ऐसा कई बार होता है जब खाना खाने के बाद पेट में दर्द और जलन के साथ जी मिचलाने और खराब डकारें आने की समस्‍या हो जाती है। इस स्थिति को बदहजमी कहा जा सकता है, जिसे लोग अपच की समस्‍या के नाम से भी जानते हैं। 

बदहजमी के कई कारण हो सकते हैं। भूख से ज्‍यादा खाना खा लेने, एक साथ कई तरह के मसालेदार और तले-भुने व्‍यंजनों का सेवन करने, रात में देर से भोजन कर तुरंत सो जाने या फिर जरूरत से ज्‍यादा कैफीन का सेवन करने से आपको बदहजमी हो सकती है। 

जब बदहजमी की समस्‍या होती है तो पेट में दर्द, जलन, पेट का फूलना और बार-बार डकार आना बहुत ही आम लक्षण नजर आने लग जाते हैं। ऐसे में घबराने की जरूरत नहीं है। आप घरेलू उपचार करके इस समस्‍या से निजात पा सकते हैं। 

न्यूट्रिशनिस्ट कविता देवगन कहती हैं, 'बदहजमी दूर करने के कई असरदार घरेलू उपचार हैं, जिनका कोई नुकसान भी नहीं है। अगर आपको बदहजमी की गंभीर समस्‍या नहीं है तो घर पर ही रसोई में मौजूद सामग्री से आप इसका इलाज कर सकते हैं।'

desi nuskhe for indigestion

नींबू और अदरक का पानी 

नींबू और अदरक का पानी आपको केवल बदहजमी ही नहीं बल्कि गैस की समस्‍या में भी आराम पहुंचाएगा। आप चाहें तो रोज खाना खाने के 2 घंटे बाद इसका सेवन कर सकती हैं। 

सामग्री 

  • 1 इंच अदरक का टुकड़ा 
  • 1 छोटा चम्‍मच शहद 
  • 1 बड़ा चम्‍मच नींबू का रस 
  • 1 ग्‍लास गरम पानी 

विधि 

  • अदर को कद्दूकस कर लें। 
  • अब पानी को एक पैन में डालें और गैस पर चढ़ा दें। 
  • इसके बाद आप पानी में कद्दूकस की गई अदरक डालें और पानी को उबालें। 
  • अदरक का पानी उबल जाए तो उसे एक ग्‍लास में लें और गुनगुना होने तक वेट करें। 
  • अब आप अदरक के पानी में शहद और नींबू का रस मिलाएं और इसे तुरंत ही पी जाएं। 
  • इससे पेट का दर्द और जलन दोनों ही शांत हो जाएंगी। 
kavita devgan tips health

पुदीना 

पुदीने की पत्तियां बेहद फायदेमंद होती हैं। खासतौर पर अगर आपको बदहजमी, गैस, एसिडिटी या फिर जी मिचलाने की समस्‍या है तो आपको पुदीने की पत्तियों को चबा कर खा लेना चाहिए। आपको बता दें कि पुदीने में एंटी स्‍पास्‍मोडिक गुण पाए जाते हैं जो पेट की सेहत के लिए बहुत अच्‍छे होते हैं। वैसे पुदीने का स्‍वाद कड़वा होता है और उसे चबा कर हर कोई नहीं खा सकता है। इस लिए आप इन 2 विधियों से भी पुदीने का सेवन कर उसके लाभ उठा सकते हैं- 

इसे जरूर पढ़ें: आम से जुड़े हैं ये 5 मिथ, एक्‍सपर्ट कविता देवगन ने बताए फायदे

1 पुदीने का पानी 

रात में सोने से पहले पुदीने की 10 पत्तियां पानी में भिगो दें और सुबह उठ कर इस पानी का सेवन करें। 

2. पुदीने का पाउडर 

आप पुदीने की पत्तियों को सुखा कर उसका पाउडर बना सकती हैं और इस पाउडर का इस्‍तेमाल सब्‍जी, दही, रोटी या फिर चटनी में कर सकती हैं। 

gharelu nuskhe for stomach upset

चटनी और अचार 

न्यूट्रिशनिस्ट कविता देवगन कहती हैं, ' अगर आपको रोज चटनी और अचार खाने में समस्‍या है तो आप हफ्ते में एक बार इन दोनों चीजों का सेवन जरूर करें। बेस्‍ट होगा कि आप सीजनल अचार और चटनी का सेवन खाने के साथ करें। इससे आपका हाजमा अच्‍छा बना रहेगा।'

सौंफ 

सौंफ कई तरह से फायदेमंद होती है। खाना खाने के बाद यह माउथ फ्रेशनर (माउथ फ्रेशनर का इस तरह करें यूज) का भी काम करती है, इसे खाने से दांत भी साफ होते हैं और अपच के घरेलू उपचारों में भी यह सबसे आसान और असरदार विकल्‍प है। आप सौंफ का सेवन भी कई तरह से कर सकते हैं। न्यूट्रिशनिस्ट कविता देवगन इसके दो तरीके बताती हैं- 

  • खाना खाने के बाद आप 1 चम्‍मच सौंफ को चबा कर खाएं। ऐसा नियमित रूप से करें, आपको बदहजमी की शिकायत नहीं होगी। 
  • सौंफ को रातभर के लिए पानी में भिगो कर रख दें और फिर सुबह उठ कर वह पानी छान कर पी जाएं। इस बात का ध्‍यान रखें कि यह पानी आपको कुछ भी खाने से 1 घंटा पहले पीना चाहिए। 

बेकिंग सोडा 

बेकिंग सोडा का पानी आपको बदहजमी दूर करने के साथ यूरिन इन्‍फेक्‍शन में भी राहत दिलाता है। आप इस तरह से रोज बेकिंग सोडा के पानी का सेवन कर सकती हैं- 

सामग्री 

  • 1 कप गरम पानी 
  • 1 छोटा चम्‍मच बेकिंग सोडा 

विधि 

  • पानी को गरम कर लें और उसमें बेकिंग सोडा मिला कर पी जाएं। 
  • इस बात का ध्‍यान रखें कि खाना खाने के 2 घेंटे पहले या बाद में ही आप इसका सेवन करें। 

अन्‍य एक्‍सपर्ट टिप्‍स 

1. खाना खाने के बाद थोड़ा गुड़ जरूर खाएं। इससे आपने जो भी खाया है, उसे पचाने में आपको मदद मिलेगी। 

2. हफ्ते में 1 से 2 बार फर्मेंटेड फूड जरूर खाएं, जिसमें प्रोबायोटिक्‍स हों। जैसे घर की दही, ढोकला और इडली

3. आप चाहें तो प्रोबायोटिक मिल्‍क भी नियमित रूप से पी सकते हैं। बाजार में आपको कई ब्रांड्स में यह आसानी से उपलब्‍ध हो जाएगा।  

4. दिन में एक सो दो बार जीरे का पानी जरूर पीएं, इससे आपको बदहजमी में बहुत फायदा मिलेगा। कोल्‍ड प्रेस्‍ड जीरा ऑयल का सेवन भी कर सकती हैं। 

5.  दिन में 3-4 बार गरम पानी का सेवन करें। इससे पेट में भारीपन महसूस नहीं होगा। 

Recommended Video

उम्‍मीद है कि आपको बदहजमी के यह घरेलू उपचार पसंद आए होंगे। अगली बार यदि आप या आपके परिवार में किसी को भी बदहजमी की समस्‍या हो जाए तो उसे एक्‍सपर्ट द्वारा बताए गए इन उपायों से ठीक किया जा सकता है।

अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे शेयर और लाइक जरूर करें साथ ही इसी तरह और भी हेल्‍थ से जुड़ी एक्‍सपर्ट टिप्‍स जानना चाहती हैं तो जुड़ी रहें हरजिंदगी से। 

 Image Credit: freepik