हल्दी, हर घर की किचन में पाया जाने वाला एक आम मसाला है। हल्दी को अक्सर 'मसालों की रानी' के रूप में जाना जाता है क्‍योंकि इसका इस्‍तेमाल लगभग हर डिश को बनाने के लिए किया जाता है। इसका इस्‍तेमाल स्वास्थ्य लाभ पाने के लिए कई तरह से किया जाता है, लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि इसका इस्‍तेमाल पेट से जुड़ी समस्‍याओं को दूर किया जा सकता है। 

हल्दी का उपयोग अक्सर केवल पेट की समस्याओं के इलाज के लिए घरेलू उपचार में अतिरिक्त के रूप में किया जाता है। बहुत से लोग पाचन समस्याओं और हार्टबर्न से पीड़ित हैं। हल्दी आपके लिए उपाय हो सकती है। यह मल त्याग, अपच और बदले में पेट फूलना को नियमित करता है। यह कब्ज, दस्त या भूख न लगने से पीड़ित महिलाओं की मदद करता है।

हल्दी आपके पेट की समस्याओं को कम करने में आपकी मदद कर सकती है। आइए ऐसे 5 समस्‍याओं और इसके समाधान के बारे में न्यूट्रिशनिस्ट प्रीती त्यागी जी से विस्‍तार में जानें। 

पेट की चर्बी जलाने में मददगार

belly fat

हल्दी में 'करक्यूमिन' होता है, जो एक एक्टिव यौगिक है जो हल्दी के अधिकांश लाभों में योगदान देता है। यह यौगिक करक्यूमिन शरीर में फैट टिशू के ग्रोथ को दबाने में मदद कर सकता है और फैट के उत्पादन को कम करने में मदद कर सकता है। हल्दी का ड्रिंक का सेवन करने से पेट की चर्बी कम करने में मदद मिल सकती है।

इसे जरूर पढ़ें:सफेद हल्‍दी है रामबाण, महिलाओं की 5 समस्‍याओं का करती है समाधान

अपच से राहत

हल्दी का सेवन अपच को दूर रखने में मदद कर सकता है। अपच अक्सर ऊपरी पेट में परेशानी होती है और अक्सर दर्द का कारण बनती है और परिपूर्णता की भावना को बढ़ावा देती है। इसलिए, हल्दी का सेवन करने से पित्ताशय में पित्त के उत्पादन को बढ़ाया जा सकता है, बदले में भोजन के बेहतर पाचन में सुधार और सहायता करता है।

पेट के फूलने और डायरिया से बचाव

benefits of bloating

कुछ लोगों को बहुत अधिक पेट फूलने का अनुभव होता है और यह आहार नली में गैस के जमा होने के कारण हो सकता है। इसलिए हल्दी के नियमित सेवन से इस समस्या से राहत मिल सकती है और सूजन भी कम हो सकती है।

कभी-कभी ऐसा होता है जब अपने द्वारा खाए जाने वाले कुछ विशेष प्रकार के भोजन के कारण आपको दस्‍त का सामना करना पड़ा सकता हैं। तो, किसी भी रूप में हल्दी का सेवन या तो आपके द्वारा बनाए गए व्यंजनों में या हल्दी की चाय के साथ, दस्त को रोकने में मदद कर सकता है। हल्दी में करक्यूमिन को अवशोषित करने और हल्दी के बेहतर अवशोषण में सहायता के लिए आप एक चुटकी काली मिर्च भी मिला सकते हैं।

Recommended Video

गैस और सूजन से राहत

हल्दी एक प्राकृतिक डिटॉक्सिफायर के रूप में काम कर सकती है और शरीर को डिटॉक्सीफाई करने में मदद करती है और इस तरह गैस और सूजन को कम कर सकती है। ब्लोटिंग तब होती है जब गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट (जीआई) हवा या गैस से भर जाता है, जिससे व्यक्ति भरा हुआ महसूस करता है।

बहुत से लोग इरिटेबल बाउल सिंड्रोम (IBS) से पीड़ित होते हैं, जिसमें ऐंठन, पेट दर्द, सूजन, गैस, दस्त, कब्ज या दोनों शामिल हैं। हल्दी का सेवन सूजन को कम करने और डाइजेशन संबंधी समस्याओं को शांत करने के लिए एक प्राकृतिक उपचार के रूप में काम कर सकता है।

पेट दर्द और ऐंठन से राहत

stomach pain 

हल्दी में 'करक्यूमिन' होता है, जो यौगिक हल्दी के एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों में योगदान देता है जो आंतों की ऐंठन और पेट के अल्सर के गठन को कम कर सकता है। हल्दी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण किसी भी मौजूदा पेट के अल्सर को ठीक करने में मदद कर सकते हैं।

हल्दी का ड्रिंक

सामग्री 

  • पानी- 2 कप 
  • कद्दूकस ताजा ऑर्गेनिक हल्दी- ½ छोटा चम्मच 
  • कद्दूकस अदरक- ½ छोटा चम्मच
  • नींबू का रस- 1 छोटा चम्मच
  • दालचीनी स्टिक- 2 
  • शहद (स्वाद के लिए)
turmeric for belly problems expert

विधि

  • एक गर्म बर्तन में पानी, कद्दूकस की हुई हल्दी, कद्दूकस किया हुआ अदरक और दालचीनी डालें। 
  • इसमें उबाल आने दें और फिर धीमी आंच पर 5 मिनट तक उबलने दें।
  • बर्तन को ढक्कन से ढक दें ताकि सामग्री पानी में मिल जाए। 
  • फिर गैस बंद कर दें और इस मिश्रण को प्याले में छानने से पहले 2 से 4 मिनट के लिए ऐसे ही छोड़ दें। 
  • फिर, नींबू का रस और शहद (वैकल्पिक) इसमें डालें, अच्छी तरह से हिलाएं और यह खाने के लिए तैयार है। 

सावधानी - हल्दी की अनुशंसित खुराक से अधिक न लें जो आपको प्रति दिन लेने की आवश्यकता है।

इसे जरूर पढ़ें: हेल्‍थ के लिए अमृत है हल्‍दी, चुटकी भर काली मिर्च मिलाने से मिलते हैं ये 3 फायदे

इस तरह से आप भी हल्‍दी का इस्‍तेमाल अपनी इन समस्‍याओं को कुछ देर तक कम करने के लिए कर सकती हैं। हर बार की तरह हम आपको यही कहेंगे, हालांकि यह नुस्‍खा नेचुरल चीजों से बना है और इनके कोई साइड इफेक्‍ट्स नहीं हैं। लेकिन फिर भी इन्‍हें इस्‍तेमाल करने से पहले एक बार एक्‍सपर्ट से परामर्श जरूर कर लें। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।  

Image Credit: Freepik.com