रक्तदान महादान है, इसे जीवनदान के बराबर माना जाता है। रक्तदान ना केवल अन्य व्यक्ति के जीवन को बचाता है, बल्कि यह रक्त देने वाले को स्‍वस्‍थ बनने में भी हेल्‍प करता है, इसलिए यह दोनों के लिए फायदेमंद है। डॉक्‍टर चौहान का कहना हैं कि रक्तदान एक जीवन देने वाली एक्टिविटी है जो किसी व्यक्ति के जीवन को बचा सकती है। इसलिए और जब भी मौका मिले, सभी हेल्‍दी पुरुष और महिलाओं को भी रक्तदान करना चाहिए। यह वर्ल्‍ड डोनर डे के मौके पर जीवा आयुर्वेद के डायरेक्‍टर डॉक्‍टर प्रताप चौहान का कहना हैं।

रक्तदान पर एक्‍सपर्ट की राय

डॉक्‍टर प्रताप चौहान ने कहा, "ब्‍लड एक महत्वपूर्ण मेटल है और रक्तदान बॉडी में नए ब्‍लड को पुनर्जीवित करने में सक्षम बनाता है। पित्त प्रकृति के महिलाओं को अक्सर रक्तमोक्षण पंचकर्म थेरेपी की सलाह दी जाती है, इसलिए रक्तदान द्वारा पित्त प्रकृति के महिलाओं को रक्तमोक्षण के समान लाभ मिल सकते हैं। "डॉक्‍टर चौहान ने कहा कि रक्तदाताओं के लिए पौष्टिक और स्वस्थ आहार और अच्छी तरह से आराम करना बहुत महत्वपूर्ण है, जिससे नए ब्‍लड सेल्‍स फिर से बनें, अन्यथा इससे बॉडी में ब्‍लड की कमी हो सकती है। उन्होंने बताया कि जीवा आयुर्वेद की स्थापना आधुनिक संदर्भ में उपचार और स्वास्थ्य लाभ के वैदिक भारतीय विज्ञान, आयुर्वेद को पुनर्जीवित करके एक स्वस्थ, सुखी और शांतिपूर्ण समाज बनाने के उद्देश्य से 1992 में की गई थी।

इसे जरूर पढ़ें: ब्लड प्रेशर को इस तरह से दो हफ्तों में आप भी कर सकती हैं कम

blood donate benefits INSIDE

रक्तदान के फायदे

  • रक्तदान के कई फायदे हैं। यह बॉडी से अतिरिक्त आयरन निकालने का बेहतरीन तरीका है।
  • इसके अलावा कैलोरी बर्न करने और कोलेस्ट्रॉल घटाने में भी इससे काफी हेल्‍प मिलती है।
  • रक्तदान से बॉडी में ब्‍लड सेल्‍स की संख्या कम हो जाती है। इसकी भरपाई करने के लिए बॉडी बोनमैरो को नई रेड सेल्‍स कणिकाएं बनाने के लिए प्रेरित करता है। इससे बॉडी में नई कोशिकाएं बनती हैं और सिस्टम रिफ्रेश हो जाता है।
  • ब्‍लड डोनेट करने से बॉडी में नया ब्‍लड और नई सेल्‍स बनती है, जो ब्लड को पतला करती है। जिससे स्किन साफ़ और सुंदर बनती है, यह चेहरे के पिंपल्‍स, दागों को कम कर चेहरे की सुन्दरता भी बढाता है।

इसे जरूर पढ़ें: सुरक्षित रहना है तो ब्लड ट्रांसफ्यूजन के लिए रखें पर्याप्त इंतजाम

blood donate benefits inside

कौन कर सकता है रक्तदान

  • रक्तदान दो तरह से किया जाता है। कोई महिला स्वेच्छा से रक्तदान कर सकती है ताकि उसका रक्त किसी जरूरतमंद की जान बचा सकें। या जब जरूरतमंद महिला किसी सगे-संबंधी की मदद के लिए सीधे तौर पर उसके लिए रक्तदान कर सकती हैं।
  • 18-60 वर्ष का कोई भी हेल्‍दी महिला रक्तदान कर सकती है।
  • रक्त में हीमोग्लोबिन की मात्रा 12.5 ग्राम/डीएल से कम नहीं होनी चाहिए।
  • रक्तदाता का बॉडी वेट 45 किलो से कम नहीं होना चाहिए।
  • रक्तदान करने वाले को सांस, त्वचा या हृदय संबंधी रोग नहीं होना चाहिए।
  • अगर महिला रक्तदान कर रही हो तो वह पिछले छह हफ्तों में गर्भवती नहीं होनी चाहिए।

Source: IANS