• + Install App
  • ENG
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

बढ़ रहा है ओवेरियन कैंसर: लक्षण, बचाव और सही इलाज जानिए

ओ‍वेरियन कैंसर का खतरा बहुत ज्‍यादा बढ़ गया है। आइए इसके लक्षण और बचाव के साथ सही इलाज के बारे में जानें। 
Published -21 Jun 2022, 14:21 ISTUpdated -21 Jun 2022, 15:32 IST
author-profile
  • Pooja Sinha
  • Editorial
  • Published -21 Jun 2022, 14:21 ISTUpdated -21 Jun 2022, 15:32 IST
Next
Article
ovarian cancer expert

ओवेरियन कैंसर को भारतीय महिलाओं में तीसरा और कुल मिलाकर आठवां सबसे आम कैंसर होने का अनुमान लगाया गया था। भारत में, यह महिलाओं में होने वाले सभी कैंसर का लगभग 14% हिस्सा है, जो इसे भारतीय महिलाओं में कैंसर से होने वाली मृत्यु का एक प्रमुख कारण बनाता है।

बढ़ती उम्र, कैंसर का पारिवारिक इतिहास (ओवेरियन का कैंसर, ब्रेस्‍ट कैंसर, या कोलोरेक्टल कैंसर), विरासत में मिले जीन (BRCA1 और BRCA2, लिंच सिंड्रोम और जीन BRIP1, RAD51C और RAD51D) से जुड़े अन्य जीन परिवर्तन और हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी का उपयोग ओवेरियन कैंसर का खतरा बढ़ा सकते हैं। इसके अलावा, अधिक वजन या मोटे होने से ओवेरियन के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।

महिलाओं में मोटापा बढ़ रहा है, जो ओवेरियन कैंसर के जोखिम कारक के रूप में योगदान दे सकता है। इसके अलावा, हाई बीएमआई लेवल ब्रेस्‍ट और यूट्रस की विकृतियों से प्रभावित महिलाओं की संख्या में काफी वृद्धि से जुड़ा हुआ है।

अध्ययन से पता चलता है कि 2035 (55%) तक ओवेरियन कार्सिनोमा की घटना बढ़कर 371 हजार प्रति वर्ष होने का अनुमान है, जबकि मृत्यु दर 67% से बढ़कर 254 हजार हो गई है। इसलिए महिलाओं को इसके बारे में जानकारी होनी चाहिए। इसलिए आज हम आपको ओवेरियन कैंसर के लक्षण, बचाव और सही इलाज के बारे में बता रहे हैं और साथ ही एक महिला के पर्सनल एक्सपीरियंस के बारे में भी बताएंगे। इसकी जानकारी हमें अपोलो कैंसर सेंटर, बैंगलोर की वरिष्ठ सलाहकार, गायनी-ऑनोकोलॉजिस्ट, रोबोटिक सर्जन, डॉ रानी भट जी दे रही हैं।

ovarian cancer causes

लक्षण जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए

ओवेरियन कैंसर को मूक हत्यारा कहा गया है क्योंकि इसके मुख्य लक्षणों को अक्सर अन्य सौम्य स्थितियों, विशेष रूप से पेट की सूजन और खाने की कठिनाई जैसी दिखाई देते हैं। कभी-कभी जब वे एडवांस अवस्था में होते हैं तब वजन का बहुत ज्‍यादा कम, पेल्विक असुविधा, पीठ दर्द, बाउल की आदतों में परिवर्तन और बार-बार यूरिन जैसी समस्‍याएं देखने को मिलती है। यदि ये लक्षण दो हफ्ते से अधिक समय तक बने रहते हैं तो आपको अधिक गहन जांच के लिए अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए।

इसे जरूर पढ़ें:  इन 5 आम लक्षणों को इग्‍नोर किया तो हो सकता है ओवेरियन कैंसर

निवारण

कैंसर को हराने की कुंजी स्क्रीनिंग और शुरुआती पहचान है, क्योंकि इससे अधिकांश मामलों में आपके बचने की संभावना बढ़ जाती है। ओवेरियन कैंसर को रोकने के लिए कोई स्क्रीनिंग टेस्ट नहीं है। लेकिन आपके जोखिम को कम करने के तरीके हो सकते हैं जैसे गर्भनिरोधक गोलियां लेने पर विचार करें। शोधों में यह दिखाया गया है कि गर्भनिरोधक गोलियां (ओसीपी) लेने से ओवेरियन के कैंसर का खतरा कम हो जाता है। 

ovarian cancer treatment

लेकिन, याद रखें कि डॉक्टर की देखरेख में इन दवाओं के नहीं लेने पर जोखिम होते हैं, इसलिए चर्चा करें कि क्या लाभ आपकी स्थिति के आधार पर उन जोखिमों से अधिक हैं। अपने चिकित्सक से चर्चा करें यदि आपके पास ब्रेस्‍ट और ओवेरियन कैंसर का पारिवारिक इतिहास है। आपको एक आनुवंशिक परामर्शदाता को देखने की सलाह दी जा सकती है जो आपका मार्गदर्शन कर सकता है कि क्या आनुवंशिक परीक्षण आपके लिए सही हो सकता है। 

यदि आपमें जीन परिवर्तन पाया जाता है तो यह ओवेरियन कैंसर के खतरे को बढ़ाता है। ऐसे में कैंसर को रोकने के लिए अपने अंडाशय को हटाने के लिए सर्जरी पर विचार कर सकती हैं।

महिलाओं में कैंसर का सबसे सफल इलाज विकल्प

निवारक स्वास्थ्य देखभाल और चिकित्सा विज्ञान में प्रगति के बावजूद महिलाओं में कैंसर बढ़ रहा है। हालांकि, रोबोटिक असिस्टेड सर्जरी की शुरुआत के साथ, अब महिलाओं के लिए कैंसर के खिलाफ लड़ाई में आशावादी कहानियां जुड़ी हैं। भारत में स्त्री रोग संबंधी ऑन्कोलॉजिस्ट महिलाओं में सभी प्रकार के घातक ट्यूमर के इलाज के लिए इस सर्जिकल तकनीक को तेजी से अपना रहे हैं।

जानिए सुनीता के केस (बदला हुआ नाम) के बारे में खोज से लेकर इलाज और नतीजे:

ovarian cancer surgery

किसी भी प्रकार का कैंसर भय पैदा कर सकता है और यह 63 वर्षीय रोगी के लिए आसान नहीं था, जिसे हाई बीएमआई के साथ डायबिटीज, हाई ब्‍लड प्रेशर था और उन्‍हें कीमोथेरेपी के तीन चक्रों से गुजरना पड़ा था। इस महिला को पैनिकुलस मोरबिडस, ग्रेड 4 (त्वचा और कोमल ऊतकों के बड़े पैमाने पर पेट के एप्रन की विशेषता वाली स्थिति थी जो आमतौर पर बड़े पैमाने पर वजन घटाने के बाद रुग्ण मोटे रोगियों में पाई जाती है) था। मिडलाइन कट के साथ उनकी एक ओपन सर्जरी करने से पेट पर एक लंबा कट लगना था जिससे ऑपरेशन के बाद बहुत ज्‍यादा मॉर्बिडिटी हो जाती है।

Recommended Video

 

मामले पर चर्चा करने के बाद एक कम्प्‍लीट साइटेडेक्टिव सर्जरी पाने के लिए, पेल्विक के लिए रोबोटिक असिस्‍टेड सर्जरी और ऊपरी पेट की बीमारी के लिए एक छोटी सी खुली सर्जरी का कॉम्बिनेशन रोगी के लिए सबसे अच्छा विकल्प था। दा विंची सर्जिकल सिस्टम का उपयोग करके प्रभावित क्षेत्र को पूरी तरह से हटा दिया गया था, जो रोबोटिक असिस्‍टेड सर्जरी के लिए सबसे सफल तकनीक है। इस कंबाइन अप्रोच के साथ मरीज को बस एक छोटा सा कट लगा जिससे उसे जल्दी ठीक होने में मदद मिली और अगले दिन उसे छुट्टी दे दी गई।

इसे जरूर पढ़ें:ओवेरियन कैंसर के इन संकेतों को नहीं करना चाहिए नजरअंदाज

यह एक सर्जन के कई उदाहरणों में से एक है जिसने आधुनिक तकनीक को अपनाया है, विशेष रूप से रोबोटिक असिस्‍टेड सर्जरी का उपयोग। लोकप्रिय राय के विपरीत, सर्जन रोबोट को सर्जरी करने के लिए एक उपकरण के रूप में नियोजित करता है, न कि एक स्वचालित प्रक्रिया के रूप में। रोबोटिक सर्जरी का लाभ यह है कि इसमें पारंपरिक या ओपन सर्जरी की तुलना में तेजी से ठीक होने में समय लगता है। चूंकि ऑन्कोलॉजिकल प्रक्रियाएं नियमित स्त्री रोग संबंधी सर्जरी की तुलना में अधिक जटिल होती हैं, रोबोट तकनीक, अपनी एडवांस दृष्टि और सटीक उपकरणों के साथ, सर्जन को न्यूनतम टिशू डैमेज के साथ परिष्कृत सर्जरी करने में सहायता करती है। रोबोटिक सर्जरी के बाद मरीजों को अस्पताल में कम रहने, कम थकान और तेजी से ठीक होने में मदद करती है।

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। योग से जुड़ी ऐसी ही और जानकारी के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik 
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।