महिलाओं को हर महीने होने वाली माहवारी के प्रति जैसे-जैसे लोगों की खासतौर से स्वयं महिलाओं की जागरूकता बढ़ी है, वह अपने हाईजीन को लेकर अधिक सतर्क होने लगी हैं। कुछ सालों पहले तक माहवारी के दौरान महिलाएं कपड़े का इस्तेमाल किया करती थीं, लेकिन धीरे-धीरे उनका रूख सैनिटरी पैड्स की तरफ बढ़ा और अब आज के समय में पीरियड्स के दौरान हैवी ब्लड फ्लो को मैनेज करने के लिए महिलाएं टेम्पोन व मेंस्ट्रुअल कप जैसे प्रॉडक्ट्स का भी इस्तेमाल करने लगी हैं।

हालांकि, अभी भी इन प्रॉडक्ट्स को लेकर महिलाओं को पूरी और सटीक जानकारी नहीं है और इसलिए वह अपने मन में इन्हें लेकर कई तरह के मिथ्स व भ्रम पाल लेती हैं। हैवी ब्लड फ्लो के लिए मेंस्ट्रुअल कप जैसे प्रॉडक्ट्स बेहद उपयोगी हैं, लेकिन फिर भी कुछ महिलाएं इसे इस्तेमाल करने से कतराती हैं। हो सकता है कि आप भी मेंस्ट्रुअल कप से संबंधित कुछ मिथ्स पर भरोसा करती हों। तो चलिए आज हम आपको ऐसे ही पॉपुलर मिथ्स और उनकी सच्चाई के बारे में बता रहे हैं-

मिथ 1- एक साइज का मेंस्ट्रुअल कप सब पर फिट बैठता है।

inside  menstrual cup myths

सच्चाई- नहीं, इस बात में कोई सच्चाई नहीं है। दरअसल, कुछ महिलाएं मेंस्ट्रुअल कप का इस्तेमाल करने से इसलिए भी घबराती हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि यह उनके प्राइवेट पार्ट में फंस जाएगा या फिर आसानी से स्लिप हो जाएगा। नहीं, ऐसा नहीं होगा, क्योंकि मार्केट में मेंस्ट्रुअल कप अलग-अलग साइज के मिलते हैं और इसलिए आपको अपने लिए एक सही विकल्प को चुनना चाहिए। 

मिथ 2- मेंस्ट्रुअल कप के अंदर पेशाब करना मुश्किल होता है

inside  menstrual cup myths

सच्चाई- यह भी मेंस्ट्रुअल कप को लेकर एक पॉपुलर मिथ है, जिसके कारण महिलाएं इसका इस्तेमाल करने से बचती हैं। उन्हें लगता है कि मेंस्ट्रुअल कप को लगाने के बाद वह पेशाब नहीं कर पाएंगी या फिर ऐसा करना उनके लिए बेहद कठिन होगा। हालांकि, ऐसा नहीं है। आप ऐसा इसलिए सोचती हैं, क्योंकि आप अभी तक भी अपने शरीर को बेहतर तरीके से नहीं जान पाई है। अगर आप अपने प्राइवेट पार्ट का करीबी से निरीक्षण करेगी तो आपको पता चलेगा कि आपके प्राइवेट पार्ट में एक मूत्रमार्ग और एक योनि है। मूत्रमार्ग वह द्वार है जहाँ से आप पेशाब करती हैं और योनि वह द्वार है जहां से पीरियड्स के दौरान आपको ब्लीडिंग होती है। इसलिए आपको चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है।

इसे ज़रूर पढ़ें- Expert Tips: पीसीओएस से निपटने के लिए असरदार डायग्‍नोसिस

मिथ 3- मेंस्ट्रुअल कप को रात में नहीं पहना जा सकता है

inside  menstrual cup myths

सच्चाई- यह भी पूरी तरह से असत्य है। कुछ महिलाएं सोचती हैं कि अगर मेंस्ट्रुअल कप को पहनकर वह लेंटेंगी तो इससे ब्लड का फ्लो उल्टा हो जाएगा। जबकि ऐसा कुछ भी नहीं है। मेंस्ट्रुअल कप को कभी भी और कहीं भी इस्तेमाल किया जा सकता है। मेंस्ट्रुअल कप आमतौर पर लगभग 8-12 घंटे लीक प्रूफ सुरक्षा प्रदान करते हैं और इसलिए रात में पहनने के लिए अधिक बेहतर ऑप्शन माने जाते हैं। कप योनि की दीवारों के चारों ओर एक वैक्यूम सील बनाते हैं, जिससे न्यूनतम रिसाव और अधिकतम आराम मिलता है।

Recommended Video

मिथ 4- मेंस्ट्रुअल कप अनकंफर्टेबल होते हैं।

INSIDE myths

सच्चाई- अगर आप भी इस बात पर भरोसा करती हैं तो बस एक बार जरा सोचकर देखिए कि अगर यह कप इतने असहज होते, तो इतने सारे ब्रांड इसका उत्पादन क्यों करते। ये कप 100 प्रतिशत मेडिकल ग्रेड सिलिकॉन से बने हैं और उपयोग करने के लिए बेहद सुरक्षित हैं। जब इन्हें सही ढंग से इस्तेमाल किया जाता है तो किसी को कोई दर्द या परेशानी महसूस नहीं होती है। हां, यह अवश्य है कि आपको अपने लिए एक सही साइज के मेंस्ट्रुअल कप को ढूंढने और उसे सही तरह से इस्तेमाल करने के तरीके को जानने व समझने में थोड़ा वक्त लगे। लेकिन जब आप एक बार इसे इस्तेमाल करना सीख जाती हैं तो यह यकीनन आपके लिए बेहतर ऑप्शन साबित हो सकते हैं।

इसे ज़रूर पढ़ें- पीरियड्स में मेंस्ट्रुअल कप का इस्‍तेमाल कैसे करना चाहिए, जानें

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- Freepik