आपकी हेल्‍थ का राज आपकी किचन में छिपा है। जी हां किचन में मसाले एवं फल-सब्जी के रूप में आपकी हेल्‍थ के लिए खजाना है और उनमें से एक है - बेकिंग सोडा। बेकिंग सोडा में एंटी-बैक्‍टीरियल, एंटी-सेप्टिक और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। यह स्वाभाविक रूप से एसिडिक होता है, इसलिए एसिडिटी संबंधी रोगों के लिए इसका इस्तेमाल बहुत ही व्यापक रूप से किया जाता है। यह सर्दी-जुकाम से लेकर ओरल हेल्‍थ एवं त्वचा सम्बंधित विकारों सभी के ट्रीटमेंट के लिए उपयोग किया जाता है। ऑलराउंडर बेकिंग सोडा एक और उपयोग में लाया जा सकता है। जी हां इससे रूमेटाइट अर्थराइटिस या ऑटोइम्‍यून जैसी बीमारियों में होने वाली सूजन को कम करने में बहुत ही फायदेमंद है। यह बात एक नई रिसर्च से सामने आई है।

ऑगस्टा यूनि‍‍‍वर्सिटी में जॉर्जिया के मेडिकल कॉलेज द्वारा किए गए एक शोध के मुताबिक, बेकिंग सोडा की एक दैनिक खुराक से रूमेटाइड अर्थराइटिस और ऑटोइम्‍यून बीमारियों में होने वाली सूजन को दूर किया जा सकता है। शोधकर्ताओं की एक टीम के अनुसार,यह सस्ता, ओवर-द-काउंटर एंटासिड हमारे स्पलीन को उत्तेजित कर सूजन की समस्‍या में किसी चिकित्सक की तरह काम कर सकता है।

baking soda health in

Image Courtesy: Shutterstock.com

पेट के लिए अच्‍छा

उन्होंने यह भी दिखाया कि जब चूहें या हेल्‍दी लोग बेकिंग सोडा या सोडियम बाइकार्बोनेट का ड्रिंक पीते हैं, तो यह पेट को अधिक एसिड बनाने के लिए ट्रिगर करता है जिससे अगले भोजन को पचाने में हेल्‍प मिलती है। अध्ययन के संबंधित लेखक पॉल ओ'कोनर ने कहा, "यह संभवतः एक हैमबर्गर बैक्टीरिया है कोई इंफेक्‍शन नहीं है," मूल रूप से यही संदेश है।

इसे जरूर पढ़ें: घुटनों के दर्द को ना करें नजरअंदाज, है ये बड़ी बीमारी का संकेत

मेसोथेलियल सेल्‍स लाइन बॉडी कैविटी जो हमारे डाइजेस्टिव ट्रेक्‍ट में है और वे हमारे अंगों के बाहरी हिस्से को भी सचमुच एक साथ रगड़ने से रोकते हैं। लगभग एक दशक पहले, यह पाया गया कि ये सेल्‍स सुरक्षा का एक और स्तर भी प्रदान करता हैं। उनके पास माइक्रोवेली नामक छोटी उंगलियां होती हैं, जो पर्यावरण को समझती हैं, और वे अंगों को चेतावनी देती हैं जो एक आक्रमणकारक हैं और प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया की आवश्यकता है।

Recommended Video

सूजन को करती है कम

दो हफ्ते तक बेकिंग सोडा के साथ पानी पीने के बाद स्‍पलीन के साथ-साथ ब्‍लड और किडनी में भी उन्‍होंने बदलाव पाया क्‍योंकि पॉपुलेशन ऑफ इम्‍यून सेल्‍स मैक्रोफेज कहलाती है, जो मुख्य रूप से सूजन को बढ़ावा देती है, जिसे एम 1 कहा जाता है, जो इसे कम करते हैं, और जिन्हें M2 बुलाया जाता है।

baking soda health in
Image Courtesy: Shutterstock.com

किडनी के कई कार्यों में से एक एसिड, पोटेशियम और सोडियम जैसे महत्वपूर्ण यौगिकों को संतुलित करना है। ओ'कोनर ने कहा कि किडनी की बीमारी के साथ, किडनी सही तरीके से काम नहीं कर पाती है और इसका परिणाम एक यह हो सकता है कि ब्‍लड बहुत एसिडिक हो जाता है। महत्वपूर्ण परिणामों में कार्डियोवैस्कुलर बीमारी और ऑस्टियोपोरोसिस का बढ़ता जोखिम भी शामिल है।

इसे जरूर पढ़ें: इम्‍यूनिटी बढ़ाने के लिए बेस्‍ट है आयुर्वेद, ये 8 उपाय आप भी अपनाएं 



बेकिंग सोडा बटरमिल्‍क और केक में कोको जैसे एसिडिक अवयवों के साथ इंटरेक्ट करता है और अन्‍य बेक्‍ड गुड्स बैटर को एक्‍पैंड में मदद करता है। यह पूल में पीएच बढ़ाने में भी हेल्‍प कर सकता है, यह एंटासिड्स में पाया जाता है और आपके दांतों और टब को साफ करने में हेल्‍प कर सकता है। अध्ययन से निष्कर्ष जर्नल ऑफ इम्यूनोलॉजी में प्रकाशित हैं।

अगर आप भी खुद को हेल्‍दी रखना चाहती हैं तो अपने डेली रूटीन में बेकिंग सोडा को भी शामिल करें।