किसी भवन के ब्लॉक्स की ही तरह, प्रोटीन हमारे शरीर में महत्वपूर्ण मूल तत्त्व हैं – जो ऐसे कई काम करते हैं जिससे वे अचल हो जाते हैं। शरीर को लगातार प्रोटीन की जरूरत होती है, न केवल नई सेल्‍स को बनाने के लिए, बल्कि मौजूदा टिश्‍यु और सेल्‍स की मरम्मत के लिए भी, जिससे उनकी खपत अच्छी हेल्‍थ के लिए महत्वपूर्ण बन जाती है। प्रोटीन से हमें लगभग 10-15 प्रतिशत आहार एनर्जी मिलती है। जबकि पानी मानव शरीर का मुख्य घटक है, यह प्रोटीन के पश्चात सबसे नजदीकी घटक है –जो हमारी मसल्‍स (लगभग 43%), त्वचा (15%) और ब्‍लड (16%) में एक बड़ी मात्रा में मौजूद है।

प्रोटीन की कमी, जिसकी संभावना कम है, किसी व्यक्ति में प्रतिबंधात्मक आहार या चिकित्सा स्थिति से हो सकती है। जब आपको आपके आहार में पर्याप्त प्रोटीन न मिल रहा हो, तब आपका शरीर बिभिन्न तरिकों से आपको सूचित करता है। इस आर्टिकल इंडिया एंड एमर्जिंग मार्केट्स, मायप्रोटीन की प्रबंध संचालिका इशा सिंगने प्रोटीन की कमी के सबसे बड़े कथनों को विस्तारपूर्वक बताया है। आइए आप भी हमारे साथ इस बारे में विस्‍तार से जानें। 

इसे जरूर पढ़ें: वेट लॉस के लिए अब नहीं बहाना होगा पसीना, सिर्फ ये 7 प्रोटीन फूड्स खाएं और वजन घटाएं

बालों और त्वचा की समस्याएं और नाखूनों का टूटना

hair fall inside

प्रोटीन आपकी त्वचा, बालों और नाखूनों का एक अनिवार्य हिस्सा होने से, उनका स्वास्थ्य एक कमी दर्शाने का एक अच्छा सूचक हो सकता है। आप त्वचा पर लालिमा देख सकते है, आपको नाखून नर्म लग सकते हैं और समय के साथ आपके बाल अधिक मात्रा में झड़ सकते हैं। बाल अपनी चमक कुछ हद तक खो सकते हैं, और वे उतने घने नहीं होंगे जितने पहले हुआ करते थे। बाल विभाजित भी होने लगते हैं। बायोटिन, जो प्रोटीन युक्त फूड्स में पाया जाता है, प्राकृतिक रूप से स्वस्थ बालों, त्वचा और नाखूनों के लिए आवश्यक है।

मसल्‍स मास की कमी

अक्सर अपर्याप्त प्रोटीन सेवन के पहले लक्षणों में से एक है मसल्‍स मास की कमी। जिसकी वजह है, जब शरीर को आहार से प्रोटीन नहीं मिल पाता, वह हमारे मसल्‍स में से आवश्यक प्रोटीन लेने लगता है। समय के साथ, यह मसल्‍स को बर्बाद कर देता है। आपको हेल्‍दी मसल्‍स के निर्माण के लिए जरूरी प्रोटीन प्राप्त करना आवश्यक है।

भूख बढ़ना और कैलोरी ज्‍यादा लेना

feeling hungry inside

कुछ मीठा खाने को जी ललचा रहा है? जब आपको पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन नहीं मिल रहा होता है, आपका शरीर वास्तव में अधिक भूख महसूस करवाकर प्रतिक्रिया देने लगता है। और आमतौर पर, भूख में वृद्धि मीठी चीज़े खाने की ओर जी ललचाती है। पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन का सेवन आपको लंबे समय तक संतुष्ट रख सकता है, जिससे लालसा और भूख की पीड़ा को रोका जा सकता है। हालांकि, प्रोटीन का कम सेवन इसके बिल्कुल विपरीत काम करता है; यह आपको भूखा रखता है, जिसके परिणामस्वरूप कैलोरी का सेवन बढ़ जाता है।

हड्डी आसानी से फ्रैक्चर होना या टूटना

आपकी हड्डियों को भी खतरा है। प्रोटीन हड्डियों की ताकत और घनत्व को बनाए रखने में मदद करता है। पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन का सेवन न करने से आपकी हड्डियां कमजोर हो सकती है और फ्रैक्चर का खतरा बढ़ जाता है। क्या आपको हाल ही में फ्रैक्चर हुआ है या आपकी हड्डी टूटी है? हड्डियों के घनत्व और ताकत के निर्माण के लिए पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन प्राप्त करना आवश्यक है।

Recommended Video

चोट धीमी गति से ठीक होना

क्या कोई घाव है जो हमेशा की तेज गति से ठीक नहीं हो रहा है? इसका आपके प्रोटीन के लेवल के साथ कुछ संबंध हो सकता है। खेल से संबंधित चोटों को ठीक करने और उनके ठीक होने की गति बढ़ाने में मदद करने के लिए जरूरी दैनिक न्यूनतम प्रोटीन की मात्रा प्राप्त करना आवश्यक है।

कमजोर इम्‍यूनिटी

weak immune inside

प्रोटीन में पाई जाने वाली अमीनो एसिड की कमी से आपको कोई बीमारी लगने का खतरा बढ़ सकता है। इससे आपकी प्रतिरक्षा पर प्रतिकूल असर पड़ता है, और संक्रमणों से लड़ने की आपके शरीर की क्षमता को असमर्थ कर सकता है। रिसर्च बताती हैं कि प्रोटीन, विशेष रूप से व्हे (दूध का पानी) प्रोटीन, का सेवन प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने और बीमारियों को दूर रखने में मदद कर सकता है। जब प्रतिरक्षा की बात आती है, तब ऐसी कोई अतिरिक्त बात है जो व्हे प्रोटीन को अन्य प्रोटीनों से अलग रखती है: व्हे प्रोटीन कुछ टिश्‍युओं में ग्लूटाथियोन उत्पादन को बढ़ावा देता है। ग्लूटाथियोन शरीर में एंटीऑक्सीडेंट रक्षा प्रणाली के केंद्र में होता है जो प्रतिरक्षा कार्य को निर्धारित करता है।

इसे जरूर पढ़ें: प्रोटीन लेने से पहले ये जान लें, कहीं आप गलत प्रोटीन तो नहीं ले रहीं

भारतीय वयस्कों के लिए, दैनिक प्रोटीन का अनुशंसित सेवन शारीरिक वजन के प्रति किलोग्राम लगभग 0.6 ग्राम है। विभिन्न खाद्य पदार्थ भिन्न भिन्न मात्रा में प्रोटीन प्रदान करते हैं, लेकिन जो मुख्य स्त्रोत है उनमें मांस, मछली, अंडे, दूध, पनीर, अनाज और अनाज के उत्पाद (जैसे रोटी/ब्रेड), सूका मेवा (नट्स) और दालें (फलियां और दाल)। अधिकांश अन्य प्रोटीन स्रोतों की तुलना में, व्हे प्रोटीन प्रतिरक्षा कार्यप्रणाली के कई प्रमुख पहलुओं को अनुकूलित करने की उनकी क्षमता में अद्वितीय हैं।

प्रोटीन पर ही ध्यान केंद्रित करते हुए, अपने शरीर को सर्वोत्तम देने हेतु, अन्य पोषक तत्व जैसे कार्बोहाइड्रेट, वसा, विटामिन और खनिजों सहित सभी खाद्य समूहों का विविध और संतुलित आहार लेना महत्वपूर्ण है। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हर जिंदगी से जुड़े रहें। 

Image Credit: Freepik.com