नींद ना आने की समस्या शरीर के लिए बहुत हानिकारक होती है। ऐसा कई लोगों के साथ होता है कि शरीर तो थक जाता है, लेकिन फिर भी नींद नहीं आती। किसी को शॉर्ट टर्म इंसोम्निया होता है तो किसी को ये बीमारी लंबे समय तक घेरे रहती है। अगर लॉन्ग टर्म इंसोम्निया है यानी लंबे समय से नींद नहीं आने की समस्या है और साथ ही साथ थकान बनी रहती है तो इसके लिए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए वहीं शॉर्ट टर्म इंसोम्निया के लिए कुछ देसी तरीके मददगार साबित हो सकते हैं। दरअसल, शॉर्ट टर्म इंसोम्निया कई बार स्ट्रेस, एंग्जाइटी, खराब लाइफस्टाइल या ऐसी किसी वजह से भी हो सकता है। ऐसे में अगर आप कुछ देसी तरीकों का इस्तेमाल करती हैं तो नींद ना आने की समस्या खत्म हो सकती है। ये देसी तरीके तब भी फायदेमंद होंगे अगर आपको रात में नींद टूट-टूटकर आती है।

1. मेडिटेशन-

तनाव से जुड़ी समस्याओं का इलाज मेडिटेशन भी हो सकता है। सही तरह से अगर मेडिटेशन किया जाए तो ये कई तरह के स्वास्थ्य संबंधित फायदे देता है। इससे हेल्दी लाइफस्टाइल भी मिलती है और अच्छी नींद भी। मेडिटेशन के लिए आपको बहुत ज्यादा कुछ नहीं करना है। बस सीधे बैठ जाएं, धीमी सांस लें और अपना ध्यान अच्छी चीज़ों पर केंद्रित करें। आपको जिस भी चीज़ से खुशी मिलती हो अपना ध्यान उसी ओर केंद्रित करें। बच्चों की हंसी, क्यूट जानवर, आपकी सफलता, भगवान, किसी भी ओर ध्यान लगाया जा सकता है।

2011 की स्टडी में ये बात सामने आई थी कि मेडिटेशन से इंसान के स्लीप पैटर्न में बदलाव हो सकता है। sleepfoundation की रिसर्च में भी यही बात कही गई है। अगर आपके पास ज्यादा देर मेडिटेशन में बैठने का समय नहीं है तो भी आप दिन में 15-20 मिनट इसे जरूर करें। सुबह उठकर ध्यान लगाना हेल्दी लाइफस्टाइल टिप है।

insomnia and home remedies

इसे जरूर पढ़ें- Expert Tips: लंबे समय तक जीना चाहती हैं तो हार्ट को हेल्‍दी रखने के लिए 'एबीसी जूस' पीएं

2. योगा-

मेडिटेशन के साथ ही योगा भी नींद के लिए एक बहुत अच्छा उपाय साबित हो सकता है। योगा भी नींद पर असर डालता है। जहां मेडिटेशन मेंटल फोकस के लिए जरूरी है वहीं योगा के साथ न सिर्फ मेंटल फोकस सही होता है बल्कि इससे फिजिकल फंक्शनिंग भी ठीक से होती है। जरूरी नहीं कि आप बहुत मुश्किल योगा पोज ट्राई करें। और ऐसा स्टाइल चुनें जिससे मेडिटेशन पर भी ज्यादा फोकस हो। आप अनुलोम-विलोम प्राणायाम से शुरुआत कर सकती हैं। इसी के साथ, ब्रीदिंग एक्सरसाइज वाले अन्य योगा पोज ट्राई करें। अपने पूरे योगा रूटीन में शवासन भी शामिल करें।

बालासन, पश्चिमोत्तानासन, भुजंगासन ये सभी नींद के लिए बहुत अच्छे साबित हो सकते हैं। पर ध्यान रहे कि ये हमें शरीर की फिटनेस के लिए करने हैं। अगर इनसे आप बहुत ज्यादा थक रही हैं तो इन्हें न करें।

3. रूटीन एक्सरसाइज

अगर आपको योगा करने में समस्या हो रही है तो भी आप एक्सरसाइज का एक रूटीन जरूर बना लें। ये जरूरी नहीं कि आप बहुत कड़ी एक्सरसाइज करें या जिम जाएं बल्कि आरामदायक एक्सरसाइज रूटीन फॉलो करें। हाउसवाइफ्स के लिए 10 मिनट कार्डियो रूटीन काफी होगा। sleepfoundation के एक आर्टिकल के मुताबिक एक्सरसाइज के दौरान बॉडी टेम्प्रेचर बढ़ता है और एक्सरसाइज खत्म होने के बाद शरीर का तापमान गिरता है जिससे नींद आती है। ये डिप्रेशन आदि के लिए भी अच्छी है।

Recommended Video

4. मैग्नीशियम-

कई रिसर्च इस सब्जेक्ट पर की गई हैं कि आखिर किस तरह के फूड बेहतर नींद के लिए जरूरी हैं। मैग्नीशियम से भरपूर फूड हमारे शरीर की नींद की कमी पूरी कर सकते हैं। मैग्नीशियम के कारण शरीर का GABA (gamma-Aminobutyric acid) लेवल बढ़ जाता है जिससे शरीर रिलैक्स होता है। ये नींद के लिए काफी अच्छा है। स्टडी के अनुसार दिन में 300-400mg मैग्नीशियम अपनी डाइट में शामिल करना सही है। आप नहाते वक्त magnesium flakes भी अपने नहाने के पानी में डाल सकती हैं। मैग्नीशियम को स्किन के जरिए एब्जॉर्ब होने दीजिए। ये स्किन और नींद दोनों के लिए फायदेमंद हो सकता है।

insomnia and research curing tips

5. मसाज-

रिलैक्सिंग मसाज हमारे शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होती है। अगर आप किसी प्रोफेशनल से मसाज नहीं ले सकती हैं तो भी आप सेल्फ मसाज ट्राई कर सकती हैं। फेस मसाज से ही बहुत फायदा मिल सकता है और वो आसानी से आप कर सकती हैं। आप ऑनलाइन इस बारे में रिसर्च कर सकती हैं कि कौन से मसाज प्वाइंट्स को प्रेस कर आप रिलैक्स हो सकती हैं। अगर आपको कोई हेल्थ कंडीशन है जिसके कारण मसाज नहीं ली जा सकती तो इसे न लें। कोशिश करें कि अपने मसाज के तेल में एसेंशियल ऑयल जरूर शामिल करें।



इसे जरूर पढ़ें- शॉपिंग या ट्रैवल के वक्त क्या gloves पहनने से होगा फायदा? WHO की ये जानकारी आएगी आपके काम

6. लैवेंडर ऑयल-

2005 में की गई एक स्टडी में ये बात सामने आई थी कि लैवेंडर ऑयल के जरिए मूड अच्छा होता है और ये नींद के लिए भी फायदेमंद साबित हो सकता है। लैवेंडर ऑयल कैप्सूल भी लोगों के लिए सही होते हैं, लेकिन इन्हें खाने से पहले डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। इसके अलावा, आप नहाने के पानी में लैवेंडर ऑयल का इस्तेमाल कर सकती हैं और एयर डिफ्यूजर के जरिए कमरे में लैवेंडर की खुशबू फैला सकती हैं। डिफ्यूजर में कुछ बूंदें लैवेंडर ऑयल की डालिए और इसे हवा में घुलने दीजिए। आप चाहें तो इसकी कुछ बूंदे तकिए पर भी छिड़क सकती हैं, लेकिन तब लैवेंडर की खुशबू काफी ज्यादा आएगी।

ये सभी तरीके कई रिसर्च के आधार पर बताए गए हैं और इनके कारण नींद की समस्या में कमी आ सकती है। अगर इसके बाद भी आपकी समस्या बनी हुई है तो डॉक्टर से सलाह लें। कोई भी दवा अपने मन से खाना खतरनाक हो सकता है। इसलिए देसी नुस्खे ही अपनाएं। ये स्टोरी अगर आपको पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें और ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हर जिंदगी से।