हम में सभी कभी न कभी कब्ज की समस्या से परेशान रहे है। कब्ज में हमारा मल सूखा और कठोर हो जाता है और इसे शरीर से बाहर निकालने में परेशानी होती है। ऐसे में हर दिन शौच करने में दिक्कत होती है। इस मामले में अगर स्थिति बिगड़ती है तो कई हफ्ते तक शौच नहीं होता। इससे मल त्याग का तंत्र खराब हो जाता है और गम्भीर कब्ज की समस्या हो सकती है। आजकल कब्‍ज की समस्‍या ज्‍यादातर लोगों को परेशान कर रही हैं क्‍योंकि क्‍वारंटाइन के दौरान लोग सारा दिन घर में बैठे रहते हैं और बहुत से लोग तो एक्‍सरसाइज भी नहीं करते हैं। लेकिन सबसे पहले कब्‍ज के लक्षणों और कारणों के बारे में जान लेते हैं। 

कब्ज के कुछ लक्षण

  • सूखा और कठोर मल
  • दो-तीन दिन तक शौच नहीं होना
  • शौच करते समय कठिनाई या दर्द होना
  • पेट में सूजन और दर्द
  • आलस्य और पेट में गैस की तकलीफ होना

लेकिन सवाल यह है कि कब्ज का आखिर कारण क्या है। कारण कई हो सकते हैं, जैसेः-

इसे जरूर पढ़ें: कब्‍ज से हैं परेशान तो इन 10 नेचुरल चीजों से करें इलाज 

कब्ज के कारण 

खराब खान पान

unhealthy food Inside

यह वयस्कों में कब्ज के सबसे सामान्य कारणों में से एक है। समय पर भोजन नहीं करना, रिफाइंड और प्रोसेस्ड फूड्स का सेवन और कभी भी, कुछ भी खा लेने से पाचन तंत्र गड़बड़ा जाता है।

डायबिटीज

ब्लड शुगर के बढ़ने से नसों को नुकसान पहुंचता है और इससे कब्ज की समस्या हो सकती है। ऐसे में मधुमेह से पीड़ित लोग दूसरों के मुकाबले कब्ज के आसानी से शिकार हो जाते हैं।

विरेचक दवाओं का सेवन

जब विरेचक औषधियों का अधिक सेवन करते हैं तो आप अपने शरीर और दिमाग को उनका गुलाम बना रहे होते हंै। इससे आपकी आंतों का प्राकृतिक काम कमजोर पड़ता है और कब्ज की समस्या बढ़ जाती है।

तनाव

stress Inside

दिमाग शरीर और इसके सिस्टम को सीधे तौर पर प्रभावित करता है। तनाव और अवसाद से शरीर सुस्त हो जाता है और कब्ज का कारण बन जाता है।

शौच को रोके रखना

किसी बैठक या यात्रा के कारण अगर आप शौच के लिए नहीं जा रहे हैं, तो यह भी कब्ज का कारण बन सकता है।

डिहाइड्रेशन

dehaydration Inside

हमारा शरीर 75 प्रतिशत तक जल से बना है। जल से ही हमारा मल नर्म पड़ता है और इसे शरीर से बाहर निकालने में सहायता मिलती है, क्योंकि आंतों को अधिक पानी की जरूरत होती है। इसलिए पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं पीने से मल कठोर हो सकता है।

लेकिन परेशान होने की जरूरत नहीं है क्‍योंकि योग की इन तकनीकों से आप कब्ज की समस्या का मुकाबला कर सकते है।  इन योगासन के बारे में हमें योग संस्थान के डायरेक्‍टर डॉक्‍टर हंसाजी जयदेव योगेंद्र जी बता रहे हैं।

1- पवन मुक्तासन

pavanamukht asana for constipation

यह पाचन तंत्र को ठीक करता है और पेट की गैस खत्म करता है। यह गंभीर कब्ज की स्थिति में भी आराम दिलाता है।

2- धनुरासन

dhanurasana for constipation

इस आसन में पेट के अंगों पर प्रेशर डाला जाता है और इससे उत्सर्जन की प्रक्रिया में सहायता मिलती है।

3- भुजंगासन

bhujangasana constipation

इसे कोबरा की भंगिमा के रूप में जाना जाता है। यह पाचन तंत्र को बेहतर बनाने के लिए काफी लाभकारी और प्रभावी माना जाता है। यह न सिर्फ पेट की मासंपोशियों को मजबूत बनाता है, बल्कि पूरे पाचन तंत्र की सफाई भी करता है।

इसे जरूर पढ़ें: घर बैठे वजन करना है कम तो पीएम मोदी से सीखें ये 5 योग, वीडियो देखकर करें

4- वज्रासन

यह आसन आपके बैठने का तरीका सही करता है और इसी के साथ पेट में ब्‍लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाता है। इससे पाचन क्रिया सही होती है। वज्रासन पेट की बीमारियों, कब्ज और पाचन क्रिया संबंधी अन्य परेशानियों को ठीक करता है।

Recommended Video

5- प्राणायाम चतुर्थ

इसमें पेट की मांसपेशियों का व्यायाम होता है और पाचन प्रक्रिया सही करने में सहायता मिलती है। नियमित तौर पर यह प्राणायाम किया जाए तो कब्ज की समस्या से छुटकारा मिल जाता है।

कब्ज को ठीक करने के कुछ और उपाय

  • हर रोज गर्म पानी पीएं।
  • फाइबर से भरपूर फल, मौसमी सब्जियां और 12-13 गिलास पानी के साथ हेल्‍दी भोजन लें।
  • दही, मोटा अनाज, छाछ, हर्बल चाय और आम आदि से भी कब्ज में आराम मिलता है।

इन उपायों को अपनाकर आप भी कब्‍ज की समस्‍या से छुटकारा पा सकते हैं। ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़े रहें।