30 की उम्र के बाद महिलाओं का ध्‍यान आमतौर पर करियर, शादी, परिवार, प्रेग्‍नेंसी और बच्‍चो पर फोकस होता है। वे अपनी बॉडी के अंदर छिपी हेल्‍थ प्रॉब्‍लम्‍स से अनजान रहती हैं। लेकिन नॉर्मल चेकअप या लक्षणों की अनदेखी से भविष्‍य में बीमारियों के इलाज में कठिनाई आ सकती है। इसलिए 30 की उम्र के बाद महिलाओं को अपना रेगुलर हेल्‍थ चेकअप करवाना चाहिए।
जी हां बीमारी होने पर हमारी बॉडी हमें सिग्‍नल देने लगती है। और हम इस सिग्‍नल का जवाब देने के जिम्‍मेदार होते हैं। लेकिन हम इन सभी चीजों से इतना अंजान होती हैं कि हमारा ध्‍यान इस ओर जाता ही नहीं है। आइए ऐसी 5 बीमारियों के बारे में जानें जो महिलाओं को 30 की उम्र में परेशान कर सकती हैं।

Read more: शाइनी और स्मूथ बालों के लिए हेयर स्पा के बाद रखें इन बातों का खास ख्याल

बालों का झड़ना
hair fall inside

बालों के झड़ने की समस्या से अधिकतर महिलाएं परेशान रहती हैं। लेकिन 30 की उम्र के बाद ज्यादातर महिलाओं में झड़ते बालों की समस्या आम देखी जाती है। इसका मुख्य कारण तनाव और बच्चे का जन्म हो सकता है। इसके अलावा 30 की उम्र में झड़ते बालों का दूसरा बड़ा कारण बॉडी में न्यूट्रिएंट्स की कमी भी है। बॉडी में आयरन और विटामिन-डी की कमी से भी बाल झड़ने लगते हैं। इसके अलावा बॉडी में हार्मोन के असंतुलन होने से भी बाल झड़ने लगते हैं।

ब्रेस्‍ट में गांठ और ब्रेस्‍ट में परिवर्तन

वैसे तो किसी भी उम्र की महिला ब्रेस्‍ट कैंसर से पीडि़त हो सकती हैं, लेकिन उम्र बढ़ने के साथ इस बीमारी के होने की संभावना अधिक हो जाती है। जी हां उम्र बढ़ने के साथ महिलाओं में ब्रेस्‍ट कैंसर का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए ब्रेस्‍ट में किसी भी तरह के बदलाव जैसे गांठ, त्वचा की बनावट या निपल्स में अचानक परिवर्तन में महिलाओं को सतर्क रहना चाहिए। जल्‍द पता लगाने से ट्रीटमेंट की संभावना बढ़ जाती है।

प्रेग्‍नेंसी की संभावना कम होना
pregnancy chance main

कई स्टडी के अनुसार, अधिकतर महिलाओं में 30 की उम्र के बाद प्रेग्नेंट होने की संभावना बेहद कम हो जाती है। दरअसल, 30 की उम्र के बाद महिलाओं में ओवुलेशन की प्रक्रिया धीमी पड़ जाती है, जिस वजह से महिलाओं को प्रेग्‍नेंट होने में मुश्किल होती है। इसके अलावा बॉडी में हार्मोन का संतुलन बिगड़ने पर भी महिलाओं को प्रेग्‍नेंसी में मुश्किल होती है। हालांकि, हर महिला में ऐसा नहीं होता है क्योंकि हर महिला की बॉडी  अलग तरह से काम करती है।

Read more: अगर ऑफिस के तनाव से चेहरा हो गया है डल तो ये तरीके आजमाएं

थकान

बढ़ती उम्र के साथ बॉडी में कमजोरी बढ़ने लगती है, जिस वजह से अक्सर 30 की उम्र की महिलाओं को थकान महसूस होती है। ज्यादा थकान किसी बीमारी का संकेत भी हो सकता है। इसलिए अपने डॉक्‍टर से परामर्श करें। अक्सर थायरॉयड के मरीजों को जल्दी थकान महसूस होने लगती है। इसका दूसरा बड़ा कारण नींद की कमी और डायबिटीज भी हो सकता है।

हाई ब्लड प्रेशर
high blood pressure inside

ज्यादा मोटापा और गर्भनिरोधक गोलियां या हार्मोन थेरेपी से महिलाओं का ब्लड प्रेशर हाई हो जाता है। कुछ डाइट पिल्‍स और एंटी-डिप्रेंटेंट्स से भी यह समस्‍या हो सकती है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, जिन महिलाओं में हाई ब्लड प्रेशर की समस्या रहती है उनको प्रेग्नेंसी के दौरान कई मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। बता दें, 30 की उम्र के बाद तनाव और ज्यादा नमक के सेवन से भी ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है। अगर हाई ब्लड प्रेशर पर ध्‍यान नहीं दिया गया तो किडनी संबंधी समस्याएं होने की संभावना बेहद ज्यादा होती है।
इसलिए 30 की उम्र के बाद अपना समय-समय पर चेकअप कराते रहना बेहतर होता है।

Recommended Video