पीरियड्स की तरह, वेजाइनल हाइजीन भारत में एक वर्जित विषय है। आज भी, कई महिलाएं फेमिनिन हाइजीन को बनाए रखने के बारे में बात करने या शेयर करने से बचती हैं। अपने जेनिटल्‍स को साफ रखने और रिप्रोडक्टिव ट्रैक्ट को हेल्‍दी रखने के लिए वेजाइनल हाइजीन के बारे में जानना महत्वपूर्ण है। Cocoon फर्टिलिटी की आईवीएफ कंसलटेंट और इंडोस्कोपिक सर्जन Dr. Rajalaxmi Walavalkar का कहना हैं, ''चाहे आपकी उम्र कोई भी हो, वेजाइना हाइजीन के कुछ बुनियादी टिप्‍स हैं जिनके बारे में हर महिला को पता होना चाहिए। 

जी हां पीरियड्स की तरह, वेजाइना हेल्‍थ के बारे में शायद ही कभी बात की जाती है। प्‍यूबिक बालों को हटाने से लेकर जलन से बचने के लिए सही अंडरगारमेंट्स चुनने तक, डॉक्टर ने महिलाओं की वेजाइनल हाइजीन बनाए रखने और हेल्‍दी रहने के टिप्‍स हमारे साथ शेयर किए हैं। लेकिन सबसे पहले हम यह जान लेते हैं कि इंटीमेट हाइजीन क्‍या होता है?

इंटीमेट हाइजीन क्‍या होती है?

हाइजीन मतलब चीजों को साफ-सुथरा रखना अैर इंटीमेट मतलब अपने प्राइवेट पार्ट को साफ रखना। प्राइवेट पार्ट्स में वेजाइना और वल्‍वा शामिल है और इनको साफ रखने से इंफेक्‍शन का खतरा कम होता है। इंफेक्‍शन की वजह से वेजाइना से जुड़ी समस्‍याओं जैसे डिस्‍चार्ज होना, स्‍मैल आना, पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज आदि का खतरा बढ़ जाता है। साथ ही कई महिलाओं में इनफर्टिलिटी की समस्‍या भी हो सकती है। इसलिए इंटीमेट हाइजीन को मेंटेन करके रखना बेहद जरूरी है और इस बारे में हर महिला को जानकारी होनी चाहिए। 

vaginal hygiene tips  inside

अगर डिस्‍चार्ज क्लियर और व्‍हाइट है तो कोई परेशानी की बात नहीं है। इस तरह का डिस्‍चार्ज जरूरी होता है क्‍योंकि यह वेजाइना को ड्राई नहीं होने देता है, लुब्रिकेंट की तरह काम करता है और पूरे पार्ट को हेल्‍दी रखता है। लेकिन अगर डिस्‍चार्ज का कलर बदल जाए या बदबू आने लगे तो डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए, क्‍योंकि यह इंफेक्‍शन के खतरे को बढ़ाता है।

इंटीमेट हाइजीन कब से शुरू करनी चाहिए?

इंटीमेंट हाइजीन की आदत लड़कियों में बचपन से ही होनी चाहिए। हालांकि छोटी लड़कियों को पीरियड्स नहीं होते हैं लेकिन फिर भी हाइजीन मेंटेन करना जरूरी है। उदाहरण के लिए, मान लो कोई वॉशरूम जाता है तो उसे आगे से पीछे की ओर साफ करना चाहिए। ऐसा नहीं करने से पीछे की बैक्‍टीरिया आगे आ जाते हैं और यूरिन इंफेक्‍शन का कारण बनते हैं और वेजाइना और वल्‍वा का इंफेक्‍शन बढ़ जाता है। 

इसे जरूर पढ़ें:हर महिला को वेजाइना की सफाई के दौरान ये 5 बातें ध्‍यान रखनी चाहिए

वेजाइना क्‍लीनिंग के लिए साबुन के इस्‍तेमाल से बचें  

soap inside

वेजाइना को साफ करने के लिए कठोर या सुगंधित साबुन का उपयोग करने से बचें। ग्लिसरॉल, परफ्यूम और एंटीसेप्टिक्स जैसे हानिकारक केमिकल्‍स से भरे साबुन का उपयोग वेजाइना में बैक्टीरिया के हेल्दी संतुलन को प्रभावित करता है। इसके अलावा, यह पीएच में भी बदलाव कर सकता है जो जलन पैदा करता है और अनहेल्‍दी बैक्टीरिया की ग्रोथ का कारण बन सकता है। आपके शरीर के बाकी हिस्सों के विपरीत, आपके वेजाइना में एक अतिरिक्त सुरक्षात्मक परत नहीं होती है - जिसका अर्थ है कि साबुन और अन्य केमिकल्‍स बेहद ड्राईनेस और परेशानी पैदा कर सकते हैं। इसकी बजाय सादे पानी का इस्‍तेमाल करें। आप चाहें तो वेजाइनल वॉश का इस्तेमाल कर सकती हैं लेकिन हर बार इसका इस्तेमाल न करें, इसे दिन में एक बार इस्तेमाल करें और अपनी वेजाइना को हमेशा टिश्यू या टॉवल से सुखाएं।

अंडरगारमेंट्स को ड्राई रखें

यूरिन करने के बाद वेजाइना को न पोंछने से पैंटी गीली हो सकती है, जिससे न केवल दुर्गंध आ सकती है, बल्कि आपको वेजाइना में इंफेक्‍शन का खतरा भी हो सकता है। इसलिए, हमेशा टॉयलेट पेपर या मुलायम कपड़े से इस हिस्‍से को पोंछने की सलाह दी जाती है, ताकि आपका अंडरवियर हमेशा सूखा रहे। वेजाइनल फ्लूएड या डिस्चार्ज एक हेल्‍दी वेजाइना वातावरण का हिस्सा है। टैल्कम पाउडर जैसे प्रोडट्स का इस्‍तेमाल या वेजाइना को अत्यधिक पोंछने से यह बहुत ड्राई हो सकता है जिससे खुजली और वेजाइना में ड्राईनेस होती है।

प्‍यूबिक हेयर को शेव करने से बचें

pubic shaving inside

कुछ महिलाएं प्यूबिक हेयर को शेव करना पसंद करती हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि प्यूबिक हेयर गंदे दिखाई देते हैं। इसके लिए महिला ब्‍लेंड से शेविंग करना पसंद करती हैं लेकिन इससे वेजाइना की त्‍वचा में छोटे-छोट स्‍क्रैच आते हैं जो हमें दिखाई नहीं देते हैं। इन स्‍क्रैचेस में इंफेक्‍शन का खतरा हो सकता है। प्रेग्‍नेंसी के दौरान भी आपको शेविंग करने से बचना चाहिए, क्‍योंकि इस समय इम्‍यूनिटी कमजोर होने के कारण इंफेक्‍शन का खतरा ज्‍यादा रहता है। अपनी वेजाइना को साफ रखने का सबसे अच्छा तरीका समय-समय पर इसे ट्रिम करना है। शेविंग की बजाय, कैंची से हटाना एक बेहतर विकल्प हो सकता है। शेविंग नुकसान पहुंचा सकती है, त्वचा में जलन पैदा करती है और गलत कट का कारण बनती है। ट्रिमिंग के अनुभव को एक आसान बनाने के लिए, इसे काटने से पहले बालों को सीधा करने के लिए बेबी पाउडर या जैतून के तेल का उपयोग करें। आप चाहें तो वैक्सिंग भी करा सकती हैं लेकिन इसमें दर्द थोड़ा ज्‍यादा होता है।

वेजाइना में पीएच संतुलन बनाए रखें

कई महिलाओं को लगता है कि नीचे के एरिया को साफ रखने के लिए इसकी अच्‍छी तरह से सफाई करनी होगी। लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि आपकी वेजाइना का एक निश्चित पीएच लेवल होता है और इसके साथ खिलवाड़ करने से इंफेक्‍शन हो सकता है जो न केवल असुविधाजनक है, बल्कि बदबू के कारण यह शर्मनाक भी है। इस नाजुक पीएच वेजाइना संतुलन की रक्षा करना, तब तक आसान है जब तक आप कुछ सावधानियां बरतती हैं जैसे कि अपने अंडरगारमेंट्स के लिए नाजुक डिटर्जेंट का इस्तेमाल करना और वहां की सफाई के लिए बिना खुशबू वाले या मेडिकेटेड साबुन का इस्तेमाल करना।

 

Recommended Video

हमेशा कॉटन के अंडरवियर चुनें

cotton underwear inside

जब अंडरवियर के चयन की बात आती है, तब आपको हमेशा कॉटन को प्राथमिकता देने चाहिए। कॉटन हवा को नमी को अवशोषित करने देता है, जबकि सिंथेटिक कपड़े पहनने से पसीना ज्‍यादा आता है और इस हिस्‍से के गीला रहने के कारण आपको समस्‍या हो सकती है। इसके साथ ही आपको ज्‍यादा टाइट अंडरवियर पहनने से बचना चाहिए। ऐसा करने से फ्रिक्शन की वजह से वेजाइना वाले एरिया में दुखन और समस्‍या हो सकती है। जी हां सिल्‍की और सिंथेटिक कपड़े से बने टाइट पैंटीज दिखने में अच्छी लगती हैं, लेकिन वह बहुत सहज नहीं हैं। वह हवा को प्रसारित होने से रोकती हैं जिससे पसीने और नमी की समस्‍या होती हैं, जो हानिकारक बैक्टीरिया के लिए प्रजनन क्षेत्र बनाती है।

इसे जरूर पढ़ें:वे‍जाइनल यीस्‍ट इंफेक्‍शन से अक्‍सर रहती हैं परेशान तो इस 1 उपाय से मिलेगा समाधान

पैड्स को हर थोड़ी देर के बाद बदलना है जरूरी

पीरियड्स के दिनों में कुछ महिलाएं लंबे समय तक पैड्स का इस्‍तेमाल करती हैं लेकिन ऐसे करने से बचना चाहिए क्‍योंकि इससे इंफेक्‍शन का खतरा बहुत ज्‍यादा बढ़ जाता है। इसलिए हर 3 से 4 घंटे के बाद पैड को बदलना चाहिए। साथ ही पीरियड्स के दिनों में कुछ महिलाएं टैम्‍पून का इस्‍तेमाल करती हैं। ब्‍लड को बाहर लीक होने से बचाने के लिए टैम्‍पून को वेजाइना के अंदर डाला जाता है। इससे कपड़े खराब नहीं होते हैं। इसे भी हर 3 घंटे में इसे बदलना चाहिए। पीरियड्स के दौरान भी अपनी वेजाइना को अच्‍छी तरह से कॉटन से साफ करके ही नया पैड इस्‍तेमाल करें।

इन टिप्‍स को अपनाकर आप भी इंटीमेट हाइजीन का ध्‍यान रख सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।