जब हम उम्र बढ़ने के बारे में सोचते हैं तब हम झुर्रियां, फाइन लाइन्‍स, डल स्किन और धब्बों से भरे चेहरे की कल्पना करते हैं। हम शरीर में दर्द, धीमी गति से चलने और स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में भी सोच सकते हैं। लेकिन हम अक्सर अपने पैरों को नजरअंदाज कर देते हैं, इस तथ्य के बावजूद यह हमें एक जगह से दूसरी जगह ले जाता है और शरीर के वजन को उठाता हैं। यह अनुमान लगाया गया है कि जब तक हम 50 की उम्र तक पहुंचते है, तब तक एक औसत इंसान कम से कम 75 हजार मील चल चुका होता है। 

बुढ़ापा आपके पैरों को भी प्रभावित करता है। यह त्वचा को ड्राई, इंफेक्‍शन, दर्द और कॉलस के प्रति अधिक संवेदनशील बनाता है। इसके अलावा उम्र बढ़ने से संबंधित परिवर्तनों से कोलेजन और इलास्टिन का नुकसान होता है जो त्वचा को उसकी दृढ़ता और लोच प्रदान करते हैं। साथ ही पैरों के तलवों की त्वचा का मोटा होना, पैरों में दर्द और नाखूनों का फंगल इंफेक्शन भी हो जाता है। इस आर्टिकल में 7 टिप्‍स दिए गए हैं जिनसे आप अपने पैरों की देखभाल कर सकती हैं और बढ़ती उम्र के साथ भी अपने पैरों के स्वास्थ्य को बनाए और झुर्रियों से बची रह सकती हैं। 

सॉल्ट फुट बाथ लें

foot soak tips for ageing feet inside

यदि आप सूजन या बहुत ज्‍यादा काम करने के बाद अपने पैरों में दर्द महसूस करती हैं तो अपने पैरों को सेंधा नमक और गर्म पानी के घोल में सोक करने की कोशिश करें। आप फुट बाथ में आवश्यक तेल भी मिला सकती हैं। सेंधा नमक दर्द से राहत देता है जबकि आवश्यक तेल संक्रमण को दूर रखता है। शोध से पता चला है कि थाइम, पेपरमिंट, टी ट्री, अजवायन, लेमनग्रास, दालचीनी और लैवेंडर जैसे आवश्यक तेलों के साथ फुट सॉल्ट बाथ लें। हालांकि, सुनिश्चित करें कि आप अपने पैरों को बहुत बार न भिगोएं। क्योंकि इससे आपकी त्वचा ड्राई हो सकती है।

इसे जरूर पढ़ें:शहनाज हुसैन से जानें घर में कैसे करें अपने पैरों की देखभाल

पैरों को साफ रखें

पैरों की स्वच्छता बनाए रखना बैक्टीरिया और फंगल संक्रमण और अंतर्वर्धित नाखूनों को दूर रखने का पहला स्‍टेप है। अपने पैरों को रोजाना गुनगुने पानी में हल्के साबुन से धोएं। धोने के बाद त्वचा को धीरे से सुखाएं और अपने पैर की उंगलियों के बीच के त्‍वचा पर ध्यान दें। साबुन के अवशेष जलन और दरार पैदा कर सकते हैं, जिससे बैक्टीरिया के लिए रास्ता बन सकता है। इसके अलावा, अगर नम छोड़ दिया जाता है तो ये हिस्‍से मैकरेट कर सकते हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए बहुत कठिन रगड़ने से बचें कि त्वचा टूट न जाए और जीवाणु संक्रमण न हो। अपने पैर के नाखूनों को हमेशा साफ और छोटा रखें। यह उन्हें आपके जूते की भीतरी दीवारों के खिलाफ दबाने से रोकेगा, जिससे जलन, अल्सर और संक्रमण हो सकता है। 

मॉइश्चराइज करना न भूलें

cream

अपने पैरों को मॉइश्चराइज करना उतना ही ज़रूरी है जितना कि चेहरे के लिए। ड्राई त्वचा में दरारें पड़ जाती हैं जो आपके पैरों को संक्रमण के लिए खुला छोड़ सकती हैं। अपने पैरों को हर दिन धोने के बाद एंटी-बैक्‍टीरियल लोशन का उपयोग करें ताकि आप अपने आप को कोमल, चिकना और संक्रमण से मुक्त महसूस कर सकें। अगर आपकी त्वचा अत्यधिक ड्राई है तो आप अपने नहाने के बाद अपने पैरों पर भी मॉइश्चराइजर जरूर लगाएं।

जूते के साइड को चेक करें

नियमित रूप से अपने जूते के साइड को चेक करें क्‍योंकि गलत आकार के जूते पहनने से पैरों में दर्द, गोखरू, कॉल्‍स और अल्सर हो सकते हैं। जी हां जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, आपके जूते का आकार बढ़ता जाता है। शोध के अनुसार, खराब फिटिंग वाले जूते आपके गिरने की संभावना को भी बढ़ा सकते हैं। नियमित रूप से अपने जूते बदलकर और चौड़े और आरामदायक जूते पहनकर, आप साइज से संबंधित किसी भी समस्या से बच सकती हैं।

अच्छी क्‍वालिटी के जूते पहनें

shoes for tips for ageing feet inside

जूतों की समस्या सिर्फ साइज तक ही सीमित नहीं है। अनुसंधान से पता चलता है कि संक्रमण से बचने और अच्छी स्वच्छता बनाए रखने के लिए अच्‍छी क्‍वालिटी  के जूते पहनना जरूरी होता है। चप्पल की सिफारिश नहीं की जाती है क्योंकि वे आपके जोड़ों को उस तरह से काम नहीं करने देते हैं जैसे उन्हें करना चाहिए। इसके बजाय, आप स्‍पोर्ट्स शूज का विकल्प चुन सकती हैं। प्लास्टिक के जूते और ऊंची एड़ी के जूते की भी सिफारिश नहीं की जाती है क्योंकि वह मूवमेंट को प्रतिबंधित करते हैं और आपके पैरों को सांस लेने की अनुमति नहीं देते हैं।

हमेशा एक्‍सट्रा कम्फर्ट वाले जूतों का चुना करना चाहिए। इसमें चलने को आरामदायक बनाने के लिए शॉक एब्जॉर्प्शन, अतिरिक्त सपोर्ट और कुशनिंग जैसी सुविधाएं शामिल हो। संक्रमण से बचने के लिए हर दिन अपने जूते बदलें और अच्छी गुणवत्ता वाले मोजे पहनें। अगर बढ़ती उम्र के साथ आपको पैरों में सूजन की समस्‍या है तो उठते ही अपने जूते पहन लें ताकि उन्हें सूजने के लिए समय न दें।

पैरों की एक्‍सरसाइज करें

एक्‍सरसाइज आपको पैरों को हेल्‍दी और जवां बनाए रखती है। जब विशेष रूप से पैरों की बात आती है तो एक्‍सरसाइज ब्‍लड सर्कुलेशन को उत्तेजित करती है और मसल्‍स को टोन करती है। कुछ एक्‍सरसाइज विशेष रूप से आपके पैरों पर काम करती हैं, जैसे कि:

टेंडिनिटिस स्‍ट्रेच: अपनी हथेलियों के साथ दीवार के खिलाफ झुकें। एक पैर को दूसरे के सामने रखें और अपनी एड़ी को फर्श पर टिकाएं, सामने के पैर के खिलाफ झुकें। आपको अपने एच्लीस टेंडन और काफ में स्‍ट्रेच महसूस होना चाहिए। 10 सेकंड के लिए इस स्थिति में रहें और 3 बार दोहराएं।

पैरों की अंगुलियों का स्‍ट्रेच: फर्श पर या कुर्सी पर बैठें। प्रत्येक पैर के पंजों के चारों ओर एक रबर बैंड रखें और अपने पैर की उंगलियों को फैलाएं। 5 सेकंड के लिए रुकें और 10 बार दोहराएं।

इनके अलावा, पैदल चलना, तैरना और योग का अभ्यास करना आपके पैरों के लिए अच्छा हो सकता है।

इसे जरूर पढ़ें:एक ही रात में फटी एड़ियों से छुटकारा पाने का एक आसान उपाय

Recommended Video

घरेलू नुस्‍खों का इस्‍तेमाल

banana for tips for ageing feet inside

  • एलोवेरा जैल आपको पैरों की झुर्रियों को हटाने के लिए इस्‍तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए आप एलोवेरा जैल को निकाल लें। इसको अच्‍छी तरह से मिक्‍स करके पैरों पर लगाएं और 5 मिनट के लिए पैरों की मसाज करें। 15 मिनट तक ऐसे ही लगा रहने दें और इसके बाद पानी से साफ कर लें।
  • झुर्रियां मिटाने के लिए शहद का इस्‍तेमाल करें। 2 चम्‍मच शहद में कुछ बूंदें नींबू मिलाएं। इसे अच्‍छी तरह से मिक्‍स करें और हाथों पर लगाएं। 5 मिनट के लिए मसाज करें और कुछ देर ऐसे ही लगा रहने दें और फिर इसे साफ कर लें। 
  • पैरों की झुर्रियों से बचने के लिए केले का इस्‍तेमाल कर सकती हैं। इसके लिए आप एक पके केले को अच्‍छी तरह से मैश करके अपने पैरों पर अच्‍छी तरह से लगाएं। लगाने के बाद 2 मिनट के लिए मसाज करें और उसके बाद इसे ऐसे ही छोड़ दें। जब यह ड्राई हो जाए तो इसको ठंडे पानी से धो लें।  

इन टिप्‍स की मदद से आप भी बढ़ती उम्र में पैरों की झुर्रियों को आने से कुछ और सालों के लिए रोक सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com