कहते है पेट खुश तो आप भी खुश। यह कहावत ऐसे ही नहीं बनी। ऐसा सच में होता है। अगर आप हेल्‍दी रहना चाहती हैं तो आपको अपने पेट का पूरा ध्‍यान रखना होगा। यह बात हम नहीं कह रहे बल्कि एक्‍सपर्ट का कहना है। जी हां आत्मंतन वेलनेस सेंटर के वेलनेस डायरेक्टर डॉक्‍टर मनोज कुटेरी का कहना है कि आपकी बॉडी में बहुत अधिक मात्रा में बैक्टीरिया होते हैं, जिनके बारे में आप नहीं जानते हैं! और यह संख्या लगभग 2 ट्रिलियन बैक्टीरिया तक जाती है जो मानव सेल्‍स नहीं हैं बल्कि हमारी बॉडी में रहते हैं। हम आपको बता दें कि ये बैक्टीरिया डाइजेस्टिव ट्रेक्‍ट (और आपकी त्वचा पर) में रहते हैं, वास्तव में यह हमारी बॉडी के लिए किसी आशीर्वाद की तरह हैं। पेट माइक्रोबायोम में अच्छे बैक्टीरिया होते हैं जो डाइजेशन में हेल्‍प करते हैं, इम्‍यून सिस्‍टम को मजबूत करते हैं और हानिकारक बैक्टीरिया से हमारी रक्षा करते हैं।

इसे जरूर पढ़ें: Health Tips: अच्‍छी हेल्‍थ के लिए महिलाओं को खाली पेट क्‍या खाना चाहिए क्‍या नहीं, जानें

पेट के माइक्रोबायोम सूक्ष्मजीवों का मिनी-इकोसिस्‍टम है जो मानव शरीर बनाता हैं। इसलिए अपनी हेल्‍थ को सही रखने के लिए पेट की हेल्‍थ का ध्‍यान देना बेहद जरूरी होता है। जी हां हमारे पास एक नेटवर्क है, जो न्यूरॉन्स की तरह है और हेल्‍थ की हेल्‍प के लिए उत्तम सामंजस्य बनाने के लिए काम करता है। आइए जानें कि आप अपने पेट का ध्‍यान कैसे कर सकती हैं और इससे आपको क्‍या-क्‍या फायदा मिलेगा।

पेट का असर डिप्रेशन, चिंता, मूड और अन्‍य हेल्‍थ प्रॉब्‍लम्‍स पर

 gut depression health

कई शोधों ने इस बात को साबित किया है कि पेट में मौजूद बैक्टीरिया के प्रकार हेल्थ संबंधी प्रॉब्‍लम्‍स को प्रभावित करते हैं। जब पेट से संबंधित कोई भी समस्‍या जैसे सूजन, आंत्र में समस्‍या या इंफेक्‍शन आदि होता है तो यह पेट के बाहर कई हेल्‍थ प्रॉब्‍लम्‍स को भी आकर्षित करता है। पेट में गड़बड़ी से चिंता, डिप्रेशन, मूड स्विंग और कई अन्‍य प्रॉब्‍लम्‍स हो सकती है। यह संकेतों को ब्रेन तक भेजता है जो खराब मूड, डिप्रेशन, उदासी और मूड व्‍यवहार लाने के लिए जाना जाता है।

Recommended Video

पेट हेल्‍दी तो डाइजेशन भी अच्‍छा

पेट के माइक्रोबायोम अच्‍छे डाइजेशन के लिए जिम्मेदार होते है और डाइजेशन हमारी हेल्‍थ को प्रभावित करने वाले प्रमुख प्रणालियों में से एक है। जब हमारी बॉडी में अच्छे बैक्टीरिया मौजूद होते हैं, तो डाइजेशन सिस्‍टम मजबूत और अच्‍छे तरीके से काम करता हैं। खराब बैक्टीरिया चीनी और प्रसंस्कृत भोजन पर पनपते हैं, जबकि अच्छे बैक्टीरिया फाइबर पर पनपते हैं। इसलिए अच्छे बैक्टीरिया को बढ़ावा देने के लिए हाई फाइबर डाइट लेना डाइजेशन सिस्‍टम को ठीक रखता है, और बदले में, एक हेल्‍दी बॉडी सिस्‍टम को बनाए रखता है।

बीमार होने से रोकता है हेल्‍दी पेट

digestive system health

हमारी बॉडी में अच्छे और बुरे दोनों तरह के बैक्टीरिया होते हैं। अच्छे बैक्टीरिया या पेट हमें भोजन को बेहतर ढंग से पचाने, एक मजबूत इम्‍यून सिस्‍टम का निर्माण करने, डाइजेशन को रेगुलेट और हेल्‍थ को बनाए रखते हैं। पेट हमारी बॉडी में महत्वपूर्ण पोषक तत्वों के अवशोषण को भी निर्धारित करता है। अगर बॉडी में अच्छे बैक्टीरिया का ध्यान रखा जाता है, तो बॉडी की कार्यक्षमता में सुधार होता है जिससे हमें हेल्‍दी रहने में हेल्‍प मिलती है।

बॉडी का दूसरा ब्रेन है पेट

पेट के माइक्रोबायोम प्रणाली का एक नेटवर्क है जो पूरी बॉडी को अत्यधिक कामकाज के लिए संकेत भेजता है। जब ज्यादा खाना या कम खाना होता है, तो ब्रेन को संकेत भेजकर आपको भूख के बारे में पता चलता है। इस तरह से बॉडी संकेतों पर प्रतिक्रिया करती है और जीवित रहने के लिए समायोजन करती है। अगर पेट का अच्‍छे से ध्‍यान रखा जाता है तो यह नेटवर्क हेल्‍थ को बढ़ावा देने में हेल्‍प करता है।

पेट जगा सकता है आपको

insomnia health fitness inside

पूरी नींद न लेना, पेट को नेगेटिव रूप से प्रभावित करता हैं, जो बदले में मानसिक और भावनात्मक स्थिरता को प्रभावित करता हैं। सही तरीके से नींद न लेने वाले लोगों के पेट में अच्‍छे बैक्‍टीरिया की कमी होती है जो बॉडी में इंसुलिन के लेवल को प्रभावित करता है और मोटापे और डायबिटीज से जुड़ा होता है। ब्रेन की तरह, पेट नींद-उत्प्रेरण न्यूरोट्रांसमीटर जैसे सेरोटोनिन, डोपामाइन आदि को रिलीज करने के लिए जिम्मेदार है। जब आप अपने पेट की अच्‍छे से केयर करते हैं, तो यह नींद के पैटर्न को रिस्‍टोर करने में हेल्‍प करता है, और इससे संबंधित कई हेल्‍थ प्रॉब्‍लम्‍स को भी। 

इसे जरूर पढ़ें: ये foods खाने से ठीक होंगे पेट के ulcer

मानव माइक्रोबायोम एक अविश्वसनीय प्रणाली है जो हमारी हेल्‍थ का बहुत अच्‍छे से समर्थन करती है। प्रोबायोटिक्स, फाइबर युक्‍त डाइट और एक हेल्‍दी लाइफस्‍टाइल की हेल्‍प से हम अच्छे बैक्टीरिया को पनपने में हेल्‍प कर सकते हैं। अकेले माइक्रोऑर्गैनिज्म के इस यूनिक सिस्‍टम में हेल्‍थ को बेहतर बनाने की शक्ति होती है। बस अपने पेट की देखभाल करें, और बाकी सब कुछ अपने आप ठीक हो जाएगा!