हमारा स्वास्थ्य मुख्य रूप से हमारे खानपान पर निर्भर करता है। अगर आहार सही हो तो ना केवल इम्युन सिस्टम को बूस्टअप किया जा सकता है, बल्कि समग्र स्वास्थ्य का ख्याल रखा जा सकता है। वैसे जब हेल्दी खाने की बात होती है तो अक्सर लोग ग्रीन वेजिटेबल्स या फिर कई तरह के कलरफुल फल-सब्जियों को डाइट में शामिल करने की सलाह देते हैं। लेकिन क्या आपने कभी ब्लैक फूड्स को खाने की सलाह के बारे में सुना है। शायद नहीं। हम अक्सर मानते हैं कि अगर कोई खाद्य पदार्थ काला हो जाता है, तो वह खाने लायक नहीं रह जाता है। लेकिन कुछ ऐसे फ्रूट्स व वेजिटेबल्स भी होते हैं, जिनका कलर नेचुरली काला होता है, लेकिन वह पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं और इसलिए सेहत के लिए काले सोने के समान है। अगर इन ब्लैक फूड्स को डाइट में शामिल किया जाए तो डायबिटीज से लेकर कैंसर तक जैसी कई बीमारियों से लड़ने में मदद कर मिल सकती है। तो चलिए आज हम आपको ऐसे ही कुछ ब्लैक फूड्स के बारे में बता रहे हैं-

ब्लैकबेरीज

inside  Black Foods in diet

जब ब्लैकबेरीज के हेल्थ बेनिफिट्स की बात हो तो यह स्ट्रॉबेरी और ब्लूबेरी की तरह की बेहद लाभदायक है, बल्कि कई मायनों में यह सेहत के लिए उससे अधिक लाभदायक मानी गई है। वे हृदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए जाने जाते हैं क्योंकि वे सूजन को कम करते हैं और हमारी प्रतिरक्षा को बढ़ाते हैं। यह फल महिलाओं के लिए भी बेहद बेनिफिशियल माना गया है। इस फल का सेवन उन महिलाओं को करना चाहिए जिन्हें मासिक धर्म के प्रवाह या उनके अनियमित होने की समस्या है। ब्लैकबेरी भी उन खाद्य पदार्थों में से एक है जो एंटीऑक्सिडेंट में उच्च होते हैं और आप उन्हें अपनी स्मूदी, डेसर्ट, सलाद या पैनकेक में उपयोग कर सकते हैं।

ब्लैक राइस

inside  Black Foods in diet

इस तरह के ब्लैक राइस का सेवन चीन में लोग करना बेहद पसंद करते हैं। एंथोसायनिन से अपना अनोखा रंग पाने वाले इस काले चावल में कुछ एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो हमारी आंखों की रोशनी को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं। साथ ही इसमें ल्यूटिन और ज़ेक्सैन्थिन होते हैं जो हमारे रेटिना को कठोर प्रकाश से बचाते हैं। जिन लोगों को ग्लूटेन से एलर्जी है या जो ग्लूटेन मुक्त आहार ले रहे हैं, उनके लिए काला चावल सही विकल्प है क्योंकि यह चावल ग्लूटेन मुक्त होता है।

काले अंजीर 

inside  Black Foods in diet benefits

काले अंजीर बेहद ही मीठे और स्वादिष्ट होते हैं, जिन्हें मुख्य रूप से संयुक्त राज्य में उगाया जाता है। यूं तो इनमें कई पोषक तत्व होते हैं, लेकिन यह पोटेशियम का एक समृद्ध स्रोत माने जाते हैं और इसमें बहुत अधिक फाइबर सामग्री होती है। यही कारण है कि बेहतर पाचन तंत्र के लिए इनका सेवन करना अच्छा माना जाता है। फाइबर अधिक होने के कारण यह वजन घटाने में मददगार हैं। काले अंजीर में ऐसे घटक होते हैं जो हमारे शरीर को कैंसर कोशिकाओं से लड़ने में मदद कर सकते हैं। ये अंजीर हमारे रक्तचाप को भी कम कर सकते हैं और उच्च रक्तचाप से निपटने में मदद कर सकते हैं।

इसे ज़रूर पढ़ें-महीने में सिर्फ 4 बार खाएंगी इसे तो 70 साल तक कमजोरी नहीं आयेगी

काले लहसुन

inside  black ginger

काले लहसुन के बारे में आपने शायद पहले ना सुना हो, लेकिन हम आपको बता दें कि काले लहसुन को नियमित लहसुन को हफ्तों तक उच्च तापमान पर फरमेंट करके बनाया जाता है। वे सूजन को रोकने में मदद करते हैं और हमारी याददाश्त को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं। यह लहसुन अल्जाइमर के रोगियों के लिए फायदेमंद हो सकता है क्योंकि यह हमारी अल्पकालिक याददाश्त में सुधार करता है। कुछ अध्ययनों से यह भी पता चला है कि काले लहसुन एंटीऑक्सिडेंट और कैंसर विरोधी गुणों के कारण कच्चे लहसुन से बेहतर हैं।

Recommended Video

काले तिल 

inside  black til

काले तिल में कैल्शियम और मैग्नीशियम जैसे मैक्रो खनिजों बहुत अधिक मात्रा में पाए जाते हैं। यही कारण है कि यह कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ और हाई ब्लड प्रेशर में सुधार करने में मदद करते हैं। इतना ही नहीं, इन बीजों में मौजूद आयरन, कॉपर और मैंगनीज ऑक्सीजन के सर्कुलेशन को नियंत्रित करते हैं और हमारे मेटाबॉलिक रेट को नियंत्रित रखते हैं। काले तिल में सैचुरेटिड फैट भी पाया जाता है और यह मोनोअनसैचुरेटेड वसा का एक अच्छा स्रोत है।

इसे ज़रूर पढ़ें-चावल के पानी से दूर हो सकती है सफेद डिस्चार्ज और पीरियड्स की समस्या, जानें कैसे

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- Freepik