बेशक आप राज जिम जाती हों या फिर योग करती हों मगर, इन सबके बावजूद अगर आपका वजन कम नहीं हो रहा है तो इसमें कहीं न कहीं आपकी लाइफस्टाइल में कुछ कमी है, जो आपके वजन को कम नहीं होने दे रही है। आपको जानकर हैरानी होगी कि आप जितना मरजी वजन कम करने के लिए भाग लें, दौड़ लें या पसीना बहा लें। मगर, आपकी गलत लाइफस्टाइल आपके वजन को कम नहीं होने देगी। तो चलिए अगर आपको वजन घटाना है तो अपनी लाइफस्टाइल में सबसे पहले इन 2 चीजों को बदल लें। इससे आप बिना डइटिंग और एक्सरसाइज किए बिना ही 7 दिन में 10 किलो तक वजन घटा सकती हैं। 

इसे जरूर पढ़ें:Japanese weight Loss Therapy : ये 5 आसान स्टेप अपनाएं और वजन घटाएं

how to lose weight in  days

डाइट में करें बदलाव 

अगर आप तेजी से वजन घटाना चाहती हैं तो डइटिंग की जगह अपनी डाइट में बदलाव कर लें। अमूमन देखा गया है कि महिलाएं पतला होने के चक्कर में भूखे रहना शुरू कर देती हैं। मगर, भूखे रहने से पेट में गैस बनती है जो कहीं न कहीं चर्बी भी बढ़ाती है। इससे पेट हमेशा फूला हुआ सा रहता है। अगर चिकित्सकों की मानें तो आपको दिन में 4 छोटी छोटी मील लेनी चाहिए। कोशिश करें कि जितनी भूख हो उससे आधा ही खाना खाएं। इससे आपकी भूख तो मिट ही जाएगी साथ ही आपका पेट भी भरा-भरा नहीं लगेगा। इसके साथ ही आपको अपने खाने में ज्यादा से ज्यादा प्रोटीन,जिंक, फाइबर और ओमेगा-3 लेना चाहिए। इससे आपका वजन तेजी से घटना शुरू होगा। 

 खाने का सही समय 

American Journal of Clinical Nutrition  में पब्लिश्ड एक रिपोर्ट के मुताबिक अमूमन लोगों को लंच करने का सही समय नहीं पता होता है। वह कभी भी लंच कर लेते हैं। अमूमन लोगों का मानना है कि दोपहर में किसी भी वक्त लंच कियाजा सकता है। आपको बता दें कि लंच का सबसे ज्यादा खराब समय दोपहर 3 PM के बाद का होता है। यह आपके वेट लॉस प्रॉसेस को स्लो करता है। स्टडी के मुताबिक दोपहर के भोजन का प्रभाव शरीर में मौजूद perilipin protein पर पढ़ता है। यह मनुष्य के सेल्स में पाए जाते हैं। फैट बर्निंग प्रॉसेस के लिए भी यह प्रोटीन जरूरी होता है। खासतौर पर अगर 3 बजे के बाद लंच करते हैं तो वह कभी पतले नहीं हो सकते। महिलाओं को इस बात पर फोकस करना चाहिए। खासतौर पर जो महिलाएं पहले से ही ओवरवेटेड हैं उन्हें इस बात का खास ख्याल रखना चाहिए और दोपहर का खाना 3 बजे से पहले ही खा लेना चाहिए। 

एक और स्टडी के अनुासर जो, Harvard University द्वारा की गई है उसमें बताया गया है कि आप कितना हेल्दी खाते हैं इससे फर्क नहीं पड़ता। फर्क पड़ता है कि आप सही वक्त पर भोजन करते हैं या नहीं। इसका असर आपके बॉडी फैट पर पड़ता है। अगर आप सही समय पर डेली भोजन करती हैं तो यह आपकी  circadian rhythms का बैलेंस रखता है। यह आपके मेटाबॉलिज्म रेट को भी तेज करता, जो आपकी बॉडी का वेट तेजी से घटाते हैं। अगर आप को सुबह का नाश्ता करना है तो आपका 6 AM से 10 AM बीच कर लेना चाहिए। वहीं दोपहर को भोजन आपको 12 PM से 3 PM  के बीच करना चाहिए और रात का भोजन 5 PM से 7PM के बीच निपटा लेना चाहिए। 

इसे जरूर पढ़ें:वजन करना है कम तो रोज खाएं ‘ओट्स की रोटियां’

how to lose weight fast and easy

तेज चलने की आदत डालें 

वॉक करेने के कई फायदे हैं। चिकित्सक भी कहते हैं कि रोजाना 20 से 30 मिनट वॉक करने से बॉडी में मैजिकल बदलाव होते हैं। महिलाओं के लिए तो वक्त करना और भी अच्छा होता है। खासतौर पर अगर तेजी से चला जाए तो यह सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद है। इससे आपका वजन तो घटेगा ही साथ ही आपको और भी कई लाभ होंगे। वेट कम करने के लिए तो यह एक अच्छी एक्सरसाइज है। इससे पूरी बॉडी की एक्सरसाइज हो जाती है। इससे  फैट तेजी से बर्न होता है। बॉडी का पाचन बढ़ता है। दिमाग चुस्त-दुरुस्त होता है। बॉडी रिलैक्स होती है और अच्छा महसूस होता है। दिल की बीमारियों और स्ट्रोक का खतरा भी तेजी से वॉक करने से कम होता है। इससे हड्डियां भी मजबूत होती हैं।  

रोजाना कम-से-कम 20 लगातार जरूर चलना चाहिए। वैसे चलने की रफ्तार उम्र, लंबाई और जगह के मुताबिक अलग-अलग हो सकती है। लंबी महिलाएं ज्यादा तेज चल पाती हैं लेकिन जिन महिलाओं को चलने की आदत नहीं है, वे दो-तीन किमी से शुरू करके दूरी बढ़ा सकती हैं। पहले ही दिन ज्यादा चलना सेहत के लिए ठीक नहीं होगा। 45-50 साल की उम्र में वॉकिंग शुरू करनेवाली महिलाओं 1-2 किमी से शुरुआत करनी चाहिए। प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए भी वॉक करना फायदेमंद होता है। अगर प्रेग्नेंट महिलए रोजाना 1-3 किमी सैर करती हैं तो यह उनके स्वास्थ के लिए बहुत अच्छा होता है। ध्यान रखें कि पसीना आने तक वॉक करें, वरना वॉक करने का कोई फायदा नहीं होता है। मौसम अच्छा है तो हो सकता है पसीना न आए। सामान्य तौर पर सुबह के समय चलना हेल्थ के लिए अच्छा होता है। अगर आप सुबह नहीं वॉक कर पाती हैं तो आप शाम को भी वॉक कर सकती हैं। इससे वजन घटाने में आसानी होती है