क्‍या आप बलगम से परेशान है?
क्‍या गले में खराश से ड्राईनेस हो गई है?
साथ ही इम्‍यूनिटी भी कमजोर हो गई है?
कुछ समझ में नहीं आ रहा है कि क्‍या करना चाहिए? तो इस आर्टिकल को जरूर पढ़ें क्‍योंकि आज हम आपके लिए इन तीन समस्‍याओं को दूर करने वाला जादुई नुस्‍खा लेकर आए हैं। इसे आप घर में आसानी से कर सकती हैं और यह बहुत ही असरदार तरीका है।  

दुनिया भर में सदियों से गर्म पानी में नमक डालकर गरारे करने का चलन रहा है और यह गले की खराश को ठीक करने और शांत करने के लिए एक प्रभावी इलाज और उपाय के रूप में सिद्ध हुआ है। यहां तक कि आजकल कोरोना वायरस से बचने के लिए गरारे करने की सलाह दी जा रही है। गरारे करने का अर्थ है अपने मुंह या गले में तरल रखना, अपने सिर को पीछे की ओर झुकाना और इसे अपने फेफड़ों से हवा के साथ उत्तेजित करना। यह प्रक्रिया ओरल कैविटी को साफ और बैक्‍टीरिया फ्री करने में मदद करती है और आपके श्वसन कैविटी में बलगम के निर्माण को दूर करती है। आइए इसके कुछ फायदों के बारे में आर्टिकल के माध्‍यम से विस्‍तार से जानते हैं। लेकिन इससे पहले इसे करने का तरीका जान लेते हैं। 

गरारे करने का तरीका

gargle salt water inside 

सामग्री

  • गर्म पानी- 1 गिलास
  • नमक- 1 चम्‍मच

तरीका

  • एक गिलास पानी को गर्म करें और उसमें सेंधा नमक डालें और इसे पूरी तरह से घुलने दें। 
  • पानी को गर्म होने दें, गरारे करने से पहले तापमान जांच लें क्योंकि इससे आपका गला जल सकता है।
  • फिर गरारे करने के लिए जब पानी आपके मुंह में डालने लायक गर्म हो जाए तो मुंह में नमक का पानी का एक बड़ा घूंट लें। 
  • अपने सिर को पीछे की ओर झुकाएं और हर बार लगभग 30 से 40 सेकंड तक गरारे करें और इसे बाहर थूक (निगले नहीं) दें। 
  • जब तक आप गिलास में सारा पानी खत्म नहीं कर लेते हैं तब तक इसे करें।

टिप्‍स

  • गरारे के लिए आप नमक के अलावा ½ छोटा चम्मच बेकिंग सोडा भी मिला सकती हैं।
  • नमक के अलावा आप ½ चम्मच ऑर्गेनिक हल्दी पाउडर भी मिला सकती हैं।
  • आप बिल्‍कुल जरा सी फिटकरी मिलाकर भी गरारे कर सकती हैं। 
  • आप इसे दिन में दो बार भी कर सकती हैं, जब तक कि आप बेहतर महसूस न करने लगें, ताकि आपके गले में नमी बनी रहे।

गरारे करने के फायदे 

gargle salt water inside

गले में खराश को करता है ठीक

गले में खराश को वैज्ञानिक रूप से 'ग्रसनीशोथ' के रूप में जाना जाता है। यह ग्रसनी की सूजन के अलावा और कुछ नहीं है (मुंह और नाक गुहा के पीछे गले का हिस्सा, अन्नप्रणाली और श्वासनली के ऊपर स्थित होता है)। गले में खराश दर्दनाक हो सकती है और विशेष रूप से निगलते समय जलन पैदा कर सकती है। गले में खराश आपके मुंह को ड्राई और खुजलीदार बना सकती है और इससे आपको बार-बार अपना गला साफ करने का मन करता है।

दर्द और सूजन को करता है कम

नमक में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो दांत दर्द, मसूड़ों से ब्‍लड आने और सूजन को कम करने में मददगार हो सकते हैं। नमक के पानी में हाइपरटोनिक गुण होते हैं और इसलिए दर्द और सूजन को कम करने में मदद कर सकता है।

बैक्टीरिया को सतह पर लाता है

नमक का पानी कुछ बैक्टीरिया को मारने में मदद करता है, लेकिन निश्चित रूप से सभी को नहीं मार सकता है, लेकिन बदले में यह बैक्टीरिया को गले की सतह पर ला सकता है, जब व्यक्ति गरारे करता है। एक बार जब बैक्टीरिया सतह पर आ जाते हैं, जब व्यक्ति गरारे करने के बाद इसे बाहर थूकता है तो बैक्टीरिया भी बाहर निकल जाते हैं।

Recommended Video

लुब्रिकेंट की तरह करता है काम

खारे पानी के गरारे गले में नमी को बनाए रखने में मदद करते हैं और लुब्रिकेंट के रूप में काम करते हैं और गले में जलन को शांत कर सकते हैं। यह आस-पास के टिशू से नमी खींचकर आपके गले को चिकनाई युक्त रख सकता है।

gargle salt water inside

इम्‍यून सिस्टम को करता है मजबूत 

पानी की गर्मी नमक को घुलने में मदद करती है और गले में ब्‍लड फ्लो को बढ़ाती है जिससे इम्‍यून सिस्‍टम में तेजी आती है। इससे छोटी-मोटी बीमारियां आपके दूर रहती है।

इसे जरूर पढ़ें:बार-बार गला हो रहा है खराब तो ये 3 देसी नुस्खे आएंगे काम

सावधानी

  • बहुत ज्‍यादा गरारे करने से बचें क्‍योंकि नमक की ज्‍यादा मौजूदगी के कारण यह आपके गले और मुंह के टिशू को ड्राई कर सकती हैं। 
  • गरारे करने के बाद नमक का पानी न निगलें। आप इसे थूक दें।
  • हाई ब्‍लड प्रेशर वाले लोगों को सोडियम सेवन से सावधान रहना चाहिए और गले में खराश से राहत के अन्य तरीकों का विकल्प चुन सकते हैं।

यह सारे फायदे पाने के लिए आप भी गरारे कर सकती हैं लेकिन तरीका और सावधानियों के बारे में विचार करना बेहद जरूरी है। इस तरह के और आर्टिकल पढ़ने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।  

Image Credit: Freepik.com