तन और मन को दुरुस्‍त रखने का सबसे अच्‍छा उपाय रोजाना योग करना है। इसलिए महिलाएं ऐसे योग की तलाश में रहती हैं जो उन्‍हें फिट रखने के साथ-साथ उनका आत्‍मविश्वास भी बढ़ाएं। अगर आप भी ऐसी ही महिलाओं में से एक है तो इस आर्टिकल को जरूर पढ़ें, क्‍योंकि आज हमें योगा मास्टर, फिलांथ्रोपिस्ट, धार्मिक गुरू और लाइफस्टाइल कोच ग्रैंड मास्टर अक्षर एक ऐसे योग के बारे में बता रहे हैं जिससे आपकी तलाश पूरी हो सकती है। जी हां हम विन्‍यास योग के बारे में बात कर रहे हैं।   

विनीआसा का मतलब प्रवाह से किया जा सकता है, जिसका अर्थ है एक के बाद एक आसन। विन्‍यास कार्डियो तत्व के लिए फेमस है जो शरीर को वजन बढ़ाने और वजन प्रबंधन के लाभ का कारण बनता है। सबसे फेमस विन्यास सूर्य नमस्कार और चंद्र नमस्कार है। ये वैज्ञानिक रूप से डिज़ाइन किए गए अनुक्रम हैं जो हमें सौर और चंद्र ऊर्जा पाने की अनुमति देते हैं। प्रवाह में प्रत्येक आसन मन और तन के लिए एक विशिष्ट लाभ देता है। यह आत्मविश्वास बढ़ाने के साथ शक्ति, लचीलापन जोड़ने और अंग कार्यों को बेहतर बनाने में मदद करता है। जब कई अलग-अलग आसन एक अनुक्रम के रूप में एक साथ आते हैं, तो यह मूवमेंट्स का एक गतिशील कॉम्बिनेशन बनाता है जो हेल्‍थ में सुधार करता है, इम्‍यूनिटी बनाता है और पूरी हेल्‍थ के लिए बहुत अच्‍छी होती है।

Siddho Hum Kriya inside

हिमालय प्रणाम

हिमालय प्रणाम में 11 चरण होते हैं और इसका उपयोग चिकित्सकों को कई तरीकों से मदद करने के लिए किया जाता है। यह आत्मा को विनम्र बनने, ताकत देने और क्षमता और समझ की शक्ति को बढ़ाता है। यह योग व्यक्तियों को सिखाता है कि वे दिव्य ऊर्जाओं की ओर कैसे विकसित हों।

इसे जरूर पढ़ें: फिट और सुंदर दिखने के लिए नए साल में ये 5 योगासन रोजाना करें

करने का तरीका

  • हिमालय प्रणाम करने के लिए कदम प्राणायाम की शुरुआत पैरों से करें।
  • प्राणायाम करते हुएअपने ऊपरी शरीर के साथ आधा नीचे झुककर समकोणासन करें।
  • अपने पैरों को कूल्हे-चौड़ाई की दूरी तक खोलते हुए प्राणायाम को सीधा करें।
  • श्वास लें और हत्थ उथासना में वापस झुकें सांस छोड़ते हुए अपनी एड़ियों को अपनी हथेलियों से पकड़ें।
  • हथेलियों को आगे की ओर ले जाएं और अधवासन में अपने पेट के बल लेट जाएं।

Recommended Video

  • श्वास लें और अपने दोनों पैरों को ऊपर उठाएं और हथेलियों को शलभासन में प्रणाम से पकड़े।
  • सांस छोड़ते हुए लेट जाएं और अधोमुखी आसन पर वापस जाए।
  • हथेलियों को वापस पादहस्तासन में ले जाएं।
  • प्रणाम को पकड़कर, हत्था उथासना में वापस झुकें।
  • श्वास छोड़ें और अपने ऊपरी शरीर से आधा नीचे झुककर समकोणासन करें।
  • सीधे हो कर प्रणाम आसन करें। 
Siddho Hum Kriya inside

सिद्धो हम क्रिया

सिद्धो हम अभय का अभ्यास करने के लिए 5 चरण होते हैं, दिशा का सामना करने के लिए पूर्व की ओर। यह योग सूर्योदय के दौरान किया जाना अच्‍छा रहता है, और प्रत्येक चरण 1 मिनट के लिए किया जाता है। आइए इसके 5 चरणों के बारे में विस्‍तार से जानें।

इसे जरूर पढ़ें:आंखों को सुंदर और हेल्‍दी बनाने के लिए रोजाना करें ये 3 योगासन

  1. समस्थिती- सांस लेने की पद्धति धीरे-धीरे सांस लेना और स्वाभाविक रूप से सांस छोड़ना।
  2. प्रणाम- अपने सभी आशीर्वादों के लिए ब्रह्मांड को नमन आसन का गठन। इसके लिए आंखें बंद करके सीधी खड़ी हो जाएं। अपनी हथेलियों को अपनी चेस्‍ट के सामने जोड़कर धीरे से झुकें। श्वास लें जैसे ही आप अपनी हथेलियों से जुड़ते हैं और धीरे-धीरे सांस छोड़ते हैं।
  3. पुकार स्तुति- प्रार्थना ऊर्जा, ज्ञान के लिए ब्रह्मांड से पूछना। इसे करने के लिए आंखें बंद करके सीधी खड़ी हो जाएं, अपनी बाजुओं को सीधा फैलाएं और उन्हें 45 डिग्री के कोण पर फैलाएं और अपनी हथेलियों को अंदर की ओर मोड़ें। श्वास लेने की विधि सांस छोड़ते के रूप में आप अपनी बाहों को ऊपर उठाते हैं और श्वास लेने और सांस छोड़ने की प्राकृतिक विधि से सांस लेना जारी रखते हैं।
  4. प्राप्ति स्थिति- आंखें बंद करके सीधे खड़ी रहें। अपनी हथेलियों को अपनी चेस्‍ट के सामने आगे की ओर तानें और अपनी हथेलियों को एक कप या कंटेनर के आकार में ऊपर की ओर मोड़ें। श्वास लें और स्वाभाविक रूप से साँस छोडें।
  5. कृतज्ञता- जो कुछ भी आपने प्राप्त किया, उसके लिए आपका आभार। इसे करने के लिए आंखें बंद करके सीधी खड़ी रहें। अपनी हथेलियों को अपने दिल पर रखें। श्वास लेने की विधि सांस छोड़ने के रूप में आप अपनी बाहों को ऊपर उठाते हैं और श्वास लेने और सांस छोड़ने की प्राकृतिक प्रक्रिया जारी रखते हैं। 

 विन्‍यास योग को करके आप भी खुद को फिट और आत्‍मविश्‍वास से भरपूर रख सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।