बीमारियां पहले बढ़ती उम्र के साथ होने लगती थी, लेकिन आज के आधुनिक लाइफस्‍टाइल में 30 से 40 साल की उम्र में ही लोग बीमार होने लगे हैं। खासतौर पर लोगों को दिल के रोग बहुत परेशान करने लगे  हैं। भारत में अनहेल्‍दी लाइफस्टाइल, स्‍ट्रेस, एक्सरसाइज ना करने और बैड फूड हैबिट्स की वजह से लोगों को दिल संबंधित गंभीर रोग होने लगे हैं। लेकिन परेशान ना हो क्‍योंकि एक नई रिसर्च के अनुसार एक स्‍पेशल डाइट की हेल्‍प से आप दिल को लंबे समय तक हेल्‍दी रख सकती हैं।

''भोजन को औषधि बनाएं और औषधि को भोजन''

हम जो भी भोजन करते हैं, वह मात्रा और गुणवत्ता दोनों ही दृष्टियों से हमारे पोषण/हेल्‍थ के लेवल और कुल मिला कर हमारी खुशहाली को प्रभावित करता है। इसलिए हमें अपनी डाइट अच्‍छी लेनी चाहिए। जी हां बादाम, सोया, दाल, फलियां सहित प्‍लांट बेस फूड और प्‍लांट स्टेरोल्स की थोड़ी मात्रा लेने से ब्‍लड प्रेशर, ट्राइग्लिसराइड्स और सूजन (इनफलेमेशन) समेत हार्ट संबंधी बीमारी के कई जोखिम कम हो सकते है। अध्ययनकर्ताओं के अनुसार, प्लांट बेस्ड डाइट पैटर्न को पोर्टफोलियो डाइट के रूप में जाना जाता है और यह 2,000 कैलोरी आहार पर आधारित होती है।

heart health diet inside

हार्ट डिजीज के खतरे में 13 प्रतिशत कमी

प्‍लांट बेस को कम संतृप्त वसा वाले आहार के साथ सेवन करने से कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन कोलेस्ट्रॉल(बेड कोलेस्ट्रोल) में 30 प्रतिशत की कमी आती है। इसके अलावा अध्ययनकर्ताओं ने पाया कि इस आहार के सेवन से हार्ट अटैक समेत हार्ट डिजीज के संपूर्ण खतरे में 13 प्रतिशत तक की कमी आती है।

क्‍या कहती हैं रिसर्च

कनाडा में टोरंटो यूनिवर्सिटी के एसोसिएट प्रोफेसर और सह-लेखक जॉन सिवेनपाइपर ने कहा, "हम जानते हैं कि पोर्टफोलियो डाइट से एलडीएल कोलेस्ट्रोल में कमी आती है, लेकिन हमारे पास इसकी स्पष्ट तस्वीर उपलब्ध नहीं थी कि यह और क्या कर सकता है। सिवनेपाइपर ने कहा, "यह रिसर्च डाइट के प्रभाव और इसके हेल्‍थ क्षमताओं के बारे में ज्यादा स्पष्ट और प्रमाणिकता के साथ बताता है। हृदय संबंधी बीमारियों पर छपी पत्रिका में अध्ययनकर्ताओं ने एक विश्लेषण किया, जिसमें 400 रोगियों के साथ सात कंट्रोल परीक्षण किया गया।

Read more: हार्ट अटैक के खतरे से बचाएंगे ये हेल्दी फूड आइटम्स

heart health diet inside

उन्होंने पाया कि ब्‍लड प्रेशर के खतरे में दो प्रतिशत और सूजन(इन्फ्लेमेशन) के खतरे में 32 प्रतिशत की कमी पाई गई। अध्ययनकर्ताओं ने कहा कि डाइट और लाइफस्‍टाइल में बदलाव करके रोगी हाई कोलेस्ट्राल और हार्ट संबंधी रोग के खतरे को कम कर सकता है और मौजूदा अध्ययन इस दिशा में और तर्क प्रदान करता है।

Image Courtesy: Pixel.com

Recommended Video