कुछ लोगों में सुबह उठते ही जिस चीज की तलब होती है, वो है चाय, चाहें कोई भी मौसम हो चाय पीने के बाद शरीर हल्का सा ठंडा हो जाता है। इसका कारण है कैफीन। इस कैमिकल से फैट एनर्जी में बदलता है और पसीना आता है। हालांकि, इससे बहुत ज्यादा गर्मी नहीं लगेगी, लेकिन फिर भी शरीर ठंडा हो जाएगा। क्या आप जानते हैं की चाय अलग-अलग लोगों को अलग तरह से प्रभावित करती है? आइए जानते हैं चाय से जुडी कुछ ऐसी ही ख़ास बातों को।

इसे जरूर पढ़ें - केसर से लेकर ईरानी तक 7 तरह के चाय के बारे में जानें, घर पर लें इनका मजा

कुछ ऐसा असर

how tea affects body

क्या आपको पता है कुछ लोगो को चाय पीने के तुरंत बाद प्यास लगती है और कुछ लोगों थोड़ी देर बाद, वैसे तो चाय बहुत हाइड्रेटिंग ड्रिंक है क्योंकि इसमें चीनी, एसिड आदि सब होता है, लेकिन फिर भी शरीर के साथ कुछ ऐसा रिएक्शन होता है कि प्यास लगे इसलिए चाय पीने के बाद प्यास लगती है। चाय पीने से पहले अगर आपने पानी पिया तो पानी पेट में एसिड लेवल को कम कर देता है चाय में पी एच लेवल 6 होता है जो एसिडिक है चाय पीने पर ये एसिडिटी को बढ़ाएगी।

चाय का शरीर पर प्रभाव

ब्रिटिश साइंटिस्ट ने इस मामले में रिसर्च की और इंफ्रारेड थर्मामीटर से जांचने पर ये पाया कि एक गर्म दिन में कोल्ड ड्रिंक पीने पर 0.5 डिग्री शरीर का तापमान कम हो जाता है, लेकिन सिर्फ 9 मिनट के अंदर अगर आइस टी पी जाए तो तापमान 0.8 डिग्री तक कम हो जाता है। यहीं अगर गर्म चाय पी जाए तो शरीर का तापमान 1-2 डिग्री तक कम हो जाता है। यानि गर्म चाय से शरीर ज्यादा जल्दी ठंडा हो जाता है। इसका एक कारण ये भी है कि मुंह में चाय पीते वक्त काफी ज्यादा सलाइवा बनता है।

how tea affects body ()

 

गर्म चाय के नुकसान 

जो लोग बहुत गर्म चाय पीते हैं उन्हें फूड पाइप की छोटी-मोटी समस्या से लेकर भोजन नली के कैंसर तक बहुत कुछ हो सकता है. ईस्ट केंट हॉस्पिटल यूनिवर्सिटी एनएचएस फाउंडेशन के एक नाक, कान, गला विषेशज्ञ टी एन टी सर्जन हेनरी शार्प का कहना है कि अगर बहुत गर्म चाय पी जाए तो ब्लडसेल्स यानी रक्त कोशिकाओं को नुकसान पहुंचता है. इसके कारण नाक से खून बहना या शरीर में अन्य समस्याएं हो सकती हैं. अगर किसी की नाक से खून निकल रहा हो तो उसे वैसे भी अगले 24 घंटे तक कुछ भी गर्म पीने से बचना चाहिए... अगर किसी को बहुत गर्म चाय पीने की आदत है तो उसे चाय थोड़ी ठंडी कर पीनी चाहिए।

कब ना पिए चाय

how tea affects body ()

अगर नसों की बीमारी जैसे न्यूरेस्थीनिया हो तो पेशंट को चाय या कॉफी से दूर रहना चाहिए क्योंकि इससे नींद पर असर पड़ता है. अगर बिना पिए आपका काम नहीं चल रहा है तो सुबह के समय ही पिए दोपहर और शाम को नहीं।

इसे जरूर पढ़ें - आप भी हैं चाय पीने की शौकीन तो ऐसे बनाएं घर पर चाय मसाला पाउडर

ज्यादा स्ट्रांग चाय ना पिए 

चाय में मौजूद अधिकतर मिनरल पानी में घुलने वाले होते हैं. अगर चाय बनाते समय बहुत ज्यादा पत्ती डाली जाए तो एक कप चाय में कैफीन की मात्रा बहुत बढ़ जाएगी. इसी के साथ टैनिक एसिड भी होगा. इसके कारण चाय काली और कड़वी होती जाती है. ये कैमिकल भी शरीर को नुकसान पहुंचाते हैं।

अगर आप चाय के बहुत शौकीन है तो इस बात पर ज़रूर ध्यान दें।