भारतीय भोजन में दालों का अलग ही महत्‍व है। खाने को टेस्‍टी बनाने के साथ ही दालें शरीर को सेहतमंद बनाने में भी मददगार होती हैं। मजे की बात तो यह है कि भारत में दाल की बहुत सारी वैरायटी भी आती हैं। कुछ दिनों पहले सेलिब्रिटी न्‍यूट्रिशनिस्‍ट रुजुता दिवेकर ने अपने इंस्‍टाग्राम पेज पर एक पोस्‍ट शेयर की थी, जिसमें उन्‍होंने बताया है कि भारत में 65 हजार से भी अधिक वैरायटी की दालों की पैदावार होती है, मगर कुछ दालें अब लुप्‍त होती जा रही हैं। 

इतना ही नहीं, अपनी पोस्‍ट में रुजुता ने बताया था कि मूंग, मोठ और अरहर की दाल सेहत के लिए सबसे फायदेमंद होती है। आपको बता दें कि इन सभी दालों का स्‍वाद भी बहुत अच्‍छा होता है। इन सभी दालों को बहुत तरह से तैयार किया जा सकता है। मगर आप यदि दाल पकाने का सबसे पोषणयुक्‍त तरीका तलाश रही हैं तो आपको घर पर पालक वाली दाल बनानी चाहिए। 

पालक वाली दाल बनाने के लिए आप अरहर और मूंग दाल का प्रयोग कर सकती हैं। यह दाल खाने में टेस्‍टी होती है और साथ ही शरीर को अद्भुत स्‍वास्‍थ्‍य लाभ पहुंचाती है। चलिए हम आपको इसके फायदे बताते हैं- 

इसे जरूर पढ़ें: 5 संकेत बताते हैं शरीर को भोजन से नहीं मिल पा रहे हैं पोषक तत्‍व

पालक की दाल के फायदे 

how to make palak dal

1. पाचन क्रिया को बनाती है दुरुस्‍त- 

पालक को आप अरहर की दाल के साथ बनाएं या फिर मूंग की दाल के साथ, दोनों ही दालों के साथ पालक को मिक्‍स करने पर बेहद स्‍वादिष्‍ट और सेहतमंद दाल तैयार होती है। इस दाल में फाइबर की मात्रा अधिक होती है, इसलिए इसे पचाना आसान होता है। साथ ही यह दाल शरीर के विषाक्‍त (Toxic) पदार्थों को शरीर से बाहर निकालने में सक्षम होती है। पालक की दाल खाने से कब्‍ज की समस्‍या में भी राहत मिलती है। 

2. बढ़ती है इम्‍यूनिटी- 

पालक की दाल में एंटीऑक्‍सीडेंट्स का खजाना होता है। बेस्‍ट बात है कि अरहर, मूंग और पालक तीनों में जिंक, पोटेशियम और कैल्शियम की भरपूर मात्रा होती है। साथ ही इस दाल में विटामिन-ई भी पाया जाता है। ऐसे में पालक की दाल इम्‍यूनिटी बूस्‍टर होती है। 

इसे जरूर पढ़ें: Expert Tips: मानसून सीजन में दुल्‍हन कैसे रखे अपने बालों का ख्‍याल

palak dal banane ki vidhi

3. हड्डियों और मांसपेशियों को बनाती है मजबूत- 

अगर आपकी हड्डियां और मांसपेशियां कमजोर हैं तो आपको पालक की दाल का सेवन जरूर करना चाहिए। दरअसल, पालक की दाल में प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन, पोटेशियम आदि की भरपूर मात्रा होती है , जो हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत बनाती है। 

4. दर्द और सूजन को करती है कम- 

पालक की दाल एंटीइंफ्लेमेटरी होती है।अगर आपके शरीर में कहीं सूजन या दर्द है तो इस दाल के सेवन से आपको काफी राहत मिलेगी। कैल्शियम की भरपूर मात्रा होने के कारण यह दाल शरीर की थकावट को भी दूर करती है। 

palak dal recipe benefits

5. त्‍वचा के लिए लाभकारी- 

पालक की दाल त्‍वचा के लिए भी बहुत फायदेमंद होती है। इसका सेवन करने से त्‍वचा का रंग निखरता है, मुंहासों की समस्‍या कम होती है और समय से पहले एजिंग का खतरा भी टल जाता है। आपको बता दें कि पालक में विटामिन-ई और एमिनो एसिड होता है, जो त्‍वचा के लिए बेहद फायदेमंद तत्‍व हैं। वहीं दाल प्रोटीन का रिच सोर्स होती है, यह त्‍वचा में कोलेजन प्रोडक्‍शन को बूस्‍ट करती है और उसे यूथफुल बनाए रखती है।  

अरहर की दाल में मौजूद पोषक तत्‍व-  

  • अरहर की दाल फाइबर से समृद्ध होती है। 
  • अरहर की दाल में पोटेशियम की भी उचित मात्रा होती है। 
  • अरहर की दाल में विटामिन-ए, बी6, आयरन, मैग्‍नीशियम, फास्‍फोरस, जिंक आदि पोषक तत्‍व भी पाए जाते हैं। 

Recommended Video

मूंग की दाल में मौजूद पोषक तत्‍व-  

  • मूंग की दाल शरीर में खराब कोलेस्‍ट्रॉल के स्‍तर को कम करने में सक्षम होती है। 
  • मूंग की दाल में फाइबर और प्रोटीन की अच्‍छी मात्रा पाई जाती है। इसलिए यह पाचन के लिए अच्‍छी होती है। 
  • मूंग की दाल में कई एंटीऑक्‍सीडेंट्स पाए जाते हैं। यह एंटीडायबिटिक भी होती है। 
  • इस दाल में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण भी पाए जाते हैं। यह शरीर के दर्द और सूजन को कम करने मे सहायक होती है। 

कब नहीं खानी चाहिए पालक की दाल-  

  • जिन लोगों को किडनी से संबंधित दिक्‍कतें होती हैं या फिर किडनी में स्‍टोन होता है, उन्‍हें पालक की दाल नहीं खानी चाहिए क्‍योंकि पालक में पोटेशियम की अधिक मात्रा होती है, इससे किडनी में स्‍टोन की परेशानी बढ़ सकती है। 
  • पालक की दाल का सेवन नियमित करने से बचें। इसमें फाइबर की अच्‍छी मात्रा होती है। इससे पेट दर्द, गैस और ब्‍लॉटिंग की समस्‍या हो सकती है। 
  • पालक में कैल्शियम की भरपूर मात्रा होती है। हृदय रोगियों को पालक की दाल खाने से बचना चाहिए। 

 

यह जानकारी आपको अच्‍छी लगी हो तो इसे शेयर और लाइक जरूर करें। साथ ही इसी तरह और भी आर्टिकल्‍स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से। 

Image Credit: Freepik