बच्‍चे को जन्‍म देना किसी महिला लिए उसके जीवन के सबसे रोमांचक और खास लम्‍हों में से एक होता है। ऐसे में महिलाओं में कई तरह के हार्मोनल और शारीरिक परिवर्तनों होते हैं। जो उसकी शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करती है, ऐसे में यह किसी महिला के लिए सबसे चुनौतीपूर्ण समय में से एक है। महिला प्रेग्नेंसी के दौरान किस स्थिति से गुजर रही है, उसके शरीर में मतली, सीने में जलन, सिरदर्द से लेकर कब्ज, बवासीर और पीठ दर्द तक इस दौरान होने वाले सामान्‍य लक्षण हो सकते हैं। इसी तरह, महिलाओं को प्रेग्नेंसी से पहले मिल्क फीड (लैक्टेशन) संबंधी चुनौतियों के साथ-साथ डिप्रेशन का भी अनुभव होता है। इस बारे में हर जिंदगी को जिंदल नेचरक्योर इंस्टीट्यूट की उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्‍टर विनोदा कुमारी बता रही हैं।

घरेलूू उपचार 

सदियों से, घरेलूू उपचार ने मातृत्व की इस खूबसूरत यात्रा में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। कठिन प्रेग्नेंसी के लक्षणों के अलावा, शारीरिक लचीलेपन को दोबारा प्राप्त करने, प्रेग्‍नेंसी, ब्रेस्‍ट‍फीडिंग संबंधी समस्‍या को दूर करने में मदद करने के लिए दुनिया भर की महिलाओं द्वारा सदियों से प्राकृतिक चिकित्सा का उपयोग किया गया है। प्राकृतिक उपचार मां बनने की इच्‍छा रखने वाली महिलाओं और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण हैं क्योंकि यह तरीका बच्चे के लिए सुरक्षित है। आइए कुछ ऐसी प्राकृतिक चिकित्साओं पर एक नजर डालें, जिन्होंने सदियों से प्रेग्नेंट महिलाओं की मदद की है।

अदरक

best pregnancy inside

अदरक सिर्फ एक मसाला ही नहीं है बल्कि यह इससे कहीं अधिक गुणकारी है। यह प्राकृतिक पाचन एंजाइमों और एंटी-इंफ्लेमेट्री गुणों के साथ युक्‍त एक शक्तिशाली औषधीय जड़ी बूटी है, और यह प्राकृतिक चिकित्सा का एक आंतरिक हिस्सा भी रही है। सुबह की सुस्‍ती को प्रेग्नेंसी की मतली और उल्टी (एनवीपी) के रूप में भी जाना जाता है, प्रेग्नेंसी के चौथे और सोलहवें सप्ताह के बीच अनुभव किया जाने वाला यह एक सामान्य लक्षण है। मॉर्निंग सिकनेस से निपटने वाली महिलाओं के लिए, अदरक सदियों से एक विश्वसनीय जड़ी बूटी रही है। भोजन, सूप और सलाद पर अदरक का महीन टुकड़ा डालने, शहद के साथ इसका सेवन करने या अदरक की चाय पीने से मतली से छुटकारा मिलता है, इसके अलावा मतली से लड़ने के लिए कच्चे और ताजे अदरक का सेवन करना भी बहुत प्रभावी तरीका है। अदरक में जिंजरोल, शोगोल और पैराडोल जैसे कई फेनोलिक यौगिक होते हैं जो एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इंफ्लेमेट्री गुणों को प्रदर्शित करते हैं। इसीलिए अदरक प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को तनाव से लड़ने में मदद करने के लिए बहुत उपयोगी माना जाता है।

इसे भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी में दिखना है स्टाइलिश तो बॉलीवुड एक्ट्रेस से लें फैशन टिप्स

नारियल का पानी

best pregnancy inside

नारियल पानी एक और प्राकृतिक उपचार है जो प्रेग्नेंसी की समस्‍याओं को दूर करने में बहुत मददगार है। प्राकृतिक विटामिन और खनिजों से समृद्ध, यह न केवल आपके शरीर के लिए पौष्टिक है, बल्कि यह कब्ज और सीने में जलन- प्रेग्नेंसी महिलाओं द्वारा अनुभव की जाने वाली दो सामान्य स्थितियां- को नियंत्रित करने में भी मदद करता है। जैसा कि आपका पेट बढ़ता है, यह पेट में मौजूद एसिड को आहार नली में धकेलता है, जिससे लगातार अम्लता होती है। नारियल का पानी एसिड रिफ्लक्स (उतार-चढ़ाव) के लक्षणों को दूर करता है और उल्टी के कारण खोए हुए इलेक्ट्रोलाइट्स और तरल पदार्थों को फिर से भरने में मदद करता है।

मेथी दाना

best pregnancy inside  

मेथी दाना या मेथी के बीजों का सेवन महिलाओं में प्रेग्नेंसी के दर्द को दूर करने के लिए किया जाता है। लंबे समय तक प्रेग्नेंसी का अनुभव करने वाली महिलाओं को प्राकृतिक उपचार में अक्सर मेथी के बीज का सेवन करने की सलाह दी जाती है ताकि प्रेग्नेंसी की प्रक्रिया में तेजी आए। प्रेग्नेंसी मधुमेह से पीड़ित महिलाएं भीगी हुई मेथी के बीजों का सेवन करके फायदा उठा सकती हैं जो ब्लड में खून के स्तर को स्थिर रखने और डिटॉक्सीफाइंग एजेंट के रूप में काम करता है। हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है किसी को प्राकृतिक चिकित्सक की देखरेख में ही इसका उपभोग करना चाहिए। आमतौर पर गर्भावस्था के 37वें सप्ताह के बाद ही मेथी के बीजों का सेवन करने की सलाह दी जाती है। मेथी के बीज भी एक उत्कृष्ट हर्बल गैलेक्टागॉग (दूध संबंधी) या एजेंट हैं जो स्तनपान कराने वाली महिलाओं में दूध की आपूर्ति को बेहतर बनाने में मदद करते हैं। मेथी के बीज के प्रयोग से एक कप चाय बनायें और इसका सेवन दिन में कई बार कर सकती हैं। मेथी के पत्तों और बीजों में जिंक और बायोटिन के साथ विटामिन बी, सी और ई होते हैं, ये पोषक तत्व प्रसवोत्तर बाद बालों के झड़ने को रोकने की क्षमता रखते हैं। प्रसवोत्‍त्‍र बालों के झड़ने की समस्‍या से जूझ रही महिलाओं के लिए, मेथी का सेवन करना और सिर के ऊपर मेथी के बीज/पत्तियों को लगाने से भी सिर स्‍वस्‍थ होता है साथ ही बालों का विकास होता है और बालों के झड़ने की समस्‍या दूर हो जाती है।

स्‍ट्रेच मार्क्‍स के लिए नारियल/जैतून का तेल

best pregnancy inside

पेट पर दिखाई देने वाले स्‍ट्रेच मार्क्‍स या खिंचाव के निशान गर्भावस्था के बाद महिलाओं के लिए प्रमुख सौंदर्य संबंधी चिंताओं में से एक हैं। निशान बच्चे के जन्म के बाद खिंची हुई त्वचा के संकुचन के परिणाम के कारण होते हैं। दुनिया भर में कई सभ्‍यताओं में, महिलाएं खिंचाव के निशान की उपस्थिति rogको रोकने या कम करने के लिए गर्भावस्था के दौरान पेट पर मालिश करने के लिए हाइड्रेटेड ऑयल का उपयोग करती हैं। प्रकृति में अत्यधिक शालीन, नारियल का तेल त्वचा को हाइड्रेट रखता है और त्‍वचा के लचीलेपन को बढ़ाने में मदद करता है, जिससे खिंचाव के निशान के प्रति संवेदनशीलता कम हो जाती है। इसी तरह, जैतून का तेल जो विटामिन ई और  का एक समृद्ध स्रोत है, लंबे समया से इसका प्रयोग त्‍वचा की देखभाल के रूप होता आ रहा है। जैतून का तेल त्वचा की चिकनाई और कोमलता बनाए रखने में मदद करता है और खिंचाव के निशान को कम करता है।

प्रेग्नेंसी से पूर्व योग और विश्राम (रिलेक्‍सेशन) तकनीक

best pregnancy inside

प्रसव पूर्व योग करने का दृष्टिकोण विशेष रूप से गर्भवती महिलाओं के लिए बनाया गया है, यह श्वांस और विश्राम तकनीकों पर जोर देता है; ऐसा व्यायाम जो सहनशक्ति बढ़ाने में मदद करता है, पेट के भीतरी हिस्‍से को मजबूत और श्रोणि की मांसपेशियों को मजबूत करता है। यह व्यापक दृष्टिकोण गर्भावस्था के दौरान और बाद में शारीरिक और मानसिक लचीलापन में सुधार करते हुए महिलाओं को प्रसव के लिए अच्छी तरह से तैयार करने में भी मदद करता है। रेस्‍टोरेटिव (पुनरावर्ती) पोज, ब्रीदिंग (श्वांस), मेडिटेशन (ध्यान) और रिलेक्‍सेशन (विश्राम) तकनीकों की एक श्रृंखला भी तनाव को दूर करने में मदद करती है और प्रसव के बाद के अवसाद से लड़ने में भी मदद करती है।

इसे भी पढ़ें: वनस्पति तेल नहीं है पसंद तो खाएं ये वाले हेल्दी ऑयल

एक्यूपंक्चर 

मन और शरीर को आराम देने, रक्त परिसंचरण और ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने में मदद करने के लिए विशिष्ट बिंदुओं में बहुत बारीक सुइयों को सम्मिलित करने की एक प्राचीन चीनी चिकित्सा तकनीक है। एक्यूपंक्चर माओं को सुरक्षित और दवा मुक्त तरीके से सीने में जलन, मतली और पीठ के निचले हिस्से के दर्द से राहत देता है।

आधुनिक चिकित्‍सा को अपनाना

best pregnancy inside  

आधुनिक चिकित्सा ने मातृ और शिशु मृत्यु दर को कम करने में काफी मदद की है। हालांकि, रासायनिक आधारित दवाएं फीटल  के लिए हानिकारक हो सकती हैं और इसलिए उनके अधिक उपयोग से बचना चाहिए। प्राकृतिक चिकित्सा पूर्व और प्रेग्नेंसी के बाद अधिक टिकाऊ और भरोसमंद है। यह बच्‍चे के जन्‍म के बाद सूजन को कम करके और शारीरिक प्रणाली को डिटॉक्सीफाई करके मां को तेजी से ठीक होने में भी मदद करता है। वेस्ट इंडियन मेडिकल जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन ने निष्कर्ष निकाला कि हल्दी क्रीम का उपयोग सिजेरियन ऑपरेशन के घावों के तेजी से उपचार में बहुत प्रभावी था। प्राकृतिक चिकित्सा घटकों की प्रभावकारिता के बारे में अधिक वैज्ञानिक सबूतों को टटोलने के लिए हमें ऐसे अध्ययनों की आवश्यकता है। दुर्भाग्य से, अधिकांश आधुनिक चिकित्सा चिकित्सक (अज्ञानता या सरासर पूर्वाग्रह से बाहर) पूरी तरह से प्राकृतिक तरीके की अवहेलना करते हैं। मातृत्व के लिए एक व्यापक दृष्टिकोण विकसित करना हमारे लिए महत्वपूर्ण है जो आधुनिक चिकित्सा और प्राकृतिक उपचार दोनों की अनिवार्यता को संतुलित करता हो।