पिछले कुछ सालों में डेंगू बुखार के कहार में जबरदस्त तरीके से वृद्धि हुई है। मानसून के दौरान इस मच्छर जनित संक्रमण का होना काफी आम है। डेंगू बुखार के लक्षणों में फ्लू जैसी बीमारी, शरीर में दर्द और चकत्ते आदि शामिल हैं। डेंगू एडीज प्रजाति के मच्छर के काटने से लोगों में फैलता है जो डेंगू वायरस से संक्रमित होता है। एक व्यक्ति इस वायरस से संक्रमित मच्छर से थोड़ा संपर्क में आने पर डेंगू बुखार पकड़ लेता है। वायरस ब्‍लड में जाकर व्यक्ति को संक्रमित करता है। एडीज प्रजाति के मच्छर चिकनगुनिया, मलेरिया, जीका वायरस और अन्य वायरस फैलाने के लिए भी जिम्मेदार हैं। इस आर्टिकल के माध्‍यम से हम आपको डेंगू से बचाव के नुस्‍खों के बारे में बताने जा रहे हैं जो इस बीमारी से प्रभावी रूप से सुरक्षा प्रदान करते हैं।

इसे जरूर पढ़ें: Dengue जैसी खतरनाक बीमारी से बचना है तो ये 5 ayurvedic tips अपनाएं

डेंगू की रोकथाम और रिकवरी टिप्स

 
 
 
View this post on Instagram

Dengue - Prevention and recovery Dengue, i am told is pronounced as Dengee, but one of the main reasons for its increased incidences in our lives today is of course - more mosquitoes, but also the fact that people have weaker immune systems. Constant dieting and overexercising often puts people at a risk, so does having unregulated blood sugars and hormonal imbalances (read PCOD, Diabetes and Thyroid). Here's a list of things that are both tasty and therapeutic and go a long way in preventing the risk of infection and accelerate recovery - 1. 1tsp of Gulkand either first thing in the morning or as an in between meals. Prevents acidity, nausea and weakness. 2. 1 glass of milk + 1 glass of water - add pinch of haldi, 2-3 strands of kesar, tiny bit of jaiphal (nutmeg) - boil it till its half the quantity. Have it cold or hot and add jaggery to taste. Boosts immunity, reduces inflammation and prevents protein loss. 3. Rice kanji or pej - essentially a soup made of rice. Add kalanamak or sendha namak, a pinch of hing and ghee. Prevents dehydration, loss of electrolytes and works on improving appetite. 4. Water - sip on it through the day to restore urine volume and check that colour is clear. 5. Stay in the Supta badhakonasana, the Iyengar style with a bolster to support the back and a blanket under your head if needed to support the neck. Helps relieve back ache and body pains, allows the trunk to relax. #dengue #homecare

A post shared by Rujuta Diwekar (@rujuta.diwekar) onSep 9, 2019 at 11:43pm PDT

सेलेब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर ने अपने इंस्‍टाग्राम अकाउंट पर डेंगू से बचाव और रिकवरी टिप्स शेयर किए है ताकि डेंगू बुखार को रोका जा सके। उन्‍होंने  अपनी पोस्ट की शुरुआत यह कहकर किया है कि ''डेंगू बुखार का सबसे आम कारण संक्रमित मच्छर है, लेकिन यह खराब इम्‍यूनिटी के कारण भी होता है जिससे लोग डेंगू संक्रमण के शिकार हो जाते हैं।'' 

वह यह भी कहती हैं कि ''लगातार डाइटिंग और ओवर-एक्सरसाइज - आपके शरीर को आराम करने और ठीक होने के लिए पर्याप्त समय दिए बिना - लोगों को डेंगू जैसी बीमारियों के खतरे में डालता है। अन्य सामान्य डेंगू बुखार जोखिम कारकों में अनियमित या शुगर का हाई लेवल (डायबिटीज के मामले में) और हार्मोनल असंतुलन (पीसीओडी और थायरॉयड के मामले में) शामिल हैं।'' लेकिन परेशान ना हो क्‍योंकि रुजुता दिवेकर के कुछ ऐसे उपाय हैं जो डेंगू होने के खतरे को कम करने के साथ हमें इस बीमारी से रिकवर होने में भी हेल्‍प करते हैं।

गुलकंद

dengue prevention tips rujuta inside

सबसे पहले सुबह या खाने के बीच में आपको 1 चम्मच गुलकंद लेना है। रुजुता का कहना हैं कि इससे एसिडिटी, मिचली और वीकनेस नहीं होती है, जो डेंगू बुखार का सबसे पहला लक्षण है।

राइस सूप

यह एक तरह का सूप है जो चावल से बना हुआ होता है। यह भी डेंगू बुखार का बहुत अच्‍छा इलाज है। इसमें काला नमक या सेंधा नमक डालें, थोड़ी मात्रा में हींग और घी, यह डिहाइड्रेशन से बचाता है और भूख को भी बढ़ाता है, जो डेंगू के कारण होता है। यह इम्‍यूनिटी को बूस्‍ट करता है और आपको डेंगू से बचाना में मदद करता है।

बद्ध कोणासन करें

dengue prevention tips rujuta inside

बद्ध कोणासन योग की प्रैक्टिस करें और इसे करते समय अपने सिर के नीचे सपोर्ट के लिए कंबल रखें। इससे आपको बॉडी और बैक पेन से आराम मिलेगा और आप रिलैक्स महसूस करेंगे, जो डेंगू फीवर का आम लक्षण है।

इसे जरूर पढ़ें: Health Tips: डेंगू होने पर क्‍या खाना चाहिए और क्‍या नहीं, जानिए

हर्बल ड्रिंक

हर्बल ड्रिंक भी डेंगू फीवर के ट्रीटमेंट में आपकी हेल्‍प करता है। इसे बनाने के लिए आपको दूध, पानी, हल्‍दी, केसा और जायफल की जरूरत होती है। आप एक ग्‍लास दूध और 1 ग्‍लास पानी लेकर उसमें चुटकी भर हल्‍दी और 2 से 3 केसर के स्ट्रैन्ड्स मिला लें। अब इसमें चुटकी भर जायफल मिलाकर, इसे तब तक उबालें, जब तक यह आधा न हो जाए। इसे आप गरम या ठंडा होने पर ले सकते हैं साथ ही इसमें टेस्ट के लिए गुड़ का इस्तेमाल कर सकती हैं। यह इम्यूनिटी को बढ़ाता है, सूजन को कम करता है और प्रोटीन के क्षय को रोकता है।

खूब सारा पानी पिएं

dengue prevention tips rujuta inside

डेंगू बुखार से परेशान लोगों को दिनभर खूब सारा पानी पीना चाहिए। यह यूरीन की मात्रा को रिस्‍टोर करने में हेल्‍प करता है। यह सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त पानी पिएं कि यूरीन का कलर साफ है।

इन टिप्‍स को अपनाकर आप भी डेंगू बुखार का आसानी से इलाज कर सकती हैं। तो देर किस बात कि आप इन टिप्‍स को अपनाएं और अपने जान-पहचान वाले लोगों को भी इन टिप्‍स के बारे में बताये।