ऑस्टियोपोरोसिस ऐसी प्रॉब्‍लम है, जिसमें हड्डियां कमजोर होने लगती है। ये समस्‍या उम्रदराज महिलाओं को अक्‍सर परेशान करती है। जी हां 50 साल की उम्र के बाद हर तीन में एक महिला को यह समस्‍या होती है। लेकिन बदलती लाइफ स्‍टाइल और खानपान में लापरवाही के कारण यह समस्‍या कम उम्र की महिलाओं को भी परेशान कर रही हैं।

धूप से बचने की आदत, कैल्शियम युक्‍त फूड्स के कम सेवन और बढ़ते प्रदूषण के कारण भारत की महिलाओं में हड्डियों को खोखला बना देने वाली खामोश बीमारी 'ऑस्टियोपोरोसिस' का खतरा बढ़ रहा है। कम उम्र की लड़कियों, किशोरियों, प्रेग्‍नेंट महिलाओं, ब्रेस्‍टफीडिंग कराने वाली महिलाओं और मेनोपॉज में आदतन कैल्शियम का सेवन कम होता है, जो ओस्टियोपोरोसिस का मुख्य कारण है।

इसे जरूर पढ़ें: Make Your Bones Stronger

Osteoporosis health ins

एक्‍सपर्ट की राय

आर्थराइटिस केयर फाउंडेशन (एएफसी) के अध्यक्ष और इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल के वरिष्ठ आर्थोपेडिक सर्जन डॉक्‍टर राजू वैश्य का कहना है कि "भारतीयों में जीवन प्रत्याशा बढ़ने के साथ-साथ महिलाओं में विटामिन-डी की कमी का प्रकोप भी बढ़ रहा है। विटामिन-डी की कमी की व्यापक समस्या के साथ-साथ कम मात्रा में कैल्शियम के सेवन, ओस्टियोपोरोसिस के बारे में बहुत कम जागरूकता और भारतीय महिलाओं में ओस्टियोपोरोसिस की पहचान में दिक्कत जैसे कारणों से महिलाओं में ऑस्टियोपोरोसिस एक प्रमुख हेल्‍थ प्रॉब्‍लम बन गई है।" उन्होंने कहा कि "इस बीमारी में हड्डियां इस हद तक कमजोर हो जाती हैं कि हल्का झटका लगने, गिर जाने और यहां तक कि छींकने और खांसने से भी फ्रैक्चर हो सकता है। हालांकि यह स्थिति अचानक उत्पन्न नहीं होती है, बल्कि उम्र बढ़ने के साथ विकसित होती है और तेजी से बढ़ती है।"

osteoporosis health card ()

डॉक्‍टर राजू वैश्य ने कहा, "हमारे पास आने वाले 100 वृद्ध लोगों में 30 प्रतिशत लोग ऑस्टियोपोरोसिस से पीड़ित होते हैं। हमारे आर्थराइटिस केयर फाउंडेशन की ओर से आयोजित होने वाले मेडिकल कैम्पों में आने वाले अब हम 35-40 साल की उम्र के युवा लोगों में भी बोन मिनरल डेंसिटी कम पायी जाती है जिसके कारण उनमें ऑस्टियोपोरोसिस होने का खतरा अधिक होता है।"

इसे जरूर पढ़ें: आज से ही लें अपनी हड्डियों की protection और care की शपथ

ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा

उन्होंने कहा, "युवा लोग आधुनिक जीवनशैली, निष्क्रिय रहने की आदत, शराब और तंबाकू का सेवन, धूम्रपान, अधिक कैलोरी और जंक फूड का सेवन जैसी शहरी खान-पान की आदतें, भोजन में मिलावट और कम उम्र में डायबिटीज और डायबिटीज मेलिटस विकसित होने की वजह से इस बीमारी के प्रति अधिक संवेदनशील हो रहे हैं।"

osteoporosis health card ()

उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, भारत में लगभग 80 प्रतिशत महिलाएं यानी कि हर चार में से तीन से अधिक महिलाएं ऑस्टियोपोरोसिस से पीड़ित होती हैं और 50 वर्ष से अधिक उम्र की और रजोनिवृत्त हो चुकी महिलाओं में ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा अधिक होता है।

इसे जरूर पढ़ें: जितनी चौंडी होगी आपकी कमर उतना ही बढ़ेगा इस बीमारी के होने का खतरा

हड्डी और मानव कंकाल प्रणाली को मजबूत करने में पर्याप्त और स्वस्थ आहार महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। स्वस्थ आहार और सक्रिय जीवनशैली का पालन करके ऑस्टियोपोरोसिस से बचा जा सकता है।

 

Loading...
Loading...