'मैंने प्यार किया' की एक्‍ट्रेस भाग्यश्री अपने इंस्‍टाग्राम के माध्‍यम से हर मंगलवार को फैन्‍स के साथ स्किनकेयर से लेकर हेल्‍थ तक, कई DIY घरेलू नुस्‍खे शेयर करती रहती हैं। हाल ही में उन्‍होंने मानसून में परेशान करने वाली सबसे आम समस्‍या यानि सर्दी और जुकाम का एक जबरदस्‍त देसी नुस्‍खा शेयर किया है। मानसून में सर्दी और जुकाम की समस्‍या आपको भी सताती है, तो इस नुस्‍खे को आप जरूर ट्राई करें। इस नुस्‍खे की सबसे अच्‍छी बात यह है कि घर में मौजूद चीजों से बनाया जा सकता है और आपके साथ-साथ बच्‍चों के लिए भी बहुत अच्‍छा है। 

हम सभी को मानसून बहुत पसंद होता है, क्योंकि यह चिलचिलाती गर्मी से राहत देता है। एक गर्म और उमस भरे दिन के बाद, बारिश निश्चित रूप से किसी के लिए भी एक सुखद अहसास हो सकता है। हालांकि, इस तथ्य से भी इंकार नहीं किया जा सकता है कि बारिश आपको कुछ मौसमी बीमारियों का उपहार भी दे सकती है। बरसात के मौसम में हमारी इम्‍यूनिटी कमजोर हो जाती है और इससे हम वाटर बोर्न डिजीज की चपेट में आ जाते हैं। 

इस मौसम में सबसे ज्‍यादा  सर्दी और जुकाम की समस्‍या लगभग हर किसी को परेशान करती है। बच्‍चे ही नहीं बल्कि बड़े भी इसकी चपेट में आसानी से आ जाते हैं। जी हां तापमान में वृद्धि और गिरावट, जो इस बरसात के मौसम में होती है, हमारे शरीर को बैक्टीरिया / वायरल रोगों से ग्रस्त कर देती है, जिसके परिणामस्वरूप सर्दी और फ्लू हो जाता है। लेकिन अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है, क्‍योंकि आप भाग्‍यश्री का बताया नुस्‍खा आजमा सकती हैं।

भाग्‍यश्री ने बताया देसी नुस्‍खा

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Bhagyashree (@bhagyashree.online)

इंस्‍टाग्राम पर नुस्‍खा शेयर करते हुए भाग्‍यश्री ने कैप्‍शन में लिखा, ''मानसून मौज-मस्ती का मौसम है, पोखरों में छींटे और भीगने का। अपने बच्चों को ये बचपन की यादें बनाने से न रोकें। बस उन्हें मानसून की सर्दी और खांसी से लड़ने के लिए एक मजबूत इम्‍यूनिटर दें। नियमित रूप से विटामिन-सी लेने से (जुकाम होने के बाद नहीं) निःसंदेह इम्‍यूनिटी मजबूत होती है। लेकिन इसके अलावा मैं अपने बच्चों को 5 तुलसी के पत्ते, अदरक का एक टुकड़ा और 1/2 चम्मच शहद का मिश्रण देती हूं। इसे बेहतर बनाने के लिए आप इसमें 2 ताज़ी पिसी हुई काली मिर्च डालें। दिन में दो बार लेने से बच्‍चे बारिश में दिल खोलकर खेल सकते हैं। तो आज मंगलवार का टिप सभी माताओं के लिए है। बच्चों को संयमित न करें, उन्हें बेहतर तरीके से सुसज्जित करें।'' 

इसे जरूर पढ़ें:  बदलते मौसम में कोल्‍ड और कफ से लड़ने के लिए ये 3 अद्भुत आयुर्वेदिक नुस्‍खे आजमाएं

देसी नुस्‍खे के फायदे

इस नुस्‍खे में मौजूद सभी चीजें सर्दी-जुकाम का रामबाण इलाज करती हैं। आप मानसून में इस समस्‍या से बचे रहने के लिए भाग्‍यश्री द्वारा बताए नुस्‍खे को बनाकर आज से ही बच्‍चों को देना शुरू कर दें। आप खुद भी इसे ले सकती हैं।   

cold and cough ayurvedic remedy

तुलसी के पत्ते

आयुर्वेद में, तुलसी को "प्रकृति की मां" और "जड़ी-बूटियों की रानी" के रूप में जाना जाता है। तुलसी के पत्ते आम सर्दी के साथ-साथ खांसी से लड़ने की व्यक्ति की क्षमता में सुधार करने में मदद करते हैं। तुलसी के पत्ते एंटीबॉडी के उत्पादन को बढ़ाते हैं, जिससे किसी भी संक्रमण की शुरुआत को रोका जा सकता है। तुलसी में खांसी दूर करने वाले गुण होते हैं। यह चिपचिपे बलगम को बाहर निकालने में आपकी मदद करके वायुमार्ग को शांत करने में मदद करते हैं।

शहद

एंटीमाइक्रोबायल गुणों से भरपूर शहद न केवल स्वादिष्‍ट होता है, बल्कि गले की खराश को कम करने में भी मदद करता है। यह एक प्रभावी कफ सप्रेसेंट है। शहद गाढ़े बलगम को ढीला करके और उसे बाहर निकालने में मदद करके छाती में जमाव से राहत देता है। यह गीली खांसी को कम करने में मदद करता है। इसके साथ ही शहद खांसी को ठीक करने का सबसे अच्‍छा तरीका है। जर्नल पीडियाट्रिक क्लीनिक ऑफ नॉर्थ अमेरिका में प्रकाशित एक अध्ययन में, 2 साल और उससे अधिक उम्र के बच्चों को ऊपरी श्वसन पथ के संक्रमण के कारण खांसी हुई, उन्हें सोते समय 2 चम्मच शहद दिया गया। शहद न सिर्फ रात की खांसी को कम करता है, बल्कि नींद में भी सुधार करता है।

अदरक

ginger for cold and cough

अदरक की जड़ के स्वास्थ्य लाभों के बारे में सदियों से बताया जाता रहा है, लेकिन अब हमारे पास इसके उपचारात्मक गुणों का वैज्ञानिक प्रमाण है। अदरक की जड़ के कुछ टुकड़े खांसी या गले में खराश को शांत करने में मदद कर सकते हैं। अदरक कई तरह से गले की खराश में मदद करता है। उदाहरण के लिए, यह एक एंटी-इंफ्लेमेटरी के रूप में कुछ दर्द से राहत प्रदान करता है। यह गले में खराश पैदा करने वाले संक्रमण से लड़ने में मदद करके इम्‍यूनिटी को भी बढ़ाता है। यह भी माना जाता है कि अदरक में एंटीमाइक्रोबील गुण होते हैं, जो संक्रमण (बैक्टीरिया या वायरल) से लड़ने में मदद कर सकते हैं, जिसमें गले में खराश भी शामिल है।

इसे जरूर पढ़ें:बिना सुस्‍ती लाये सर्दी-जुकाम में तुंरत राहत देंगे ये 5 घरेलू नुस्‍खे

काली मिर्च

काली मिर्च विटामिन-सी से भी समृद्ध होती है, जो प्राकृतिक रूप से इम्‍यूनिटी को बढ़ाती है और एक उत्कृष्ट एंटीबायोटिक के रूप में काम करती है। अधिकतम लाभ के लिए काली मिर्च को कुचलकर इस्‍तेमाल करना सबसे अच्छा होता है। काली मिर्च चेस्‍ट कंजेशन को कम करने और बंद नाक को खोलने में भी मदद करती है। इसके अलावा सर्दी-खांसी की समस्‍या को दूर करने के लिए काली मिर्च बहुत फायदेमंद है। इसमें पाइपरिन नामक कंपाउंड होता है, जो इस समस्‍या से कुछ ही वक्‍त में छुटकारा दिला देता है।  

मानसून में होने वाले सर्दी-जुकाम की समस्‍या से खुद को और बच्‍चों को बचाने के लिए आप आज से ही भाग्‍यश्री के बताए इस नुस्‍खे को आजमाएं। आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Story Inputs and Image Credit- Bhagyashree/Instagram & Freepik.com