महामारी का रूप ले चुका कोरोनावायरस आज सबके लिए सबसे बड़ी चुनौती बना हुआ है। जी हां कोरोना वायरस ने पूरे विश्व में कोहराम मचा रखा है और इसी के चलते सभी लोग चिंता में हैं। सा ही लोगों के मन में डर इसलिए भी ज्‍यादा है, क्‍योंकि अभी तक इस वायरस से लड़ने की कोई दवा या इंजेक्‍शन नहीं आया है। हालांकि कोरोना वायरस से निपटने के लिए लगातार जरूरी दिशा-निर्देश जारी किये जा रहे हैं। डब्ल्यूएचओ ने अब कोरोना के खतरे को देखते हुए प्रेग्‍नेंट महिलाओं या हाल में बच्चों को जन्म देने जा रही महिलाओं समेत नवजात बच्चों को सावधान रहने के लिये कहा है। लेकिन प्रेग्नेंट महिलाएं और नई माताओं को भी काफी चिंता सता रही है। ये महामारी उनपर कितना असर कर सकती है और उन्हें क्या सावधानी बरतनी चाहिए। अगर आप इस समय प्रेग्‍नेंट हैं तो आपके मन में भी कोरोना वायरस को लेकर कई तरह के सवाल उठ रहे होंगे। तो अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं क्‍योंकि इस आर्टिकल में आपके मन में उठ रहे सवालों का जवाब मिल जाएगा। जी हां हमने Cocoon फर्टिलिटी की आइवीएफ कंसलटेंट और इंडोस्कोपिक सर्जन Dr. Rajalaxmi Walavalkar से प्रेग्‍नेंसी और कोरोनावायरस से जुड़े कुछ सवाल किए तब उन्‍होंने हमें इसके बारे में विस्‍तार से बताया।

इसे जरूर पढ़ें: Coronavirus से बचने के लिए इम्यूनिटी बढ़ाने के तरीके, PM Modi ने खुद किए शेयर

pregnancy coronavirus inside

सवाल: प्रेग्‍नेंसी में कोरोना वायरस के क्‍या लक्षण होते हैं?

जवाब: प्रेग्‍नेंसी में कोरोना वायरस के लक्षणों में खांसी, ड्राई कफ, कोल्ड, सांस फूलने जैसे ही लक्षण देखने को मिलते हैं। कभी-कभी डायरिया भी हो सकता है।   

सवाल: क्‍या प्रेग्‍नेंसी में कोरोना वायरस के लक्षण अलग होते हैं?

जवाब: इस सवाल के जवाब में उन्‍होंने बताया कि प्रेग्‍नेंसी में कोरोना के लक्षण अलग नहीं होते, बल्कि वही होते हैं जो किसी को भी कोरोना वायरस के होने पर हो सकते हैं। 

Recommended Video

सवाल: क्‍या मिसकैरेज होने की संभावना बढ़ जाती है?

जवाब: उनका कहना है कि अभी तक ऐसा कुछ सिद्ध नहीं हुआ है। कोरोना वायरस और प्रत्यक्ष गर्भपात के कारण और गर्भपात का खतरा बढ़ने के बीच कोई लिंक नहीं है। हालांकि छोटे अध्ययन प्रीटरम लेबर के जोखिम को दर्शाते हैं। किसी भी कारण से अगर तेज बुखार होता है तो बुखार के कारण प्रेग्‍नेंट में मिसकैरेज का खतरा हो सकता है। कोरोना अलग नहीं है।

इसे जरूर पढ़ें: कोरोना वायरस के डर के बीच कैसे करवाएं ब्रेस्टफीडिंग, WHO ने जारी की गाइडलाइन्स

सवाल: होने वाले शिशु पर इसका क्‍या असर होता है?

जवाब: वर्तमान में ऐसा कोई डेटा नहीं है जिसमें प्रेग्‍नेंसी में कोरोना संक्रमण के संबंध में कोई खराबी नहीं दिखाई दी हो। जी हां ऐसा कुछ भी नहीं है जिससे यह साफ हो कि मां के कोरोना वायरस से संक्रमित होने से बच्चे पर असर पड़ता है।

pregnancy coronavirus inside

सवाल: प्रेग्‍नेंट को कोरोना वायरस से बचने के लिए अपनी केयर कैसे करनी चाहिए?

जवाब: प्रेग्‍नेंट को कोरोना वायरस से बचने के लिए कुछ बातों को ध्‍यान में रखना चाहिए, जैसे 

  • दूसरों से दूरी बनाए रखें। 
  • पर्सनल हाइजीन का ध्‍यान रखें। हाथों को साबुन से अच्‍छी तरह धोएं।  
  • भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें।
  • मास्क पहनें।
  • बाहर के सभी सामानों को साफ़ करें, जिन्हें अपने इस्‍तेमाल करना हो। 
  • उन लोगों के संपर्क में आने से बचें जिनमें फ्लू के लक्षण हो। 
  • डाइट में पोषक तत्‍वों को शामिल करें। 
  • विटामिन सी, डी और बी कॉम्‍प्‍लेक्‍स लें। 
  • ताजे और सब्जियां खाएं जो इम्‍यूनिटी में सुधार करते हैं।

सवाल: डॉक्‍टर के पास कब जाना चाहिए?

जवाब: अगर कोरोना का कोई भी लक्षण जैसे बुखार... या फ्लू दिखाई दें तो आपके डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें। 

अगर आप भी प्रेग्‍नेंट हैं तो कोरोना वायरस से बचने के लिए डॉक्‍टर द्वारा बताये उपायों को ध्‍यान में रखें।