मेडिटेशन या ध्यान एक ऐसी प्रक्रिया है जो जीवन में एक ठहराव लाती है जिससे संरेखण और पुनर्संरेखण की प्रणाली को समझने में मदद मिलती है। यदि हम मेडिटेशन के बारे में स्पष्टता हासिल करना चाहते हैं तो यह हमारे विकास के लिए चमत्कार कर सकती है। 

यदि आप तनावग्रस्त हैं और निरंतर चिंता की स्थिति में ध्यान गेम चेंजर हो सकता है जो हमें शांति और आनंद की स्थिति की ओर बढ़ने में मदद करता है। मेडिटेशन से हमारे मस्तिष्‍क में किसी तरह के बदलाव ला सकता है, इस बारे में हमें योगा मास्टर, फिलांथ्रोपिस्ट, धार्मिक गुरू और लाइफस्टाइल कोच ग्रैंड मास्टर अक्षर जी बता रहे हैं।

विकास के लिए

जब ठहराव का अनुभव होता हैं और बढ़ना चाहते हैं, तो मेडिटेशन हमारी सफलता और सीखने में तेजी लाने में मदद करती है। मेडिटेशन का मूल उद्देश्य विकास सकारात्मकता उत्पादकता और प्रगति है। मेडिटेशन मस्तिष्क पर एक शक्तिशाली प्रभाव डालता है क्योंकि यह हमें खुद से बात करने में मदद करता है। 

मेडिटेशन स्वयं से एक मजबूत संबंध स्थापित करता है। आत्म-चर्चा की इस प्रक्रिया के माध्यम से व्यवहार, जीवन शैली, विचारों और आदतों के संदर्भ में अपने लिए परिवर्तन ला सकते हैं। स्वास ध्यान, स्थिर ध्यान और त्राटक ध्यानजैसी मेडिटेशन तकनीकें मस्तिष्क का पूर्ण उपयोग करती हैं और मस्तिष्क रसायन विज्ञान में परिवर्तन लाती हैं जिससे जीवन जीने के तरीके में बदलाव आता है।

meditation benefits for brain

हीलिंग और तसल्ली

मेडिटेशन योग के उन उपकरणों में से एक है जो मन को शांत करता है और इसमें एक शक्तिशाली उपचार क्षमता होती है। मेडिटेशन विचार प्रक्रियाओं को ढालने का अभ्यास है ताकि यह केवल अच्छाई की ओर ले जाए। विचारों को उत्पादकता और विकास की ओर ले जाने से जीवन शक्ति और ऊर्जा मजबूत होती है।

इसे जरूर पढ़ें:क्या मेडिटेशन करते समय हो रही है कठिनाई? अपनाएं ये टिप्स

नर्वस सिस्‍टम पर मेडिटेशन का प्रभाव

मेडिटेशन को हार्मोन और न्यूरोट्रांसमीटर जैसे डिहाइड्रोएपि- एंड्रोस्ट्रोन, कोर्टिसोल, सेरोटोनिन, मेलाटोनिन और एपिनेफ्रीन को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करने के लिए माना जाता है। मेडिटेशन की प्रक्रिया शरीर में एक ठहराव लाती हैं। इससे हृदय गति में सुधार होता है, चयापचय में कमी आती है, रक्तचाप कम होता है, श्वास में सुधार होता है और मस्तिष्क तरंगें होती हैं। 

ऐसे अध्ययन किए गए हैं जो बताते हैं कि कैसे ध्यान के दौरान मस्तिष्क सेरोटोनिन में वृद्धि होती है। सेरोटोनिन को 'हैप्पी हार्मोन' भी कहा जाता है और यह मूड नियमन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए जाना जाता है।

brain meditation

मेडिटेशन की विभिन्न तकनीकें

जैसे शरीर के विभिन्न हिस्सों और संबंधित मसल्‍स समूहों पर काम करने के लिए शरीर को विभिन्न प्रकार के एक्‍सरसाइज की आवश्यकता होती है, वैसे ही मस्तिष्क के कार्यों से संबंधित विशिष्ट परिणामों के लिए अलग-अलग मेडिटेशन तकनीकें होती हैं। 

इसे जरूर पढ़ें:मेडिटेशन से मिलती है शांति, घर में इस तरह बनाएं मेडिटेशन रूम

सुपरपावर मेडिटेशन जैसी ध्यान तकनीक एक शक्तिशाली तकनीक है जो हमारी रचनात्मकता और उद्देश्य पर काम करती है। दूसरी ओर स्वास ध्यान जैसी तकनीकों का मन और शरीर पर बहुत ही शांत प्रभाव पड़ता है। 

Recommended Video

श्वास ध्यान का उपयोग सांस पर ध्यान केंद्रित करने के लिए किया जाता है जो बदले में चिंता, तनाव, डिप्रेशनआदि जैसी किसी भी मानसिक गड़बड़ी को समाप्त करता है। इसलिए, विभिन्न लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए मस्तिष्क में परिवर्तन लाने के लिए ध्यान में कई तरह की तकनीकें शामिल हैं।

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेस बुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik & Shutterstock.com