Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    5 तरह का होता है बेली फैट, जानिए कैसा है आपका टमी और कैसे कम होगा वजन

    अगर आप भी बेली फैट की समस्या से परेशान हैं तो ये पहचानना जरूरी है कि आपका बेली फैट किस तरह का है। जानिए कैसे कम हो सकता है 5 तरह का बेली फैट।
    author-profile
    Published -28 Jul 2020, 10:52 ISTUpdated -28 Jul 2020, 10:58 IST
    Next
    Article
     types of belly fat and its issues

    बेली फैट हमारे लिए एक बहुत बड़ी समस्या बनकर आता है। शरीर का वो हिस्सा जहां का फैट कम करना बहुत मुश्किल होता है और ये न सिर्फ हमारे पॉश्चर और लुक्स पर असर डालता है बल्कि इसके कारण स्वास्थ्य संबंधित कई समस्याएं भी होती हैं। बेली फैट का बढ़ना शरीर की चर्बी के साथ-साथ दिल की बीमारी का भी संकेत देता है। हम कई बार देखते हैं कि अलग-अलग लोगों का फैट अलग-अलग तरह से बढ़ा है। इसका कारण उनके शरीर की बनावट के साथ-साथ उनकी बीमारियां जैसे हार्ट डिजीज, डायबिटीज आदि भी हो सकती हैं।

    अगर बेली फैट की बात की जाए तो इसे मानसिक तनाव से भी जोड़कर देखा जा सकता है जो हमारे स्वास्थ्य पर असर डालता है। लोग अक्सर अपने पेट की चर्बी से परेशान रहते हैं और उसे कम करने के लिए कुछ नहीं कर पाते हैं। बेली फैट को कम करने के लिए हमें ये समझना भी जरूरी है कि आखिर हमारा बेली फैट है कैसा।

    इसे जरूर पढ़ें- सिर्फ 7 दिन में कम हो जाएगा Arm Fat, बस रोज़ सुबह 15 मिनट करें ये Exercises

    आमतौर पर 5 तरह के बेली फैट होते हैं जिससे लोग परेशान होते हैं-

     types of belly fat

    1. अल्कोहल बेली-

    ये उन लोगों में आम है जो ज्यादा अल्कोहल पीते हैं। ये किसी भी तरह के अल्कोहल से हो सकती है जैसे बियर, वाइन या किसी अन्य तरह की ड्रिंक से। इसका सीधा सा कारण ये होता है कि ऐसी ड्रिंक्स में कैलोरीज बहुत होती हैं और ये शरीर के निचले हिस्से पर असर करती हैं। इससे शरीर के डायजेशन पर भी असर होता है। साथ ही, इससे शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा भी बढ़ती है।

    कैसे कम होगा-

    अल्कोहल का सेवन बहुत कम या फिर बंद ही कर दें। अपनी डायट में फल और सब्जियों का सेवन बढ़ाएं। इसी के साथ, आपको पेल्विक एरिया से जुड़ी एक्सरसाइजेस करनी होंगी। इस तरह की बेली शरीर के अनुपात में काफी ज्यादा बढ़ जाती है और ऐसे में

    2. ब्लोटेड बेली-

    ब्लोटेड यानि फूली हुई बेली। कई बार आपको लगता होगा कि कुछ दिनों में आपकी बेली फूली हुई रहती है और कुछ दिनों में ये थोड़ी कम दिखती है। ये कई तरह की पाचन संबंधित समस्याओं से जुड़ा होता है। अगर लंबे समय से कोई दवाइयां खा रहे हैं या फिर डायजेशन संबंधित समस्याओं का शिकार हैं तो इस तरह का बेली फैट होगा।

    कैसे कम होगा-

    प्रोबायोटिक फूट को अपनी डायट में शामिल करें। इसी के साथ, पानी पीने की मात्रा को बढ़ाएं। रनिंग या कार्डियो जैसी एक्सरसाइजेस इस समय काम आएंगी।

    belly fat reduction

    3. पोस्टपार्टम बेली-

    बच्चे की डिलिवरी के बाद अक्सर महिलाओं के शरीर के निचले हिस्से में फैट जमा हो जाता है। ये कई महिलाओं में ज्यादा तो कई में कम होता है। इस तरह के फैट को कम करने के लिए थोड़ी मेहनत करनी होती है।

    कैसे कम होगा-

    डिलिवरी के बाद का फैट कम करने के लिए आपको एक्सरसाइज के साथ-साथ मसाज आदि का सहारा भी लेना होगा। जो एक्सरसाइज आप चुनें वो एब्स पर असर करनी चाहिए। इस हिस्से का फैट कम करने के लिए आपको अपनी बॉडी को एक्टिव रखना जरूरी है। हां, इस बात का ध्यान जरूर रखें कि अगर स्वास्थ्य संबंधित कोई परेशानी से जूझ रही हैं या बहुत बड़ा ऑपरेशन हुआ है तो फैट कम करने के लिए कई तरीके अपनाने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर ले लें।

    Recommended Video



    इसे जरूर पढ़ें- जल्दी Weight Loss के लिए कभी न अपनाएं ये 5 तरीके, शरीर को होगा बहुत नुकसान

    4. हार्मोनल बेली-

    पीसीओडी की समस्या, शरीर में कई तरह के हार्मोन्स का बढ़ या घट जाना आदि भी बेली फैट का कारण बनता है। कई मामलों में हार्मोनल समस्याओं के कारण पूरे शरीर का वजन बहुत तेज़ी से बढ़ता है।

    कैसे कम होगा-

    आपको अपने रूटीन में कुछ हेल्दी बदलाव लाने होंगे। अपने बेली फैट को कम करने के लिए सबसे पहले तो आपको हार्मोनल लेवल को सुधारना होगा। इसके लिए अपने डॉक्टर से सलाह मश्वराह करें। इसी के साथ, शरीर को एक्टिव रखें। हार्मोनल लेवल पर अगर समस्या है तो किसी डाइटीशियन से डाइट चार्ट बनवा लें।

    5. स्ट्रेस बेली फैट-

    स्ट्रेस की वजह से भी बेली फैट बढ़ता है और लोअर बेली इस तरह से दिखने लगती है जैसे आपका शरीर बेडौल हो गया हो। बहुत ज्यादा स्ट्रेस लेना और पूरी नींद न लेना बेली फैट बढ़ने का कारण बन सकता है।

    कैसे कम होगा-

    भरपूर नींद लें और स्ट्रेस से दूर रखें। आपको अपने कैफीन इंटेक को भी कम करना होगा और जंक फूड से भी दूर रहना होगा। जंक फूड में सोडियम की मात्रा काफी ज्यादा होती है और ये स्ट्रेस बेली फैट के लिए नुकसानदेह हो सकता है। योगा, मेडिटेशन, जॉगिंग और कार्डियो और एरोबिक स्टाइल एक्सरसाइज इस तरह के फैट को कम करने में मदद कर सकती हैं।

    इन सब के साथ-साथ अपने दैनिक कैलोरी इंटेक का भी ध्यान रखें। सभी तरह के बेली फैट को कम करने के लिए कैलोरी इंटेक को काबू में रखना जरूरी होता है। अपने शरीर के फैट का अंदाज़ा लगाएं और उसके साथ ही अपना रूटीन बदलें। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।