digestion inside  

इसे डाइजेशन को दुरुस्‍त रखने के लिए भी जाना जाता है। अजवाइन में एक्टिव एंजाइम गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कामकाज को बढ़ावा देते हैं। यह पेट के एसिड को स्‍मूथ फ्लो की सुविधा देता है और पेट में दर्द, सूजन, गैस और अपच से राहत प्रदान करता है। अजाइवन पेप्टिक अल्सर, पेट और आंतों में घावों के लिए भी एक अच्‍छा उपाय है।

इस्‍तेमाल का तरीका

  • 1 चम्मच जीरा, 1 चम्मच अजाइवन और 1/2 चम्मच अदरक पाउडर का मिश्रण तैयार करें।
  • हार्टबर्न से राहत पाने के लिए इस मिश्रण को पानी में मिलाकर रोजाना सेवन करें।

Recommended Video

वेट लॉस में मददगार

uses of carom seeds for weight loss inside

बढ़ता वजन हर किसी के लिए परेशानी बन जाता है, यह ना सिर्फ आपकी पर्सनैलिटी को खराब करता है बल्कि हेल्‍थ से जुड़ी कई समस्‍याओं जैसे डायबिटीज, ब्लड प्रेशर आदि का कारण भी बनता है। इसलिए ज्‍यादातर लोग इसे कम करने के उपायों की तलाश में रहते हैं। ऐसे लोगों के लिए अजवाइन बहुत अच्‍छा इलाज हो सकता है। आयुर्वेद एक्‍सपर्ट डॉक्‍टर अबरार मुल्तानी का कहना है कि ''इसमें फाइबर, कार्बोहाइड्रेट्, प्रोटीन और कई तरह के मिनरल्स जैसे फॉस्फोरस, कैल्शियम, आयरन और निकोटिनिक एसिड आदि पाए जाते हैं।''

इस्‍तेमाल का तरीका

  • अजवाइन का इस्‍तेमाल करने के लिए 1 चम्‍मच अजवाइन लें। 
  • फिर इसे एक गिलास पानी में भिगोकर रात भर के लिए छोड़ दें। 
  • अगली सुबह इस पानी को उबालकर छान लें। 
  • फिर इस पानी को ठंडा कर लें और खाली पेट सुबह-सुबह इसका सेवन करें।

सावधानी

अजवाइन का इस्‍तेमाल थोड़ी मात्रा में करने से आपको कई तरह के हेल्‍थ बेनिफिट्स मिल सकते हैं। लेकिन इस बात का ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि प्रेग्‍नेंट महिलाओं और नर्सिंग माताओं को अजवाइन को बहुत अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि इस मसाले में मौजूद कुछ तत्‍व जन्म दोष और गर्भपात का कारण बन सकते हैं। इसके अलावा इसके बहुत ज्‍यादा सेवन से शरीर में गर्मी बढ़ने से हार्टबर्न, चक्कर आना और मतली जैसी समस्‍याएं भी हो सकती हैं। 

आप भी हेल्‍थ से जुड़ी अपनी समस्‍याओं को दूर करने के लिए अजवाइन का इस्‍तेमाल कर सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com