स्‍ट्रेस जो आजकल की लाइफस्‍टाइल का हिस्‍सा बन चुका है। इससे लगभग सभी परेशान हैं, खासतौर पर महिलाएं तो इससे बहुत ज्‍यादा परेशान रहती हैं क्‍योंकि उन्‍हें घर और ऑफिस दोनों की दोहरी जिम्‍मेदारियां निभानी होती हैं। अगर आप भी स्‍ट्रेस से परेशान रहती हैं और इसे दूर करने के उपायों की खोज में हैं तो अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है क्‍योंकि हमारे एक्‍सपर्ट आयुर्वेद फिजिशियन अब्रार मुल्‍तानी आपको इससे बचने का सबसे अच्‍छा उपाय बताने जा रहे हैं। इस उपाय की सबसे अच्‍छी बात इसका कोई साइड इफेक्‍ट नहीं है और यह आपको आसानी से आपके घर में ही मिल जाएगा। तो देर किस बात की आइए हमारे साथ जानें कौन सा है यह जादुई उपाय।

जी हां हम स्‍ट्रेस को दूर करने के लिए तुलसी की बात कर रहे है। तुलसी को पवित्र पौधों में से एक माना जाता है। तुलसी केवल आस्था का प्रतीक ही नहीं है बल्कि इस पौधे में पाए जाने वाले औषधीय गुणों के कारण आयुर्वेद में भी इसे बहुत महत्वपूर्ण स्‍थान दिया गया है। भारत में सदियों से इस हर्ब का इस्तेमाल होता चला आ रहा है। खांसी की समस्‍या होने पर हमारे घर के बुजुर्ग तो तुलसी वाली चाय पीने की सलाह देते हैं। लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि तुलसी अपने शांत प्रभाव के लिए फेमस है, इसलिए इस अद्भुत हर्ब्‍स को स्‍ट्रेस दूर करने वाला प्रभावी नेचुरल उपाय माना जाता है।  

इसे जरूर पढ़ें: हर मंगलवार करेंगी हनुमान चालीसा का पाठ तो तनाव होगा आपसे कोसों दूर

tulsi for stress booster inside
Image courtesy: Pxhere.com

तुलसी के गुण

तुलसी एक ऐसा पौधा है जो हर घर में आसानी से उपलब्‍ध हो जाता है। हाल में हुए रिसर्च से पता चला है कि तुलसी स्‍ट्रेस से भी बचाती है। तुलसी बॉडी में कोर्टिसोल यानि स्‍ट्रेस हार्मोन के लेवल को सामान्य बनाकर स्ट्रेस से राहत देने में हेल्‍प करती है। इसके अलावा यह स्‍ट्रेस के कारण ब्रेन पर होने वाले नेगेटिव प्रभाव का मुकाबला करने में हेल्‍प होती है। इस खुशबूदार पौधे की पत्तियां एंटीऑक्‍सीडेंट से भरपूर होने के कारण मानसिक स्पष्टता को बढ़ावा देने के साथ-साथ फ्री रेडिकल्‍स को निष्क्रिय करके स्‍ट्रेस कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।

हाल में हुए रिसर्च से पता चला है कि तुलसी स्‍ट्रेस से भी बचाती है। इस अद्भुत हर्ब्‍स को स्‍ट्रेस दूर करने वाला प्रभावी प्राकृतिक उपाय माना जाता है। तुलसी बॉडी में कोर्टिसोल (तनाव हार्मोन) लेवल को सामान्य बनाकर तनाव से राहत देने में हेल्‍प करती है।

Recommended Video

 

स्‍ट्रेस कम करें तुलसी

तुलसी के पत्‍तों में भरपूर मात्रा में पाया जाने वाला शक्तिशाली एडाप्टोजेनिक गुण इसे बहुत अच्‍छा एंटी-स्‍ट्रेस एजेंट बनाते हैं। जो नर्वस को शांत करने और ब्‍लड सर्कुलेशन को विनियमित करने में मदद करता है। यह अत्‍यंत महत्‍वपूर्ण पोषक तत्‍व ऑक्‍सीकरण प्रक्रिया (स्‍ट्रेस के कारण होता है) को धीमा करने और स्‍ट्रेस के हानिकारक प्रभावों से बॉडी की रक्षा करता है।

इसे जरूर पढ़ें: दिशा पटानी के स्‍ट्रेस को छूमंतर करता है ये चिल बडी

स्‍ट्रेस के लिए तुलसी लेने के टिप्‍स

नैचुरल रूप से स्‍ट्रेस कम करने के लिए एक दिन में एक बार तुलसी की 5 पत्तियां खानी चाहिए। इसके अलावा नियमित रूप से तुलसी की चाय बनाकर पीने से भी दैनिक जीवन में आने वाले स्‍ट्रेस को दूर करने में मदद मिलती है। तुलसी की चाय बनाने के लिए एक कप उबलते पानी में कुछ तुलसी की पत्तियों और चाय पाउडर को मिलाये।

tulsi for stress booster inside

अन्‍य बीमारियां

  • स्‍ट्रेस दूर करने के अलावा तुलसी अन्‍य कई प्रकार की स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं में भी उपयोगी होती है।
  • तुलसी ब्‍लड में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कंट्रोल करने की क्षमता रखती है।
  • शरीर के वजन को कंट्रोल रखने हेतु भी तुलसी अत्यंत गुणकारी है।
  • चाय बनाते समय तुलसी के कुछ पत्तों को डालने से सर्दी, बुखार एवं मसल्‍स पेन से राहत मिलती है।
  • तुलसी के काढ़े में थोड़ा-सा सेंधा नमक एवं पीसी सौंठ मिलाकर सेवन करने से कब्ज दूर होती है।
  • तुलसी के साथ काली मिर्च का सेवन करने से डाइजेशन की कमजोरी दूर हो जाती है।
  • दूषित पानी में तुलसी की कुछ ताजी पत्तियां डालने से पानी का शुद्ध किया जा सकता है।
  • नियमित रूप से सुबह के समय पानी के साथ तुलसी के 5 पत्ते निगलने से कई प्रकार की संक्रामक बीमारियों एवं दिमाग की कमजोरी से बचा जा सकता है।

अगर आप भी स्‍ट्रेस से परेशान रहती हैं तो तुलसी की पत्तियों को अपने रूटीन में शमिल करें। इससे ना केवल आपका स्‍ट्रेस दूर होगा बल्कि आप कई तरह की हेल्‍थ प्रॉब्‍लम्‍स से भी बची रहेंगी।