शिशु के लिए अमृत है ब्रेस्‍ट मिल्‍क।
जी हां एक निश्चित समय के लिए शिशु को ब्रेस्‍टफीडिंग कराना हमेशा से हेल्‍थ बेनिफिट्स से जुड़ा हुआ पाया गया है। लेकिन वैज्ञानिकों के एक समूह ने पता लगाया है कि ब्रेस्‍टफीडिंग के शिशु के साथ-साथ मां के लिए कौन से अल्पकालिक और दीर्घकालिक फायदे है ये जानकारी अभी तक अज्ञात है। आज हम आपको यही बताने जा रहे हैं कि ब्रेस्‍टफीडिंग बच्‍चे के साथ-साथ मां की हेल्‍थ के लिए भी किसी वरदान से कम नही हैं। जी हां ब्रेस्‍टफीडिंग मां और बच्‍चे दोनों की सेहत के लिए बहुत अच्‍छा है, आइए एक्‍सपर्ट से जानें कैसे।

टाइप-2 डायबिटीज से बचाव
diabetes health inside

निष्कर्षों से अनुमान लगाया गया है कि ब्रेस्‍टफीडिंग कराने से मां में जेस्टेशनल डायबिटीज के बाद टाइप-2 डायबिटीज के खतरे को कम करने में हेल्‍प मिलती है। 4,400 से अधिक महिलाओं पर 20 सालों तक स्‍टडी करने के बाद पता चला कि लंबे समय तक ब्रेस्‍टफीडिंग कराने से प्रेग्‍नेंसी के दौरान जेस्टेशनल डायबिटीज से निदान वाली महिलाओं के जीवन में बाद में टाइप-2 डायबिटीज के विकास का खतरा कम हो सकता है।

जेस्टेशनल डायबिटीज वाली महिलाएं, जिन्‍होंने 1 साल से अधिक के लिए अपने शिशु को ब्रेस्‍टफीडिंग करवाया, उन महिलाओं में ब्रेस्‍टफीडिंग ना करवाने वाली महिलाओं की तुलना में टाइप-2 डायबिटीज का जोखिम लगभग 30 प्रतिशत कम कर दिया। शोध ने सुझाव दिया कि लैक्टेशन यानि ब्रेस्‍टफीडिंग का दीर्घकालिक लाभकारी प्रभाव उम्र बढ़ने वाली महिलाओं के जीवनकाल में जारी रह सकता है।

इसे जरूर पढ़ें: ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली महिलाओं में हार्ट डिजीज का खतरा होता है कम

मोटापे से बचाव

स्‍टडी में दावा किया गया है कि ब्रेस्‍टफीडिंग तेजी से बढ़ने वाले बच्चों में अधिक वजन के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करता है। प्रारंभिक जीवन के दौरान वजन तेजी से बढ़ने से शिशुओं को बाद में मोटापे के जोखिम में डाल देता है। स्‍टडी में, जीवन के पहले चार महीनों में तेजी से वजन प्राप्त करने वाले बच्चों को एक वर्ष की उम्र में अधिक वजन के रूप में वर्गीकृत होने की संभावना अधिक थी, अगर वे 11 महीने या उससे अधिक समय तक ब्रेस्‍टफीडिंग कराने की बजाय विशेष रूप से फार्मूला खिलाया जाता था।

मेटाबोलिक सिंड्रोम की संभावना होती है कम
metoblic syndrome inside

इसके अलावा, स्‍टडी में, ब्रेस्‍टफीडिंग से महिलाओं में मेटाबोलिक सिंड्रोम के खिलाफ सुरक्षात्मक प्रभाव भी दिखाई दिए। मेटाबोलिक सिंड्रोम उन स्थितियों का समूह है जो हार्ट डिजीज और डायबिटीज के खतरे को  बढ़ाते हैं। एक स्‍टडी में पाया गया कि टाइप-2 डायबिटीज के साथ पारिवारिक इतिहास वाली अधिक वजनी और मोटी हिस्‍पैनिक महिलाएं, जिन्‍होंने कम से कम एक महीने तक ब्रेस्‍टफीडिंग करवाई, उनमें अन्‍य ब्रेस्‍टफीडिंग ना करवाने वाली महिलाओं की तुलना में मेटाबोलिक सिंड्रोम होने की संभावना कम थी।

क्‍या कहती है स्‍टडी

इस सिद्धांत के प्रमाण पाए गए कि एक महिला का वजन उसके ब्रेस्‍ट मिल्‍क में क्या प्रभाव डालता है। एक नई स्‍टडी के शुरुआती निष्कर्षों से पता चला है कि मोटापे से ग्रस्त महिलाओं के ब्रेस्‍ट मिल्‍क में पहले छह महीनों के दौरान सामान्य वज़न महिलाओं के ब्रेस्‍ट मिल्‍क की तुलना में कुल फैट, सूजन मार्कर सी-रिएक्टिव प्रोटीन और लेप्टिन और इंसुलिन सहित हार्मोन होते हैं। शिशु विकास और विकास के लिए इन मतभेदों के प्रभाव अभी तक अज्ञात हैं। एक ब्रेस्‍टफीडिंग कराने वाली मां का आहार उसके बच्चे के आंतों के सूक्ष्मजीव को प्रभावित कर सकता है, एक और स्‍टडी ने दावा किया गया। ब्रेस्‍टफीडिंग कराने वाली मां की डाइट में फैट, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और कैलोरी सामग्री को उसके बच्चे के मल में पाए जाने वाले बैक्टीरिया के प्रकार से जोड़ा जाता है।



इस स्‍टडी में, शिशु के माइक्रोबायम को मां के आहार से संबंधित, जीवन के पहले महीनों के दौरान आंतों के सूक्ष्मजीव को आकार देने के तरीके पर नई रोशनी डाली। एक और स्‍टडी के मुताबिक, मीठे पेय पदार्थ पीना ब्रेस्‍ट मिल्‍क में फ्रक्टोज़ स्पाइक का कारण बनता है। शोधकर्ताओं ने ब्रेस्‍ट मिल्‍क में फ्रक्टोज की एकाग्रता की रिपोर्ट की और ब्रेस्‍टफीडिंग कराने के बाद 5 घंटे तक हाई बना रहा, महिलाओं ने ब्रेस्‍टफीडिंग की 20-औंस की बोतल खपत की जिसमें 65 ग्राम चीनी (हाई फ्रूटोज कॉर्न सिरप के रूप में) शामिल था। ब्रेस्‍ट मिल्‍क में फ्रूटोज़ लेवल एक कृत्रिम रूप से मीठे पेय पीने से अप्रभावित थे, जिसमें शुगर शून्य ग्राम होते थी। अध्ययन से निष्कर्ष बोस्टन में हनेस कन्वेंशन सेंटर में न्यूट्रिशन 2018 की बैठक में प्रस्तुत किए जाएंगे।

इसे जरूर पढ़ें: Health के लिए ब्रेस्ट फीडिंग कराएं लेकिन सही समय पर इसे छुड़ाना है जरूरी

अन्‍य फायदे

  • पाया गया है कि ब्रेस्‍टफीडिंग न कराने वाली महिलाओं की तुलना में ब्रेस्‍टफीडिंग कराने वाली महिलाओं के लिए, आगे चलकर ऑस्टियोपोटोसिस होने का खतरा कम हो जाता है।
  • ब्रेस्‍टफीडिंग कराने से बच्चो को ही नहीं बल्कि माताओं को भी बहुत सारी बीमारियों से लड़ने की शक्ति मिलती है। ब्रेस्‍टफीडिंग बच्चों में कैंसर के खतरे के साथ-साथ महिलाओं में भी इसके खतरे को कम करता है।
  • ब्रेस्‍टफीडिंग कराने वाली महिलाओं को डिलीवरी के बाद होने वाला डिप्रेशन भी नहीं सताता, जिसे 'पोस्टनैटल डिप्रेशन' कहते हैं।
  • शोधकर्ताओं का दावा है कि ब्रेस्ट फीडिंग कराने के कारण महिलाओं में गुड कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ता है और सर्कुलेटिंग फैट भी कम होता है। इससे कैरोटिड आर्टरीज की मोटाई भी कम होती है। यह गले और सिर पर ऑक्सीजन से युक्त ब्‍लड को पहुंचाती है।

Source: ANI