आजकल की लाइफस्‍टाइल के चलते ज्‍यादातर लोग किसी न किसी बीमारी से परेशान रहते हैं। खासतौर पर पेट में गड़बड़ी से तो लगभग हर कोई परेशान ही रहता है। अगर आपको भी यहीं समस्‍या सताती हैं तो आप योग का सहारा ले सकती हैं। जी हां योग और रोग का 36 का आंकड़ा है यानि योग बीम‍ारियों का दुश्‍मन है जो लोग रोजाना योग करते हैं उन्‍हें कोई रोग नहीं होता है। चाहे वजन कम करना हो या बीमारियों को दूर भागना या फिर चेहरे और बालों को सुंदर बनाना, योग को अच्‍छा कोई और उपाय हो हीं नहीं सकता है। आमतौर पर योगासनों को सुबह के समय खाली पेट करने के लिए कहा जाता है लेकिन अगर आपके पास समय नहीं है तो आप इस योग को खाने के बाद भी कर सकते हैं। जी हां वज्रासन एक अकेला ऐसा आसन है, जिसे आप खाना खाने के तुरंत बाद कर सकते हैं। इतना ही नहीं, इस आसन की खास बात यह है कि अगर आप खाने के बाद इस आसन का करते हैं तो इससे खाना आसानी से पचता है। अभी कुछ दिनों पहले पीएम मोदी ने भी ट्विटर पर इस योगासन का एक एनिमेटेड वीडियो शेयर किया था जिसमें उन्‍होंने योग करने का तरीका और फायदे शेयर किये थे। आइए वज्रासन करने के तरीके और फायदे के बारे में जानें।

इसे जरूर पढ़ें: महिलाएं ये '1 एक्‍सरसाइज' करेंगी तो वजन होगा कम और हड्डियां बनेंगी मजबूत

Vajrasana benefits fitness inside

वज्रासन करने का तरीका

  • वज्रासन करने के लिए घुटनों के बल जमीन पर बैठ जाएं।
  • इस दौरान दोनों पैरों के अंगुठों को साथ में मिलाएं और एडि़यों को अलग रखें।
  • अब अपने हिप्‍स को एडि़यों पर टिकाएं। साथ ही अपने हथेलियां को घुटनों पर रख दें।
  • इस दौरान अपनी पीठ और सिर को सीधा रखें। ध्यान रखें कि इस दौरान आपके दोनों घुटने आपस में मिले होने चाहिए।
  • नॉर्मल तरीके से सांस लेते रहें। इस पॉजिशन में जब तक संभव हो, आप बैठने का प्रयास करें।
  • इस योगासन को खाना खाने के कम से कम 15 से 20 मिनट के बाद किया जा सकता है।

वज्रासन के फायदे

  • भोजन के बाद यह आसन इसलिए किया जाता है ताकि खाया हुआ खाना अच्छी तरह पच सके।
  • यह आसन आपकी पाचन प्रक्रिया में सुधार लाता है जिससे कब्ज, एसिडिटी और अल्सर आदि की समस्या नहीं होती। 
  • इसे एक्‍स्‍ट्रा वजन से छुटकारा मिलता है और हिप्‍स और कमर सुंदर और आकर्षक दिखाई देने लगते है ।
  • वज्रासन करने से थाई और पिंडलियों को मसल्‍स मजबूत होती है।
  • पैरों की नसों को मजबूत बनाता है।
  • यह आसन पीठ और साइटिका के दर्द से राहत दिलाता है।
  • रीढ़ की हड्डी को सीधा रखने में मदद करता है।
  • रेगुलर इसे करने से शरीर मजबूत होता है और एकाग्रता भी बढ़ती है।

सावधानी

  • यूं तो वज्रासन कोई भी व्यक्ति कभी भी कर सकता है। लेकिन फिर भी इसे करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए।
  • सबसे पहले इसे करते हुए अपने बॉडी पॉश्चर पर ध्यान दें।
  • इसके अलावा अगर आपके घुटनों में कोई समस्या है या घुटने की सर्जरी हुई है, तो यह आसन न करें।
  • जिन लोगो को रीढ़ की हड्डी, हर्निया, आंतों में अल्सर की समस्‍या है उन लोगों को एक्‍सपर्ट की देखरेख में इस आसन को करना चाहिए।


क्‍या आप इस योग को करते हैं अगर नहीं तो किस बात का इंतजार कर रहे हैं आज से ही इस योगासन को करें।