आप सभी फल के रूप में पपीते का सेवन जरूर करते होंगे। विभिन्न पोषक तत्वों से भरपूर ये स्वादिष्ट फल सेहत के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद है और अपने पोषक तत्वों की वजह से ये फल कई तरह की बीमारियों से लड़ने में मदद करता है। लेकिन क्या आप जानते हैं इस फल के साथ -साथ इसकी पत्तियों का सेवन भी स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याओं से छुटकारा दिलाने में मदद करता है। 

पपीते की पत्तियों में विटामिन, खनिज, फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट के उत्कृष्ट गुण मौजूद होते हैं। इसमें प्रचुर मात्रा में विटामिन -ए,बी, सी, ई, विटामिन- के और शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट तत्व मौजूद होते हैं जो सेहत के लिए फायदेमंद हैं। पपीते के पत्ते फास्फोरस,आयरन, पोटेशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम जैसे खनिजों से भी भरपूर होते हैं। आइए नई दिल्ली की जानी मानी डॉक्टर आकांक्षा अग्रवाल (BHMS) से जानें पपीते की पत्तियों के कुछ ऐसे प्रभावी स्वास्थ्य लाभों के बारे में जिन्हें जानकार आप भी इसे अपनी डाइट का हिस्सा बनाएंगी। 

डेंगू बुखार का इलाज 

papaya leaves for dengue fever

पपीते के पत्ते का रस डेंगू बुखार के प्रभावी उपचारों में से एक है। ये पत्तियां डेंगू के बुखार को कम करने के लिए एक मुख्य औषधि की तरह काम करती हैं। डेंगू बुखार रक्त प्लेटलेट काउंट को कम करता है और पपीते के पत्ते का अर्क प्लेटलेट काउंट को बढ़ाने में मदद करने के लिए जाना जाता है। अध्ययनों ने साबित किया कि पपीते के पत्ते का अर्क प्लेटलेट्स के उत्पादन में योगदान देता है और प्लेटलेट्स की संख्या को बढ़ाता है। यह डेंगू (जानें डेंगू बुखार के लक्षण और ट्रीटमेंट) की जटिलताओं जैसे शरीर पर चकत्ते, रक्तस्राव आदि को भी रोकता है। डेंगू बुखार के दौरान, दिन में दो बार पपीते के रस का एक छोटा गिलास प्लेटलेट्स की संख्या में काफी वृद्धि कर सकता है और बुखार को कम कर करने में मदद करता है।

कैंसर से बचाव 

पपीते के पत्तों में लाइकोपीन होता है जिसमें कैंसर रोधी गुण होते हैं। यह कैंसर-कोशिका के विकास और आगे की जटिलताओं को रोकने में मदद करती हैं।  अध्ययनों के अनुसार, पपीते के पत्ते का अर्क कोलन और प्रोस्टेट कैंसर में प्रभावी है। पपीते के पत्ते का अर्क भी एंटीऑक्सिडेंट तत्वों से भरपूर होता है जो कैंसर-कोशिका गतिविधि को बेअसर करता है। हालांकि इसे पूरी तरह से ये नहीं कहा जा सकता कि ये पत्तियां कैंसर की औषधि के रूप में काम करती हैं, लेकिन कैंसर के खतरे को कम करने में मदद करती हैं। 

पाचन को सुचारु बनाए

papaya leaves digestion

पपीते के पत्तों में पानी और फाइबर की भरपूर मात्रा मौजूद होती है, जो पाचन को आसान बनाने में मदद करती हैं। पपीते में मौजूद एंजाइम पपैन प्रोटीन को तोड़कर पाचन प्रक्रिया को आसान बनाने में मदद करता है। रोजाना एक गिलास पपीते की पत्तियों का रस कब्ज और अपच जैसी कई पाचन समस्याओं से छुटकारा दिलाता है और कब्ज की समस्या को कम करता है।

इसे जरूर पढ़ें:क्या आप जानती हैं बरगद के पेड़ के हेल्थ बेनिफिट्स, पत्तियों से लेकर फल हैं बेहद फायदेमंद

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए 

पपीते के पत्तों में फेनोलिक यौगिक, पपैन और एल्कलॉइड होते हैं जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। वे विभिन्न विटामिन और एंटीऑक्सिडेंट (एंटीऑक्सिडेंट रिच फूड्स ) का एक समृद्ध स्रोत हैं जो शरीर को मजबूत बनाते हैं। पपीते में मौजूद विटामिन- सी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर शरीर को कई तरह के संक्रमणों से सुरक्षित रखता है। यह घाव भरने, शरीर के ऊतकों की वृद्धि, क्षतिग्रस्त कोशिका पुनर्जनन आदि पर भी कार्य करता है। यदि आप अपनी डाइट में पपीते की पत्तियों को शामिल करती हैं तो ये शरीर को बीमारियों से बचाने में मदद करती हैं। 

मधुमेह नियंत्रण करे 

papaya leaves blood sugar control

पपीते की पत्तियां मधुमेह के रोगियों के लिए मीठी लालसा और मधुमेह होने के जोखिम को कम करने के लिए फायदेमंद होती हैं। कुछ शोधों में पाया गया है कि पपीते के पत्ते को पेस्ट बनाकर या फिर इसके जूस का सेवन रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने में मदद करता है और इसमें आहार फाइबर की उपस्थिति के कारण यह कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है।

वजन घटाने में मदद करे 

पपीते के पत्तों को पीसकर निकाला गया रस कैलोरी में कम और फाइबर में उच्च होता है जो पेट को लंबे समय तक भरा रखता है। इसमें प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले आहार फाइबर शरीर को डिटॉक्स करते हैं और मेटाबॉलिज्म को बढ़ाते हैं जिससे वजन कम होता है। जो लोग तेजी से वजन कम करना चाहते हैं उन्हें अपनी डाइट में पपीते और इसकी पत्तियों को जरूर शामिल करना चाहिए। 

Recommended Video

पीरियड्स के दर्द को कम करे 

पपीते के पत्ते और बीज गर्भाशय के संकुचन को कम करके पीरियड्स के दौरान दर्द के लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं। पपीते में मौजूद एक एंजाइम - पपैन गर्भाशय से रक्त को सुचारू रूप से बाहर निकालने में मदद करता है। यह पॉलीसिस्टिक डिम्बग्रंथि रोग (पीसीओडी) के लक्षणों को कम करने के लिए भी बहुत अच्छा काम करता है।

त्वचा के लिए लाभकारी 

papaya leaves for beauty

पपीते के पत्तों में विभिन्न पोषक तत्वों की मौजूदगी के कारण यह त्वचा पर प्रभावी रूप से काम करते हैं और त्वचा को साफ रखने में मदद करते हैं। इन पत्तियों में मॉइस्चराइजिंग प्रभाव होता है और इन्हें त्वचा पर अप्लाई करने पर यह शुष्क और क्रैकिंग त्वचा को रोक सकते हैं। पपीते के पत्तों में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करने में मदद करते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें:Expert Tips : मानसून में खुद को हाइड्रेटेड रखने के लिए ट्राई करें ये हेल्दी ड्रिंक्स

बालों के विकास में सहायक 

पपीते के पत्ते के मास्क और रस के सामयिक अनुप्रयोगों का उपयोग बालों के विकास और स्कैल्प के स्वास्थ्य में सुधार के लिए किया जाता है। कुछ शोध बताते हैं कि शरीर में उच्च स्तर के ऑक्सीडेटिव तनाव बालों के झड़ने में योगदान कर सकते हैं। एंटीऑक्सिडेंट युक्त खाद्य पदार्थ खाने से ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद मिल सकती है और बाद में बालों के विकास में सुधार हो सकता है। पपीते के पत्ते में एंटीऑक्सिडेंट गुणों वाले कई यौगिक जैसे कि फ्लेवोनोइड्स और विटामिन ई मौजूद होते हैं। पपीते की पत्तियों का सेवन बालों की ग्रोथ में मदद करता है। 

पपीते की पत्तियों का सेवन कई बीमारियों से बचाव करने में लाभदायक है, लेकिन इसके इस्तेमाल से पहले विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:  shutterstock