हेल्‍थ को बेहतर बनाने के लिए हम समय-समय पर आपको सुपरफूड्स के बारे में बताते हैैंं। आज हम आपको एक नए सुपरफूड माइाक्रोग्रीन्‍स के बारे में बताने जा रहे हैं। आपको लग रहा होगा, हम पता नहीं किस फूड के बारे में बात कर रहे हैं, क्‍योंकि ज्‍यादातर लोग इस फूड से अंजान है। तो आपको बता दें कि यह माइक्रोग्रीन्‍स सब्जियों और जड़ी बूटियों के अंकुर हैं। यह एक विशेष प्रकार की सब्जी है, जिसे आप दुकानों से खरीद सकती हैं या घर पर सब्जियों, जड़ी-बूटियों, साग आदि के बीज डालकर उगा सकती हैं। इस नए तरह के सुपरफूड के बारे में हमें MY22BMI की न्‍यूट्रिशनिस्‍ट और फाउंडर Ms. Preety Tyagi बता रही हैं।  

Ms. Preety Tyagi का कहना है कि ''माइक्रोग्रीन्‍स एक नई तरह का सुपरफूड है, जिसे आप अपने किचन गार्डन में आसानी से लगा सकती हैं। जी हां भारतीय किचन में कुछ सामान्य जड़ी-बूटियां हैं, जिन्हें आसानी से उगाया जा सकता है और इनमें बहुमूल्य पोषक तत्व होते हैं। यह तेजी से बढ़ते हैं और खाने में टेस्‍टी और हेल्‍दी होते हैं। घर पर कई तरह के स्प्राउट्स और माइक्रोग्रीन्‍स बनाए जा सकते हैं। मीठी और नमकीन दोनों तरह की डिशेज में माइक्रोग्रीन्‍स का इस्‍तेमाल किया जा सकता है। पोषण तत्‍वों से भरपूर होने के साथ ही, यह आपके सलाद और सैंडविच को टेस्‍ट, टेक्‍सचर और कलर देता है। लोग इसे स्मूदी में मिलाकर भी लेते हैं या इसका इस्‍तेमाल डिशेज को गार्निश करने के रूप में भी करते हैं। इसी में से एक है सरसों के अंकुर।'' 

इसे जरूर पढ़ें: हर महिला के लिए अमृत है ये 5 फूड्स, रोजाना 1 जरूर खाएं

mustard micro greens health benefits inside

सरसों भारतीय खाने का अहम हिस्सा है। इसके बीज का इस्‍तेमाल आमतौर पर दाल में तड़का लगाने के लिए और पोहा और सांभर का टेस्‍ट बढ़ाने के लिए किया जाता है। हालांकि ज्‍यादातर लोग सरसों को सर्दियों की एक फेमस पत्तेदार सब्जी के रूप में जानते हैं और इस पत्तेदार सब्‍जी से बने सरसों के साग को मक्की की रोटी के साथ मजे से खाते हैं, क्‍योंकि यह टेस्‍टी होने के साथ-साथ हेल्‍दी भी होती है। लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि इसके बीज से निकलने वाले स्प्राउट्स सरसों के साग की तरह ही फायदेमंद होते हैं। इसे आप कच्‍चा भी खा सकती है, क्‍योंकि विटामिन और मिनरल भरपूर मात्रा में होते हैं।

सरसों के माइक्रोग्रीन्‍स के फायदे

पोषक तत्वों से भरपूर - मस्‍टर्ड माइक्रोग्रीन्‍स विटामिन जैसे ए, सी, के और ई के अलावा प्रोटीन, फाइबर, फोलेट, कैल्शियम, आयरन से भरपूर होते हैं। यह पोषक तत्व कई तरह के रोगों से सुरक्षा प्रदान करते हैं, वजन को कंट्रोल में रखते हैं और मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देते हैं।

mustard micro greens for health inside

एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर

ये प्‍लांंट बेस फूड्स विटामिन, मिनरल और एंटीऑक्सीडेंट का एक अच्छा स्रोत हैं। विटामिन और मिनरल हमारे शरीर के कामों को पूरा करने में मदद करते हैं। एंटी-ऑक्सीडेंट शरीर में मौजूद फ्री रेडिकल्‍स दूर करने में मदद करते हैं जिससे हमारी इम्‍यूनिटी मजबूत होती है और हम बीमाि‍रियों से बचे रह सकते हैं। जी हां एंटी-ऑक्सीडेंट ऑक्सीकरण की प्रक्रिया को रोकने वाला एक अणु है। ऑक्सीकरण सेल्‍स में होने वाला चेन रिएक्‍शन है जो सेल्‍स को क्षति की ओर ले जाता है। हमारा शरीर सेल से बना है, किसी भी सेल को नुकसान होने पर शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है। लेकिन एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर फूड इस प्रक्रिया को रोकने में मदद करते हैं। 

Recommended Video

सरसों के माइक्रोग्रीन्‍स घर पर कैसे उगाएं?

mustard micro greens benefits inside

आप इसे थोड़ी सी जगह पर आसानी से घर पर ही लगा सकती हैं। जी हां माइक्रोग्रीन्‍स उगने में अपेक्षाकृत आसान होते हैं और अगर धूप उपलब्ध हो तो आप घर के अंदर ही इसे लगा सकती हैं। अपने खुद के लिए सरसों के माइक्रोग्रीन्‍स उगाने के लिए इन स्‍टेप्‍स को फॉलो कर सकती हैं:

  • छोटा सा गमला या ट्रे लेकर इसमें मिट्टी डाल लें। 
  • फिर मिट्टी को लगभग 1 इंच हटाकर सरसों के बीजों को बिखेरें और मिट्टी की पतली परत के साथ कवर करें।
  • मिट्टी में पानी डालें और सूर्य के प्रकाश में इसे रखें।
  • मिट्टी को नम रखने के लिए गमले में रोजाना पानी डालें।
  • माइक्रोग्रीन्‍स 2 से 3 सप्ताह में कटाई के लिए तैयार हो जाएंंगे। 
  • ध्यान रखें कि मिट्टी की रेखा के ऊपर से ही साग को काटें और इन्‍हें इस्‍तेमाल करने से पहले अच्‍छी तरह से धो लें। 

यह बहुत ज्‍यादा पोषक तत्वों से भरपूर फूड है। आप इसे अपनी डाइट में कब शामिल कर रही हैं? इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।