कैंसर विश्व स्तर पर सबसे घातक बीमारियों में से एक है। तकनीक के इतना एडवांस होने के बावजूद हम हमेशा कैंसर से नहीं जूझ पाते है। कैंसर न केवल शारीरिक रूप से परेशान करता है, बल्कि यह हमें भावनात्मक और मानसिक रूप से भी प्रभावित करता है। क्‍योंकि लोग इसके नाम से ही डरने लगते हैं। जब महिलाओं की बात आती है, तो सबसे आम प्रकार के कैंसर में से ब्रेस्‍ट कैंसर के बाद ओवेरियन कैंसर का नाम आता है जो महिलाओं को सबसे ज्‍यादा प्रभावित करता है। और इस कैंसर की सबसे बुरी बात यह है कि इस कैंसर के कोई विशिष्‍ट लक्षण नहीं होते हैं। इस कैंसर के होने की जानकारी तब लगती है जब यह अन्‍य अंगों तक फैल जाता है। 

नोएडा स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ कैंसर प्रिवेंशन एंड रिसर्च द्वारा जारी किए गए आंकड़ों ने महिलाओं में बढ़ते कैंसर की समस्या पर कुछ प्रकाश डाला, क्‍योंकि अगर इस पर ध्‍यान नहीं दिया गया तो एक महामारी में बदलने की धमकी देता है। भारत में हर आठ मिनट में एक महिला की सर्वाइकल कैंसर से मौत हो जाती है। कैंसर जागरूकता, रोकथाम और प्रारंभिक जांच (सीएपीईडी) में मुख्य संचालन अधिकारी मृदु गुप्ता, कैंसर जागरूकता के लिए काम कर रहे एक गैर सरकारी संगठन का कहना है कि ''हालांकि ब्रेस्‍ट कैंसर के लिए जागरूकता बढ़ाने के अभियान मौजूद है, लेकिन आज भी सर्वाइकल और ओवेरियन कैंसर कलंक में घिरा हुआ है। भारत में सर्वाइकल कैंसर बहुत तेजी से फैलने होने के बावजूद, इसके बारे में बहुत कम ध्‍यान दिया जाता है। इसके बारे में बात नहीं की जाती है और महिलाओं  इसके बारें में बहुत कम जानकारी है। जबकि कैंसर से बचाव के लिए जागरूकता ही कुंजी है। महिलाओं को शिक्षित करने की जरूरत है।''   

इसलिए, महिलाओं को इससे बचाने का सबसे अच्छा तरीका है कि उन्हें उन विभिन्न संकेतों से अवगत कराया जाए जो इस भयावह बीमारी का कारण बन सकते हैं। अगर आपको इसकी आवश्यकता नहीं है, तब भी आपको इन संकेतों के बारे में पता होना चाहिए। ये संकेत आपको समझने में मदद करेंगे कि आपको ओवेरियन कैंसर है या नहीं।

इसे भी पढ़ें: हर महिला के लिए सर्वाइकल कैंसर वैक्‍सीन क्‍यों और कब लगवाना है जरूरी, एक्‍सपर्ट से जानें?

कमर के निचले हिस्‍से में दर्द

ovarian cancer  symptoms inside

पीठ के निचले हिस्से में दर्द ओवेरियन कैंसर का एक बहुत ही सामान्‍य लक्षण है। लेकिन अगर दर्द बहुत अधिक पेल्विक एरिया में पहुंचाता है, तो आपको तुरंत अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

अचानक वजन बढ़ना या कम होना

अगर आपका बिना डाइटिंग के वजन कम हो रहा हैं या आप अपनी डाइट में कुछ भी बदले बिना वजन बढ़ाते हैं, तो यह अच्छा संकेत नहीं है। आपको अधिक सावधानी बरतनी चाहिए क्योंकि अचानक वजन बढ़ना या कम होना ओवेरियन कैंसर के लक्षणों में से एक है।

लगातार यूरीन आना

ovarian cancer  symptoms inside

बार-बार यूरीन आने जैसा महसूस होने पर आपको यूटीआई इंफेक्‍शन जैसा महसूस होता है, लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि यह आपके विचार से भी अधिक गंभीर हो सकता है। अगर आपको ऐसा लंबे समय तक महसूस होता है तो आपको बिना देरी किए डॉक्‍टर के पास जाना चाहिए क्‍योंकि यह ओवेरियन कैंसर का लक्षण हो सकता है।

इसे भी पढ़ें: ब्रेस्‍ट की खुद से जांच करके ब्रेस्‍ट कैंसर का पता लगाएं

थकान

हां, अगर आपको रात में अच्छी नींद नहीं आती है या आप अपने आहार में पर्याप्त साग शामिल नहीं करते हैं, तो आपको थकान हो सकती है। लेकिन रोजाना थकान या एनर्जी में कमी महसूस होना अच्‍छा संकेत नही है आपको इस बारे में अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

मतली और उल्टी

ovarian cancer  symptoms inside

बार-बार मतली और उल्टी से संकेत मिलता है कि आपके शरीर में कुछ गड़बड़ है। और वे अक्सर ओवेरियन कैंसर के साथ जुड़ा होता हैं और उन्हें हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए।

पेट की सूजन

अगर आपके कपड़े विशेष रूप से हिप्‍स और कमर से निचले हिस्‍से से टाइट होते हैं, और आप अक्‍सर फूला हुआ और गैस जैसा महसूस करते हैं तो संकेत को अनदेखा न करें, अगर आपको कुछ भी अजीब लगे तो तुरंत अपने डॉक्‍टर के पास जाएं।

भूख में कमी

ovarian cancer  symptoms inside

ओवेरियन कैंसर का असर आपके मेटाबॉलिज्‍म पर पड़ता है और खाने में आपकी रुचि कम होने लगती हैं। अगर आपका मन भी अपने पसंदीदा चीजों को देखकर खाने का नहीं करता है तो तुरंत अपने डॉक्‍टर से संपर्क करें। 

ये शुरुआती चेतावनी संकेत हमेशा एक साथ नहीं हो सकते हैं, और जरूरी नहीं कि यह ओवेरियन कैंसर के लक्षण ही हो। हालांकि, जागरूक होना कैंसर से लड़ने का सबसे अच्छा हथियार है!