आमतौर पर भारत में रहने वाले हर व्‍यक्ति की सुबह चाय की चुस्कियों के साथ ही होती है। अगर कहा जाए कि चाय भारतीयों का पसंदीदा ड्रिंक है तो यह गलत नहीं होगा। भारत में चाय को हर घर में प्रमुखता दी जाती है। घर में आए मेहमान का स्‍वागत करना हो, थकान मिटानी हो, यहां तक की दवा के तौर पर भी चाय का इस्‍तेमाल किया जाता है। भारतियों के बीच चाय का महत्‍व किसी एनर्जी बूस्‍टर से कम नहीं है। बेस्‍ट बात तो यह कि जिसे खाना बनाना भी नहीं आता वह भी चाय बनाना जानता है क्‍योंकि इसे बनाने की विधि बहुत आसान है। मगर, चाय बनाते वक्‍त और पीते वक्‍त लोग बहुत सारी गलतियां करते हैं। आज हम इन्‍हीं गलतियों को सुधारने पर बात करेंगे। 

भातर में अमूमन लोग दूध वाली चाय ही पीते हैं। ग्रीन टी और हर्बल टी का क्रेज अभी भी भारतियों में कम है। ऐसे में दूध वाली चाय को बनाने का एक तरीका है। अमातौर पर चाय में दूध ज्‍यादा और पानी कम होता है। कड़क चाय पीने वाले पत्‍ती ज्‍यादा डालते हैं और मीठा कम पसंद करने वाले चीनी कम डालते हैं। मगर, इन सभी सामग्रियों को साथ में नहीं डालना चाहिए। इससे चाय का स्‍वाद खराब हो सकता है। 

इसे जरूर पढ़ें: सुबह खाली पेट पी लेती हैं चाय तो हो सकते हैं ये नुकसान, जानिए इसका सही तरीका

how to make a cup of tea with milk

  • सबसे पहले आपको एक साफ बर्तन में चाय पीने वालों की संख्‍या को ध्‍यान में रख कर पानी डालना चाहिए। पानी में जब थोड़ा उबाल आने लगे तो उसमें आपको चाय की पत्‍ती डालनी चाहिए। इसे कुछ देर के लिए उबलने देना चाहिए। ब्लैक और Green Tea छोड़िये, अब पीजिये White Tea जो रखेगी आपको फिट और हेल्दी
  • इस बात का ध्‍यान रखें कि जब आप चाय की पत्‍ती को पानी में उबाल रहे हों तो उसे 6 मिनट से ज्‍यादा न उबालें। इतने समय में चायपत्‍ती अच्‍छी तरह से उबल जाती है। इस बात का भी ध्‍यान रखें कि चायपत्‍ती अच्‍छे ब्रांड की हो और बड़े दाने वाली हो। 
  • पानी का रंग जब हल्‍का काला होने लगे तब आपको चीनी का प्रयोग करना चाहिए। चीनी चाय की पत्‍ती के साथ ही न डालें। इससे भी चाय के स्‍वाद में अंतर पड़ सकता है। 
  • चाय में दूध डालने से पहले उसे अच्‍छी तरह से उबाल लें। जब दूध उबालें तो उसे धीरे-धीरे चम्‍मच से चलाते रहें। जब दूध उबल जाए तो उसे चाय के लिए उबल रहे पानी में डालें। कुछ देर चाय को उबालें। जब चाय उबल रही हो तो उसे चम्‍मच से चलाते रहें। 5 मिनट बाद आप चाय को आंच से उतार कर सर्व कर सकते हैं। इन 5 तरह की चाय के बेहतरीन फायदों के बारे में नहीं जानती होंगी आप
how to drink tea with tea bag

यदि आप इस तरह से चाय बनते हैं तो यह न ज्‍यादा कड़क और न ज्‍यादा लाइट बनती है। वैसे चाय बनाने के साथ ही आपको चाय पीने का सही तरीका भी पता होना चाहिए। यदि आपका चाय पीने का तरीका सही नहीं है तो आपको कई तरह की स्‍वास्‍थ्‍य से जुड़ी परेशानियां हो सकती हैं। शाली मार स्थित फोर्टिस हॉस्पिटल की डाइटिशियन सिमरन सैनी इस बारे में बताती हैं, 'यदि आप सुबह खाली पेट चाय पीती हैं तो आपको एसिडिटी की समस्‍या हो सकती है। इतना ही नहीं चाय आपकी भूख भी मार सकती है। इससे आपके शरीर का मेटाबॉलिज्‍म रेट भी स्‍लो हो जाता है।' तो चलिए जानते हैं कि आखिर चाय पीने का सही तरीका क्‍या है। 

  • रात में सोने से पहले और सुबह उठने के तुरंत बाद आपको चाय नहीं पीनी चाहिए। यदि आप ऐसा कर रहे हैं तो यह पेट के बाइल जूस की प्रक्रिया पर प्रभाव डालती है। यह आपके पेट में एसिड भी बना सकती है जिससे आपको एसिडिटी की प्रॉब्‍लम हो सकती है। गरमा गरम चाय पीने की हैं शौकीन, तो एक बार मुंबई की इन जगहों पर जाएं जरूर
  • यदि आप ज्‍यादादेर तक रखी हुई चाय को दोबारा गरम कर के पी रहे हैं तो जान लें यह किसी जहर से कम नहीं होती। या फिर आप बहुत ज्‍यादा चाय को उबाल कर पीते हैं तो आपको बता दें कि ऐसा करने से चाय में निकोटिनामाइड की मात्रा बढ़ जाती है। यह आपकी सेहत के लिए अच्‍छा नहीं है। 

Recommended Video

  • यदि आप दिन में एक या दो से ज्‍यादा बार चाय पीती हैं तो यह आपकी भूख को भी मार देती है। इससे आपके शरीर में एनर्जी की कमी हो जाती है। चाय में कैफीन होता है। इससे भी आपकी भूख मर जाती है। साथ ही आपकी नींद का चक्र भी बिगड़ जाता है क्‍योंकि चाय पीने से नींद भी नहीं आती। 
  • सुबह उठकर आपको सबसे पहले खाली पेट 2 ग्‍लास पानी पीना चाहिए। रात भर सोने के बाद शरीर पूरी तरह से डिहाइड्रेटेड हो जाता है। सुबहा उठकर पानी पीने से शरीर का मेटाबॉलिज्‍म रेट दुरुस्‍त रहता है। ऐसे में यदि आप सुबह उठकर चाय पीते हैं तो इससे आपके मेटाबॉलिज्‍म पर बुरा प्रभाव पड़ता है। इससे आपको डिहाइड्रेशन की परेशानी भी हो सकती है। चाय पीने के बाद बॉडी पर होता है ये असर

 Image Credit: standard.co.uk, thefamiliarkitchen.com