• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

पीरियड्स में दर्द सताता है तो करें ये उपाय, तुरंत मिलेगी राहत

अगर आप भी पीरियड्स में दर्द और ऐंठन से परेशान रहती हैं तो एक्‍सपर्ट के बताए इन योगासन को जरूर करें। 
author-profile
Published -31 May 2022, 12:28 ISTUpdated -31 May 2022, 16:45 IST
Next
Article
yoga for period pain by expert

Verified by Yoga Expert Grand Master Akshar: पीरियड्स में ऐंठन एंडोमेट्रियम को त्यागने के लिए यूट्रस के संकुचन के कारण होती है। कुछ महिलाओं के लिए, पीरियड्स में ऐंठन दर्दनाक और असुविधाजनक हो सकती है। गर्म पानी की बोतल का उपयोग करना, गर्म सूदिंग चाय पीना और कभी-कभी दवाएं भी कुछ ऐसे तरीके हैं जिनसे महिलाएं ऐंठन से निपटती हैं। 

हालांकि, पीरियड्स की परेशानी के लिए योग एक सहायक समाधान है। योग आराम करने के साथ-साथ शरीर और दिमाग दोनों को मजबूत करता है। योग आसन, प्राणायाम और मेडिटेशन एक अच्छा स्रोत है जो हमारे मूड को संतुलित करने और पीरियड्स की ऐंठन को कम करने के लिए भारी लाभ प्रदान करता है।

पीरियड्स के दर्द के कुछ लक्षणों में पीठ और जांघ के अंदरूनी हिस्से में दर्द शामिल है। महिलाओं को मतली, चक्कर आना, सिरदर्द और मल का भी अनुभव हो सकता है। विभिन्न कारकों के आधार पर स्थितियां अलग-अलग महिलाओं में भिन्न हो सकती हैं। किसी भी तरह की एक्‍सरसाइज शरीर को तुरंत स्फूर्ति प्रदान करता है और योग सबसे सुरक्षित प्रकार है। 

पीरियड्स के दौरान स्वयं को ऐंठन मुक्त रखने के लिए शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के साथ-साथ योग हमारे मूड को बेहतर बनाता है। पीरियड्स के स्वास्थ्य में सुधार के लिए इन कोमल आसनों का पालन करें, और जब तक आप सहज महसूस करें तब तक प्रत्येक आसन को पकड़ें। आइए इस आर्टिकल के माध्‍यम से कुछ ऐसे योगासन के बारे में जानें जो पीरियड्स दर्द से राहत देने में आपकी मदद कर सकते हैं।

पीरियड्स में दर्द के लिए योग

बालासन

Balasana for periods pain

  • इसे करने के लिए मैट पर घुटनों के बल बैठ जाएं।
  • सांस भरते हुए बाजुओं को सिर के ऊपर उठाएं।
  • सांस छोड़ें और माथा फर्श पर रखें।
  • पेल्विक को एड़ियों पर आराम से रखें।

फायदे

  • थकान दूर करने में मदद करता है और शरीर को आराम देता है।
  • नियंत्रित श्वास शांति की स्थिति को बहाल करता है।
  • रीढ़ की हड्डी को लंबा और फैलाता है।
  • टखनों, कूल्हों और कंधों को फैलाता है।
  • पाचन को उत्तेजित करता है।
  • रीढ़ की हड्डी को खींचकर, यह गर्दन और पीठ दर्द को कम करता है।

बद्ध कोणासन

Baddha Konasana for periods pain

  • दंडासन से शुरुआत करें।
  • पैरों को मोड़ें और तलवों को एक साथ लाएं।
  • एड़ी को पेल्विक के करीब खींचे।
  • धीरे से घुटनों को नीचे करें।
  • पेट से सांस बाहर छोड़े। 
  • ऊपरी शरीर को आगे की ओर झुकाएं और माथे को फर्श पर रखें।

फायदे

ध्यान तकनीक

Sthiti Dhyan for periods pain

स्थिति ध्यान

  • इस तकनीक के लिए एक ऐसी जगह का पता लगाएं जहां आप अक्सर नहीं जाते हैं, अधिमानतः एक प्राकृतिक वातावरण।
  • फिर किसी भी आरामदायक आसन में बैठें।
  • 5 सेकंड के लिए आगे और 5 सेकंड के लिए पीछे देखें।
  • फिर दाएं और बाएं तरफ प्रत्येक 5 सेकंड के लिए देखें।
  • अब आंखें बंद करें और जितना संभव हो सके उतने विवरण याद करें।

फायदे

  • इस ध्यान तकनीक के कई फायदे हैं।
  • शांति की भावना पैदा करने में मदद करती है।
  • यह हमारे अवलोकन कौशल का भी निर्माण करती है।
  • इस ध्यान की प्रक्रिया स्मरण शक्ति को बेहतर बनाने में मदद करती है।
  • यह धीरे-धीरे अभ्यासी के भीतर कृतज्ञता की भावना का निर्माण करती है।

अनुलोम विलोम

Anulom Vilom for periods pain

  • सुखासन, अर्ध पद्मासन, वज्रासन या पूर्ण पद्मासन की आरामदायक स्थिति में बैठ जाएं।
  • पीठ को सीधा रखें, कंधों को आराम दें और सांसों पर ध्यान केंद्रित करने के लिए आंखें बंद करें।
  • हथेलियों को घुटनों पर ऊपर की ओर रखें।
  • अंगूठे से दाहिने नथुने को धीरे से बंद करें। 
  • बाएं नथुने में श्वास लें और इसे बंद करें। 
  • श्वास को दाहिने नथुने से बाहर निकालें। 
  • फिर दाएं से श्वास लें, इसे बंद करके केवल बाएं से श्वास छोड़ें। 
  • यह एक चक्र बनाता है।

फायदे

  • शरीर के तापमान को संतुलित करता है।
  • शरीर की नाड़ियों को साफ करता है।
  • तनाव दूर करता है।
  • पेट ठीक करता है।
  • इम्‍यून सिस्‍टम बनाता है। 
  • साइनस की समस्याओं और एलर्जी की समस्याओं का इलाज करता है।
  • ब्‍लड सर्कुलेशन में सुधार करता है और शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालता है।

Recommended Video

पीरियड्स के दौरान राहत प्रदान करने के साथ-साथ योग स्वास्थ्य के लिए असंख्य लाभ प्रदान करता है। हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि पीरियड्स के समय कौन से आसन कर सकते हैं। लेकिन किसी भी चीज से ज्यादा शरीर की सुनें और उसे सबसे अच्छा जज बनने दें। 

इसे जरूर पढ़ें: पीरियड क्रैम्प्स से परेशान हैं तो दर्द के लिए शिल्पा शेट्टी का योग अपनाएं

 

पीरियड्स के दौरान आराम, कायाकल्प और ठीक होने के लिए खुद को पर्याप्त समय दें। तनाव से मुक्त रहने की कोशिश करें और हाइड्रेटेड रहने के लिए अपने चक्र के दिनों में खूब पानी पिएं। लंबे समय तक शारीरिक और मानसिक लाभ के लिए कोमल स्ट्रेचिंग, प्राणायाम और मेडिटेशन का अभ्यास किया जा सकता है।

 इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

 Image Credit: Freepik
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।