डीप-फ्राइड चिकन हो या फ्रेंच फ्राइज़, ऐसी बहुत सारी चीजों को तेल टेस्‍टी बनाता है। लेकिन खाली कैलोरीज, फूला हुआ पेट और वजन का बढ़ना, तेल आमतौर पर बहुत सारी चीजों को खराब कर सकता है। सच्चाई यह नहीं है कि तेलों का आपके शरीर पर समान प्रभाव पड़ता है। कुछ तेल जैसे कैनोला, अलसी या सूरजमुखी आदि हेल्‍थ के लिए बिल्कुल खराब नहीं होते हैं। यह अन्य डाइटरी फैट्स से भरपूर होते हैं जो आपको जल्दी वेट लॉस में मदद करते हैं। इसके अलावा, इन तेलों का बैलेंस में सेवन करने से हार्मोन की रिहाई को उत्तेजित करके कम खाने में मदद मिल सकती है।

इसके अलावा कुछ तेल कार्बोहाइड्रेट के अवशोषण को धीमा करके आदर्श इंसुलिन के लेवल को बनाए रखने में मदद करके आपको हेल्‍दी रखते हैं, जो बदले में आपके वजन को कंट्रोल में रख सकते हैं। सही प्रकार के तेल मेटाबॉलिज्‍म को बूस्‍ट, भूख को कंट्रोल और डायबिटीज को मैनेज करने में मदद करते हैं। इसके अलावा, खाना पकाने के कुछ तेल हेल्‍दी फैट का एक समृद्ध स्रोत हैं जो शरीर के कामकाज को बनाए रखने के लिए एक आवश्यक मैक्रोन्यूट्रिएंट्स है। इसलिए अपनी डाइट से तेल को खत्म करने के बारे में मत सोचो, बल्कि कुछ हेल्‍दी विकल्‍प को चुनो। आज हम आपके लिए हेल्‍दी तेलों की लिस्‍ट लेकर आए हैं जो बेली ब्‍लोटिंग प्‍लानिंग के लिए बेस्‍ट हैं। इन तेलों की जानकारी हमें डाइट और फिटनेस एक्‍सपर्ट टीना चौधरी जी दे रही हैं।

नारियल का तेल

coconut oil belly bloating

नारियल का तेल लॉरिक एसिड और मीडियम-चेन सैचुरेटेड फैट्स का एक उत्कृष्ट स्रोत है, जो दोनों फैट को अधिक आसानी से एनर्जी में बदलने और मेटाबॉलिज्‍म को बढ़ावा देने में मदद करता है। इसके अलावा, नारियल के तेल का सेवन हार्मोनल असंतुलन और हाई कोलेस्ट्रॉल के लेवल के बढ़ने वाले वजन को रोकने में मदद करता है।

इसे जरूर पढ़ें: वेट लॉस में मददगार है ये तेल, इन 3 तरीकों से करता है काम

अलसी का तेल

आवश्यक ओमेगा-3 फैटी एसिड, हेल्‍दी प्रोटीन, फाइबर और फेनोलिक जैसे तत्‍वों से भरपूर अलसी का तेल, जिसे कुछ लोग फ्लैक्‍स सीड्स ऑयल के नाम से भी जानते हैं। यह डाइजेस्टिव सिस्‍टम को दुरुस्‍त रखकर और शरीर को डिटॉक्स करके वजन को बनाए रखने में मदद करता है। अलसी के तेल के सेवन से सूजन को कम करने और हार्ट डिजीज को रोकने में भी मदद मिलती है।

अखरोट का तेल

walnut oil for belly bloating inside

अखरोट का तेल पॉलीअनसेचुरेटेड फैटी एसिड और ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर होता है जो कैलोरी बर्न करने में मदद करता है। यह शक्तिशाली तेल ब्‍लड प्रेशर को बनाए रखने और स्‍ट्रेस के लेवल को कम करने में भी मदद करता है।

मूंगफली का तेल

ओलिक एसिड नामक मोनोअनसैचुरेटेड फैट से भरपूर मूंगफली का तेल भूख को कम करने, वेट लॉस को बढ़ावा देने और याददाश्त को बढ़ाने में मदद करता है। हेल्‍दी कोलेस्ट्रॉल के लेवल को बनाए रखने और इंसुलिन के प्रति संवेदनशीलता में सुधार के लिए मूंगफली के तेल का कम मात्रा में सेवन करना अत्यधिक फायदेमंद हो सकता है, जो वेेेेट लॉस को बढ़ावा देने में भी मदद करता है।

Recommended Video

एवोकाडो ऑयल

avocado oil for belly bloating inside

एवोकाडो में हार्ट-हेल्‍दी मोनोअनसैचुरेटेड फैट अधिक मात्रा में होता है। इसलिए इसके तेल का इस्‍तेमाल कोलेस्ट्रॉल के लेवल में सुधार और अस्वस्थता को कम करने के लिए किया जा सकता है। यह तेल ब्लोट-बेनिशिंग पोटेशियम, विटामिन-बी और विटामिन-ई से भी भरपूर होता है जो इसे बेली ब्‍लोटिंग का एक बेहद हेल्‍दी विकल्प बनाता है।

इसे जरूर पढ़ें:हर 3 महीने में बदल देंगी अपना कुकिंग ऑयल तो हमेशा रहेंगी हेल्‍दी

ऑलिव ऑयल 

पॉलीफेनोल्स, एंटीऑक्सीडेंट्स और मीडियम-चेन ट्राइग्लिसराइड्स से भरपूर ऑलिव ऑयल सेरोटोनिन के ब्‍लड लेवल को बढ़ाने में मदद करता है। यह एक ऐसा हार्मोन है जो लंबे समय तक तृप्त महसूस करने में मदद करता है और इस प्रकार यह आपको बार-बार खाने से रोकता है। इसके अलावा, अतिरिक्त एक्‍स्‍ट्रा वर्जिन ऑलिव ऑयल का सेवन ब्‍लड शुगर लेवल को कंट्रोल और हार्ट हेल्‍थ को मजबूत करता है। ऑलिव ऑयल को गरम करने से बचें। इसका इस्‍तेमाल सिर्फ सलाद के रूप में ही करें। 

आप भी इन तेलों में से अपनी बॉडी के हिसाब से किसी तेल को अपनी डाइट में शामिल करके बेली ब्‍लोटिंग की समस्‍या से बच सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com