आजकल की भागदौड़ और तनाव से भरपूर जीवन में महिलाओं को कई तरह की लाइफस्‍टाइल से जुड़ी समस्‍याओं से दो चार होना पड़ता है, जैसे डायबिटीज, वजन का बढ़ना, थायरॉयड, अर्थराइटिस आदि। इन सब के अलावा एक समस्‍या और भी है जिससे ज्‍यादातर महिलाएं बहुत ज्‍यादा परेशान रहती हैं और वह ब्‍लड प्रेशर की समस्‍या है। जिसमें हाई और लो दोनों तरह का ब्‍लड प्रेशर शामिल है। यह भी आधुनिक लाइफस्‍टाइल की सबसे बड़ी देन है। खान-पान की गलत आदतें, स्‍ट्रेस, एक्‍रसाइज की कमी और ठीक से नींद ना लेने के अलावा बॉडी में सोडियम इस समस्‍या का मुख्‍य कारण है। इसे साइलेंट किलर के नाम से भी जाना जाता है क्‍योंकि शुरुआत में इसका कोई भी लक्षण आसानी से दिखाई नहीं देता है। जब दिखाई देते है तो बहुत देर हो चुकी होती है। लेकिन इसे आप महसूस कर सकती हैं। इसलिए इसके लक्षणों के बारे में जानकारी होना बेहद जरूरी है ताकि समय पर इसकी जानकारी लेकर इस समस्‍या से आसानी से बचा जा सकें। आज हम आपको ऐसे ही 8 बदलावों के बारे में बता रहे हैं जिनसे आप आसानी से बॉडी में हाई या लो बीपी के बारे में जानकारी ले सकती हैं। लेकिन सबसे पहले हम हाई या लो ब्‍लड प्रेशर के बारे में विस्‍तार से जा लेते हैं।  

इसे जरूर पढ़ें: बिना medicine के ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने के 7 स्‍मार्ट तरीके

हाई ब्‍लड प्रेशर

हाई ब्‍लड प्रेशर एक गंभीर समस्‍या है। इसे हाइपरटेंशन भी कहते हैं। और इसे कंट्रोल करने के उपायों के बारे में बेहद जरूरी है। क्‍योंकि ऐसा न करने पर बॉडी के अन्‍य अंगों को नुकसान होने लगता है। यह बीमारी किसी भी उम्र के व्यक्ति को अपनी चपेट में ले सकती है। जी हां हाइपरटेंशन या हाई ब्‍लड प्रेशर, एक क्रोनिक मेडिकल कंडीशन है जिसमें धमनियों में ब्‍लड का प्रेशर बढ़ जाता है। प्रेशर बढ़ने के कारण, ब्‍लड की धमनियों में ब्‍लड सर्कुलेशन को बनाये रखने के लिये हार्ट को नॉर्मल से अधिक काम करना पड़ता है। आमतौर पर 120/80 को नॉर्मल ब्लड प्रेशर माना जाता है, लेकिन अगर इसका लेवल इससे ज्यादा होने लगे तो उसे हाई ब्‍लड प्रेशर माना जाता है। 

low blood pressure chart

लो ब्‍लड प्रेशर

ब्लड प्रेशर बताता है कि आपका हार्ट कितनी ताकत से ब्‍लड को आपकी बॉडी की तरफ खींचता है। आपका ब्लड प्रेशर को लेकर अक्सर हम परेशान रहते हैं और ज्‍यादातर लोग हाई ब्‍लड प्रेशर और उससे जुड़े खतरे को लेकर परेशान रहते हैं। लेकिन लो ब्लड प्रेशर भी हमारे लिए खतरनाक हो सकता है, जिसके बारे में हम कम बात करते है। आमतौर पर 120/80 को नॉर्मल ब्लड प्रेशर माना जाता है, लेकिन अगर इसका लेवल इससे कम होने लगे तो इसे लो ब्लड प्रेशर माना जाता है। लो ब्लड प्रेशर को हाइपोटेंशन भी कहा जाता है। ये ऐसी अवस्था है, जिसमें धमनियों में ब्‍लड का प्रेशर असामान्य रूप से कम हो जाता है।

हाई बीपी में बॉडी में बदलाव

  • हाई ब्लड प्रेशर में सिर में तेज दर्द होना।
  • सीने में आपको भारीपन और दर्द महसूस होना। 
  • थकावट और तनाव हमेशा बना रहता है।
  • हाई बीपी में अचानक से घबराहट होने लगती है।
  • चेहरे पर या हाथ पैरों में अचानक से सुन्नपन आना। 
  • खुद को कमजोर महसूस करना और आंखों से भी धुंधला दिखाई देना। 
  • कुछ भी बोलने में या समझने में कठिनाई का अनुभव होता है। 
  • सांस लेने में परेशानी महसूस होती है।
low blood pressure range

लो बीपी में बॉडी में बदलाव

  • लो बीपी होने पर भूख नहीं लगती है।
  • आंखों का कलर हल्‍का रेड होने लगता है
  • सांसे तेज हो जाती है। 
  • धड़कने बढ़ जाती हैं।
  • डिप्रेशन, थकान और निराशा हमेशा बनी रहती है। 

जब किसी व्यक्ति को हाई या लो बीपी की समस्या हो जाती है। तो शरीर देने लगते यह 8 संकेत, यदि आपके शरीर में महसूस होने लगे यह 8 संकेत, तो तुरंत डॉक्टर से चेक करवाएं।