महिला की फर्टिलिटी का मतलब गर्भ धारण करने की उसकी योग्यता और सफल प्रसव है। यह मुख्य रूप से आयु से प्रभावित होता है और यह प्रेग्‍नेंसी की सफलता की दर निर्धारित करने के अहम कारणों में से एक है।

हालांकि, नियमित असुरक्षित सेक्‍सुशल रिलेशनशीप बनाने के बावजूद 12 महीने या ज्यादा समय तक गर्भधारण करने में नाकाम रहना महिला के गर्भधारण करने में अक्षम होने का संकेत हो सकता है। गर्भधारण नहीं कर पाना एक समस्‍या है और यह पुरुष व महिला दोनों के कारण हो सकती है और यह समस्‍या दोनों को प्रभावित कर सकती है।

दुनिया भर में फर्टिलिटी उम्र के लाखों लोग इस समस्‍या के शिकार हैं। महिला की फर्टिलिटी व्यवस्था में गर्भधारण नहीं करने के कई कारण हो सकते हैं और यह गर्भाशय, ओवरी, फैलोपियन ट्यूब तथा एंडोक्राइन सिस्टम में हो सकता है। आयु, शारीरिक या हार्मोनल प्रॉब्‍लम्‍स, जीवनशैली या पर्यावरण से संबंधित कारण, यह और भी कारण हैं जिनकी वजह से महिलाएं गर्भधारण नहीं कर पाती हैं। महिला की फर्टिलिटी को कौन से जोखिम कारक प्रभावित कर सकते हैं आइए इस बारे में बिर्ला फर्टिलिटी तथा आईवीएफ की कंसल्टेंट डॉ प्राची बिनारा जी बता रही हैं।

चेतावनी संकेत

  • हैवी या हल्की ब्‍लीडिंग के साथ असामान्य पीरियड्स
  • तकलीफदेह  पीरियड्स
  • शरीर में हार्मोन का परिवर्तन, चेहरे के बाल, मुंहासे, त्वचा पर गहरे रंग के पैच
  • अनियमित पीरियड जिसमें हर बार दिनों की संख्या बदलती है
  • सेक्‍सुशल रिलेशनशीप के दौरान दर्द
  • पीरियड्स नहीं होते हैं या अचानक बंद हो जाते हैं
  • वजन बढ़ना
  • बालों का झड़ना जिसका अंत कभी-कभी गंजापन हो सकता है
Risk Factors for fertility

जोखिम घटक

महिलाओं की फर्टिलिटी कई तरह के जोखिम घटकों से घिरी हुई है। आयु और देर से गर्भधारण करने की कोशिश इसके प्राथमिक कारणों में से एक हैं। इसकी वजह यह है कि आयु के साथ अंडों की मात्रा और गुणवत्ता कम हो जाती है। इससे गर्भधारण करना मुश्किल हो जाता है। महिला की फर्टिलिटी का जोखिम अलग महिलाओं में अलग हो सकता है। इनमें कुछ शेयर जोखिम घटक हैं :

इसे जरूर पढ़ें:महिलाओं में फर्टिलिटी को तेजी से बढ़ाती हैं ये 5 चीजे

  • ओव्यूलेशन की गड़बड़ी - इसका संदर्भ ओव्यूलेशन चक्र की समस्या से है और यह ओवरी से अंडे निकलने को प्रभावित करता है
  • हार्मोन संबंधी गड़बड़ी - कुछ सबसे आम गड़बड़ियां हैं - पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस),
  • हाइपरप्रोलैक्टिनेमिया और थायराइड की समस्याएं
  • सर्वाइकल और गर्भाशय की मुश्किलें - इसमें गर्भाशय में पॉलिप्स या फिब्रायड (मांस बढ़ जाना) शामिल है।
  • फैलोपियन ट्यूब का डैमेज होना या उसमें रुकावट - यह अक्सर पेल्विक इंफ्लेमेटरी बीमारी का परिणाम होता है।
  • एंडोमेट्रियोसिस- ऐसा तब होता है, जब यूट्रस के भीतरी टिशू बाहर की ओर परत बनाने लगते हैं।
  • ओवरी की प्राथमिक अपर्याप्तता - यह असामान्यता आमतौर पर तब होती है जब ओवरी काम करना बंद कर देता है और मासिक 40 वर्ष की आयु से पहले समाप्त हो जाता है
  • पेल्विक ऐडहेसंस (आसंजन) - यह डरे हुए टिशूओं के बैंड से संबंधित है, जो अंगों को बांधना शुरू करते हैं। यह आमतौर पर ऐपेंडिसाइटिस, पेट या पेल्विक की सर्जरी के बाद और यहां तक कि पेल्विक संक्रमण के कारण भी होता है।
  • डायबिटीज- खराब नियंत्रण वाला डायबिटीज महिला की फर्टिलिटी को भी प्रभावित कर सकता है।
  • हाइपरटेंशन (हाई ब्‍लड प्रेशर) -क्रोनिक हाइपरटेंशन से अंडे की गुणवत्ता खराब हो सकती है और यहां तक कि महिलाओं में मोटापा भी हो सकता है।
  • कुछ अन्य जोखिम कारक जो महिला फर्टिलिटी को प्रभावित कर सकते हैं, उनमें सीलिएक रोग और ल्यूपस जैसे कुछ ऑटोइम्यून डिजीज भी शामिल है।
  • पर्यावरण प्रदूषक और विषाक्त पदार्थ जैसे कीटनाशक, ड्राई क्लिनिंग के घोल और लेड फर्टिलिटी पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकते हैं।
Infertility Risk Factors

मैनेजमेंट

  • जीवनशैली की पसंद महिला के गर्भधारण के प्रबंध को सीधे प्रभावित कर सकती है। ऐसा करने के कई तरीके हैं:
  • अगर आपका वजन स्वस्थ व्यक्ति की तरह बना रहे तो एक सामान्य ओव्यूलेशन चक्र को बढ़ावा देने में मदद मिल सकती है
  • सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज (एसटीडी) को रोकना।
  • तनाव के लेवल को ठीक रखने से हाई ब्‍लडप्रेशर की आशंका कम हो सकती है।
  • लगातार रात की शिफ्ट में काम करने से इनफर्टिलिटी का आपका जोखिम बढ़ सकता है। इसलिए, हर किसी को पर्याप्त नींद लेने की कोशिश करनी चाहिए।
  • स्‍मोकिंग से बचें क्योंकि तंबाकू का संबंध कम फर्टिलिटी से है।
  • अल्‍कोहल के सेवन को सीमित करने से ओव्यूलेशन विकारों को रोकने में मदद मिल सकती है।
  • कैफीन की खपत को सीमित करें। 
  • एक्सरसाइज करना महत्वपूर्ण है लेकिन यह ध्यान में रखा जाना चाहिए कि अधिक परिश्रम ओवरी को रोक सकता है और हार्मोन प्रोजेस्टेरोन का उत्पादन कम हो सकता है।

Recommended Video

अगर आपको लगता है कि गर्भधारण में समस्या है या इससे संबंधित कोई लक्षण आप में है तो स्वस्थ जीवनशैली के बावजूद आपको किसी स्त्रीरोग विशेषज्ञ से सलाह करना चाहिए। दवाइयां खाना तो महत्वपूर्ण है ही इस बात को भी याद रखा जाना चाहिए कि इससे संबंधित किसी भी लक्षण को नजरअंदाज करने से स्थिति और खराब हो सकती है। 

इसे जरूर पढ़ें:जल्‍दी कंसीव करने के लिए अपनी डाइट में जरूर शामिल करें ये 5 फूड्स

महिला अगर इनफर्टिलिटी की शिकार हो तब भी भारत में भिन्न उपाय और उपचार हैं जो किसी महिला को गर्भधारण करने में सहायता कर सकते हैं। इनमें आईवीएफ, आईयूआई, एग्ग डोनेशन, जीआईएफटी, जेडआईएफटी, हिस्टेरोस्कोपी, इंट्रासिप्टोप्लासमिक स्पर्म इंजेक्शन और एग्ग फ्रीजिंग शामिल हैं। 

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Shutterstock.com