आजकल की लाइफस्‍टाइल के चलते दो समस्‍या ऐसी हैं जो ज्‍यादातर महिलाओं को बहुत ज्‍यादा परेशान करती हैं उनमें से एक पीसीओडी और दूसरी प्रेग्‍नेंट होने में समस्‍या आना है। इस समस्‍या से निपटने का सबसे अच्‍छा तरीका लाइफस्‍टाइल में बदलाव, रूटीन में एक्‍सरसाइज को शामिल करना और डाइट में सही पोषक तत्‍व लेना है। अगर आप भी इन दोनों में से किसी एक समस्‍या से परेशान हैं तो आज इस आर्टिकल में दिए डाइट प्‍लान अपनाएं। इस डाइट प्‍लान के बारे में हमें सेलिब्रिटी न्‍यूट्रिशनिस्‍ट रुजुता दिवेकर बता रही हैं। जी हां रुजुता दिवेकर आलिया भट्‌ट, वरुण धवन, अनिल अंबानी और करीना कपूर जैसे सेलेब्स को फिट रहने के लिए गाइड करती हैं। यूं तो सेलिब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट रुजुता दिवेकर अपने इंस्‍टाग्राम के माध्‍यम से लोगों को फिट रखने में मदद करने वाले डाइट प्‍लान के बारे में बताती हैं। कुछ दिनों पहले उन्‍होंने अपने इंस्‍टाग्राम के माध्‍यम से फैन्‍स के साथ इस डाइट प्‍लान को शेयर किया है।

प्रेग्‍नेंट होने के 5 आसान टिप्‍स

एक चीज जो अच्छे सेक्स के अलावा आपके प्रेग्‍नेंट होने की संभावनाओं को बेहतर बनाती है, वह इंसुलिन संवेदनशीलता है। इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करने के लिए आपको अपनी डाइट में सुधार करना होगा। आप क्या खाती हैं (और क्या नहीं) इसमें एक बड़ी भूमिका निभाती हैं। इसलिए,

 
 
 
View this post on Instagram

5 food tips to make getting pregnant easy- The one thing that improves your chances of conception other than good sex, is insulin sensitivity. And to improve insulin sensitivity you must take the brave path of increasing your lean body weight. What you eat (and don’t) play a big role in that. So, 1. Reduce intake of packaged products. Not just obvious junk food but camouflaged junk, which pretends to be healthy. E.g. cereals, juices, biscuits. Also, the low-fat versions of yogurt, cheese or even ice cream. Thumb rule – if its selling on the basis of a single nutrient, then stay away. 2. Introduce a pickle or chutney in one of your main meals every day. These may not be taught to us as sources of Vit B12, but it is exactly these essential-fat packed side dishes that help us assimilate and even make our own B12. One tsp of pickle to breakfast or lunch, and two-three tsp of chutney to lunch or dinner. 3. Learn to set curd at home. Better still, find a husband who can do it for you. From the diverse strains of gut-friendly bacteria to the essential amino acids and B vitamins, dahi is the magical food that you can’t afford to miss. The probiotic yogurt in the market is no match for home-set curd. It is also a good antidote to breakouts and sweet cravings during PMS and it will help keep acidity under control once pregnant. 4. Eat according to the season. Make that logistical move from mall to a small market and patronize what is in season. Other than tasting better, it will also improve your chances of eating a variety of fruits and vegetables throughout the year. Improved diet diversity is good news for the intestinal mucosa, probiotic bacteria and insulin sensitivity. 5. Know when to stop eating. Follow the Mental Meal Map where you first visualize how much you want to eat and then start with half the amount. The trick is to eat slower than usual. Smaller morsels of food enter the stomach, thus improving the micronutrient assimilation and insulin response. This process can be repeated if required, but be without gadgets when eating so that you are tuned in to your stomach signals. Also, don’t forget those 3-5 tsps of ghee daily. Extract from #pregnancynotes

A post shared by Rujuta Diwekar (@rujuta.diwekar) onJul 8, 2020 at 2:05am PDT

1. पैकेज्ड प्रोडक्‍ट्स का सेवन कम करें। न केवल जंक फूड, बल्कि ऐसे फूड्स से भी दूरी बनाकर रखें जो हेल्‍दी होने का दिखावा करते हैंं जैसे अनाज, जूस, बिस्कुट। इसके अलावा, दही, पनीर या आइसक्रीम जैसे फैट वाले संस्करण। अगर किसी एक पोषक तत्व के आधार पर इनकी बिक्री होती है, तो दूर रहें।

इसे जरूर पढ़ें: रजुता के ये 5 आसान टिप्‍स अपनाएंगी तो नहीं होगा पीरियड्स में पेन

2. रोजाना अपने मुख्य भोजन में अचार या चटनी को शामिल करें। हालांकि इसे अनहेल्‍दी माना जाता है लेकिन विटामिन बी 12 के स्रोतों में से एक है और यह जरूरी फैटी डिश हैं। नाश्ते या दोपहर के भोजन के साथ अचार और दोपहर के भोजन या रात के खाने के लिए दो-तीन चम्मच चटनी जरूर लें।

3. घर पर दही जमाना सीखें। आंत के अनुकूल बैक्टीरिया से लेकर आवश्यक अमीनो एसिड और बी विटामिन तक, दही जादुई भोजन है जिसे आप मिस नहीं कर सकती हैंं। बाजार में मौजूद प्रोबायोटिक दही का घर से बने दही से कोई मुकाबला नहीं है। पीएमएस के दौरान ब्रेकआउट और मीठे की क्रेविंग के लिए यह एक अच्छा विकल्‍प भी है और यह प्रेग्‍नेंट होने के बाद एसिडिटी को कंट्रोल में करने में मदद करता है। 

4. मौसम के अनुसार खाएं। मॉल से एक छोटे से बाजार में प्रवेश करें और मौसम में जो कुछ भी है उसे लेकर आएं। बेहतर स्वाद के अलावा, यह पूरे वर्ष भर विभिन्न प्रकार के फल और सब्जियां खाने की आपकी संभावनाओं में भी सुधार करेगा। बेहतर आहार विविधता आंतों के म्यूकोसा, प्रोबायोटिक बैक्टीरिया और इंसुलिन संवेदनशीलता वालों के लिए यह अच्‍छा रहता है।

5. जानिए कब खाना बंद करना है। मेंटल मील मैप को फॉलों करें जहां आप पहली बार कल्पना करती हैं कि आप कितना खाना चाहती हैं और फिर आधी राशि से शुरू करें। यह ट्रिक धीरे से नॉर्मल खाने के लिए है। इससे भोजन के छोटे-छोटे हिस्‍सा पेट में प्रवेश करता है, इस प्रकार माइक्रोन्यूट्रिएंट आत्मसात और इंसुलिन प्रतिक्रिया में सुधार होता है। अगर आवश्यक हो तो इस प्रक्रिया को दोहराया जा सकता है, लेकिन खाने के दौरान गैजेट्स का इस्‍तेमाल न करें ताकि आप अपने पेट के संकेतों में बंधे रहें।

इसके अलावा 3-5 चम्‍मच घी को रोजाना लें

rujuta diwekar diet plan inside

पीसीओडी के लिए डाइट प्‍लान

आज महिलाओं में से अधिकांश पीसीओडी (पॉलीसिस्टिक ओवेरियन डिजीज) से पीड़ित हैं। इसके लिए अनहेल्‍दी डाइट को सबसे बड़ा दोषी माना जाता है। पॉलीसिस्टिक ओवेरियन डिजीज रिप्रोडक्टिव उम्र की महिलाओं में एक सामान्य रिप्रोडक्टिव एंडोक्राइन डिस्‍ऑर्डर है। यह इनफर्टिलिटी, पीरियड्स की अनियमितता और बालों के अत्यधिक विकास का एक सामान्य कारण है। आज भी, PCOD या PCOS (पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम) को लोग पूरी तरह से नहीं समझ पाते हैं। इस स्वास्थ्य स्थिति के बारे में जागरूकता की कमी के कारण, यह अक्सर वर्षों तक अनिर्धारित और अनुपचारित रहती है।

पीसीओडी के बारे में गलत धारणाओं को साफ करते हुए, फेमस सेलिब्रिटी डाइटिशियन रुजुता दिवेकर ने कुछ दिनों पहले अपने इंस्‍टाग्राम के माध्‍यम से कुछ उपाय शेयर किए हैं जो डिस्‍ऑर्डर को ठीक करने में मदद कर सकते हैं। दीवेकर ने स्पष्ट रूप से पीसीओडी के 'वास्तविक संकेतकों' का उल्लेख किया है - दिन के माध्यम से एनर्जी का लेवल, रात में नींद की गुणवत्ता और एक्‍सरसाइज प्‍लान को अपनाना।  

Recommended Video

एक महिला को पीरियड साइकिल को ठीक करने के लिए क्या खाना चाहिए?

उनका कहना है कि "एक विविध आहार विविध आंत बैक्टीरिया को बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है जो बदले में इंसुलिन संवेदनशीलता के साथ मदद करता है और पीरियड्स को कंट्रोल करता है। पीसीओडी के लिए सुपर फूड्स में नारियल, घी, गुड़, एलिव सीड्स, कच्चा केला, सूरन, अंकुरित फलियां और नचनी शामिल हैं।'' 

इसे जरूर पढ़ें: ये है करीना कपूर का पूरा डाइट चार्ट, रुजुता दिवाकर ने शेयर किया प्रेग्नेंसी से पहले का मील प्लान

पेन फ्री पीरियड के लिए टिप्‍स  

रुजुता ने दर्द-मुक्त पीरियड्स के लिए भी कुछ तरीके बताए हैं। इनमें हफ्ते में एक बार वेट ट्रेनिंग, योगासन और पीरियड्स के दौरान कैल्शियम और बी 12 पूरक शामिल होते हैं।

इस डाइट प्‍लान को अपनाकर आप भी पीसीओडी को आसानी से कंट्रोल और प्रेग्‍नेंट होने के चांस को बढ़ा सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।