प्रेग्‍नेंसी का समय एक महिला के जीवन में सबसे चुनौतीपूर्ण, लेकिन खूबसूरत चरणों में से एक हो सकता है। प्रेग्‍नेंसी के दौरान और डिलीवरी के बाद अपनी केयर कैसे करनी चाहिए? इस बारे में हर महिला के मन में सवाल होना स्वाभाविक है। हालांकि, पीढ़ियों से चली आ रही पारिवारिक सलाह और इंटरनेट पर ढेर सारा डेटा उपलब्ध है। लेकिन इनके चलते यह महत्वपूर्ण हो जाता है कि आप जो जानकारी प्राप्त करते हैं उसे हमेशा चेक करें। 

अगर आपके मन भी भी प्रीनेटल और पोस्‍टपार्टम केयर से जुड़े कुछ सवाल हैं, तो सेलिब्रिटी फिटनेस इंस्ट्रक्टर यास्मीन कराचीवाला प्रेग्‍नेंसी केयर के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले कुछ सवालों का जवाब गायनोकोलॉजिस्ट डॉ रंजना धनु के साथ इंस्‍टाग्राम के माध्‍यम से दिया है। 

वीडियो को शेयर करते हुए यास्मीन कराचीवाला ने कैप्‍शन में लिखा, "प्रेग्‍नेंसी केयर में होने वाली माताओं के लिए प्रीनेटल (जन्म से पहले) और पोस्‍टपार्टम (जन्म के बाद) स्वास्थ्य देखभाल शामिल है। आज हम डॉक्‍टर रंजना धनु के साथ बातचीत कर रहे हैं, जो आपको प्रेग्‍नेंसी से संबंधित कुछ समस्‍याओं का जवाब देने जा रही हैं।'' आइए प्रेग्‍नेंसी के बारे में 6 सामान्य सवालों और इसके जवाब के बारे में जानें।

1. प्रेग्‍नेंट होने की सही उम्र क्या है?

prenatal  care

यास्मीन कराचीवाला ने डॉक्‍टर से सवाल किया- दशकों से, महिलाओं को 30 साल की उम्र से पहले बच्चे पैदा करने के लिए कहा जाता था, लेकिन कई अब इस उम्र के बाद भी प्रेग्‍नेंसी का विकल्प चुन रही थीं। 

इसका जवाब देते हुए, डॉ धनु ने कहा, "चूंकि महिलाएं सीमित संख्या में एग्‍स के साथ पैदा होती हैं, इसलिए उन्हें 35 से पहले प्रेग्‍नेंसी की प्‍ल‍ानिंग बनाने की आवश्यकता होती है। 30 साल की उम्र के बाद सब-फर्टिलिटी सेट होने लगती है और हम एएमएच की जांच करते हैं।" 

आगे उन्‍होंने कहा, ''एंटी-मुलरियन हार्मोन (एएमएच) एक हार्मोन है जो फर्टिलिटी के लेवल को दर्शाता है और एएमएच में कमी के साथ अक्सर एग्‍स को फ्रीज करने की सिफारिश की जाती है। एग्‍स को फ्रीज करना खतरनाक नहीं है और इससे महिलाओं को लेट प्रेग्‍नेंसी में मदद मिल सकती है।'' 

इसे जरूर पढ़े:प्रेग्नेंसी में खूबसूरती कायम रखने के लिए फॉलो करें ये 10 ब्यूटी टिप्स

2. क्या प्रेग्‍नेंसी से पहले की जांच जरूरी है?

डॉक्‍टर धनु ने कहा, "निश्चित रूप से, यह समझाते हुए कि प्रेग्‍नेंसी से पहले की जांच में ब्‍लड टेस्‍ट, रेगुलर सोनोग्राफी, डायबिटीज की जांच, थायरॉयड आदि शामिल हो सकते हैं। इसमें फाइब्रॉएड या एंडोमेट्रियोसिस के लिए पिछली सर्जरी के इतिहास की जांच भी शामिल है क्योंकि यह महिला को हाई जोखिम वाली श्रेणी में रखता है।'' वैवाहिक इतिहास का भी विश्लेषण किया जाता है ताकि किसी भी गुणसूत्र संबंधी दोष का पता लगाया जा सके।

3. क्या प्रेग्‍नेंसी के दौरान एक्‍सरसाइज करना सुरक्षित है?

prenatal exercise

डॉक्‍टर धनु ने कहा, "प्रेग्‍नेंसी कोई बीमारी नहीं है। ज्यादातर महिलाएं प्रेग्‍नेंसी के दौरान वर्कआउटकर सकती हैं। 12वें हफ्ते के बाद देखरेख में वर्कआउट काफी अच्छा होता है। केवल, जो हाई जोखिम वाली श्रेणी में आते हैं, जैसे कि हार्ट संबंधी समस्याएं, सर्जरी और मिसकैरेज का इतिहास, उन्हें तेज वर्कआउट से दूर रहने की आवश्यकता होती है।''

4. पोस्‍टपार्टम केयर डिप्रेशन क्या है?

डॉक्‍टर धनु ने कहा, पोस्‍टपार्टम हार्मोन की अचानक वापसी, दूध हार्मोन की उपस्थिति के साथ-साथ नींद की कमी जैसे कारक पोस्‍टपार्टम डिप्रेशन का कारण बन सकते हैं। इस दौरान आपको रोने का मन करता है और महिलाओं को लगता है कि वह बच्‍चे की अच्‍छी तरह से देखभाल नहीं कर पाएंगी। इसके लिए कुछ प्रकार के परामर्श की आवश्यकता है और कुछ डाइट इसमें मदद कर सकती है।'' बच्‍चे के साथ-साथ मां को भी अटेन्शन देना चाहिए। 

Recommended Video

5. पोस्‍टपार्टम के बाद कितनी जल्दी एक्‍सरसाइज शुरू कर सकते हैं?

postpartum care

डॉक्‍टर धनु के अनुसार, ''नेचुरल प्रेग्‍नेंसी और सी-सेक्शन दोनों के लिए, छह सप्ताह का हीलिंग पीरियड होता है, जिसके बाद व्यक्ति को एक्‍सरसाइज करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। अन्यथा प्रेग्‍नेंसी के बाद बहुत ज्‍यादा वजन बढ़ेगा और इसे खोना बहुत मुश्किल हो सकता है।'' महिलाओं को धीरे-धीरे शुरुआत करनी चाहिए और पहले अपने डॉक्टर से जांच करानी चाहिए।

इसे जरूर पढ़े: प्रेग्नेंसी में हमेशा रहेंगी एक्टिव और एनर्जेटिक, बस अपनी डाइट में शामिल करें ये चीजें

6. क्या आदतें प्रेग्‍नेंसी को प्रभावित करती हैं?

डॉक्‍टर धनु ने कहा, ''स्‍मोकिंग, मादक द्रव्य और अल्‍कोहल का सेवन बच्चे के विकास को प्रभावित कर सकता है। अपने शरीर को साफ करना महत्वपूर्ण है। यदि आप सेमी-क्‍लीनड तरीके से प्रेग्‍नेंट होती हैं तो यह बच्चे के इंट्रा-यूटेरिन विकास, प्लेसेंटेशन या विकास मंदता को प्रभावित कर सकता है।'' वह प्रेग्‍नेंसी  से कम से कम तीन महीने पहले आपके शरीर को साफ करने की सलाह देती है।

मां और बच्चे के स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए प्रेग्‍नेंसी की हर स्‍टेप में डॉक्टर की सलाह का फॉलो करने की हमेशा सलाह दी जाती है। इस तरह की और जानकारी पाने के हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Article & Image Credit: Instagram.com (Yasmin Karachiwala)