अक्सर लोग अपने घरों में अरबी और उसके पत्तों की सब्जी बनाते हैं। ख़ास बात है कि उबली हुई अरबी लगभग आलू की तरह ही स्वाद देती है, लेकिन अरबी हमारे शरीर में फैट की मात्रा बढ़ाने का काम नहीं करती है। अगर आप आलू खाने से परहेज़ कर रही हैं तो आलू की जगह अरबी का सेवन ऑप्शन के रूप में किया जा सकता है। जिन सब्जियों में आलू का इस्तेमाल किया जाता है आप उसकी जगह अरबी का उपयोग कर सकती हैं।

अरबी फ़ाइबर और अन्य प्रमुख न्यूट्रिशियन का समृद्ध सोर्स है, जो आपको कई स्वास्थ्य लाभ पहुंचाता है। अरबी में विभिन्न पोषक तत्वों की अच्छी मात्रा होती है, जो अक्सर लोगों को पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल पाते हैं, जैसे कि पोटेशियमस, मैग्नीशियम, विटामिन सी, और ई आदि। वहीं डायटीशियन स्वाति बथवाल के अनुसार अरबी को डाइट में शामिल करने के कई सारे हेल्थ बेनिफिट्स है। यह कई गंभीर बीमारियों के ख़तरे को कम करने में मददगार होती है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आप अधिक मात्रा में सेवन करना शुरू कर दें। उचित मात्रा में इसका सेवन किया जाना चाहिए। आप चाहें तो अरबी की सब्जी के अलावा आप इसका पकौड़ा, पापड़, चीला, सूखी या मसाले दार सब्जी के रूप में इसे डाइट में शामिल कर सकती हैं।

ब्लड शुगर को करें कंट्रोल

blood sugar

अरबी एक स्टार्च युक्त सब्जी है और इसमें दो तरह के कार्बोहाइड्रेट हैं जो ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में मददगार होते हैं। फ़ाइबर और रेसिस्टेंट स्टार्च के कॉम्बिनेशन की वजह से अच्छे कार्ब फूड का ऑप्शन है अरबी। फ़ाइबर एक कार्बोहाइड्रेट होता है, जिसे आसानी से नहीं पचाया जा सकता, लेकिन यह अवशोषित नहीं है, इसलिए इसके सेवन से ब्लड शुगर के स्तर पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता। यह न सिर्फ़ पाचन की प्रक्रिया को धीमा करता है बल्कि कार्ब्स के अवशोषण को भी धीमा करने में मदद करता है। डायबिटीज़ के मरीज़ों को अपनी डाइट में अरबी को शामिल करना फ़ायदेमंद होगा।

दिल रहेगा हेल्दी

for healthy heart

रेसिस्टेंट स्टार्च और फ़ाइबर होने की वजह से यह आपके दिल को हेल्दी रखने का काम करता है। रिसर्च के अनुसार फ़ाइबर युक्त चीज़ों का सेवन अधिक करने से दिल से जुड़ी बीमारियों के ख़तरे को कम किया जा सकता है। अरबी एक ज़ीरो फैट और ज़ीरो कोलेस्ट्रॉल युक्त फूड है। इसमें विटामिन ई की भी अच्छी मात्रा होती है जो  हृदय संबंधी मामलों को काफ़ी हद तक दूर करने में मदद करता है। वहीं इसमें मौजूद रेसिस्टेंट स्टार्च हाई कोलेस्ट्रॉल को कम करने का काम करते हैं।

इसे भी पढ़ें: जानें फालसा के सेहत से जुड़े कुछ ऐसे फायदे जो आपने पहले नहीं सुने होंगे

एंटीऑक्सीडेंट जैसे गुणों से है भरपूर

full of antioxident

अरबी एक पौधा-आधारित कम्पाउंड है, जिन्हें पॉलीफेनॉल्स कहा जाता है, जिससे कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। यही नहीं इसमें कैंसर जैसी बीमारी के जोखिम को कम करने की क्षमता है। अरबी में मुख्य रूप से पाया जाने वाले पॉलीफेनॉल्स क्वेरसेटिन है जो प्याज, सेब, और चाय जैसी चीज़ों में बड़ी मात्रा में मौजूद होता है। यह एंटीऑक्सीडेंट के गुणों से भरपूर है जो आपके शरीर को फ्री रेडिकल या कैंसर जैसी गंभीर बीमारी के ख़तरे से बचाने का काम करता है।

Recommended Video

वज़न कम करने में करता है मदद

weight loss diet

जो लोग फ़ाइबर का सेवन अधिक करते हैं उनका ना सिर्फ़ वज़न कम रहता है बल्कि शरीर में फैट भी नहीं बढ़ता है। ऐसा इसलिए क्योंकि इससे पेट लंबे समय तक भरा रहता है जिससे जल्दी भूख नहीं लगती और इससे कैलोरी की मात्रा भी शरीर में कम रहती है। वहीं अरबी फ़ाइबर से भरपूर होती है। 100 ग्राम अरबी में 5.1 ग्राम फ़ाइबर होता है। इसलिए अगर आप वज़न कम करना चाहती हैं तो अपनी डाइट में आलू को हटाकर अरबी को शामिल कर दें।

इसे भी पढ़ें: सेहत के लिए बेहद ही फायदेमंद है अल्फाल्फा का सेवन, जानिए कैसे

आंतों को हेल्दी रखने में करेगी मदद

healthy gut

शरीर में आधे से अधिक बीमारी ख़राब पेट की वजह से होती हैं। पेट को हेल्दी रखने के लिए आंतों को हेल्दी रखना बहुत ज़रूरी है। इसमें मौजूद फ़ाइबर और रेसिस्टेंट स्टार्च आंतों को हेल्दी रखने में मदद करता है। आपका शरीर फ़ाइबर और रेसिस्टेंट स्टार्च को पचा या अवशोषित नहीं करता है, इसलिए यह आपकी आंतों में रहता है। जब वह कोलन तक पहुंचते हैं तो वे आपकी आंत में रोगाणुओं के लिए भोजन बन जाते हैं और अच्छे जीवाणुओं के विकास को बढ़ावा देते हैं। अच्छे जीवाणु आंतों को हेल्दी और सुरक्षित रखने का काम करते हैं।

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।