Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    डेंटिस्‍ट के पास जाने के नाम से ही आता है पसीना तो एक्‍यूपंक्‍चर में मिलेगा हल

    दांतों के डॉक्‍टर के पास जाने के नाम से ही कुछ महिलाओं को पसीना आने लगता है। अगर आप भी ऐसी ही महिलाओं में से एक हैं तो अब आपको परेशान होने की जरूरत नह...
    Published -04 May 2018, 11:38 ISTUpdated -04 May 2018, 12:10 IST
    Next
    Article
    dental anxiety health main

    दांतों के डॉक्‍टर के पास जाने के नाम से ही कुछ महिलाओं को पसीना आने लगता है। अगर आप भी ऐसी ही महिलाओं में से एक हैं तो अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं हैं क्‍योंकि एक नई रिसर्च के अनुसार एक्यूपंक्चर उन लोगों के लिए एक अच्‍छा ट्रीटमेंट हो सकता है जो दंत चिंता का अनुभव करते हैं। यह बात यॉर्क यूनिवर्सिटी के अध्ययन से समाने आई हैं।

    दांतों से जुड़े ट्रीटमेंट चिंता से दुनिया भर के देशों में वयस्क आबादी का अनुमानित 30% तक प्रभावित होता है। इससे मरीजों को डेंटिस्ट के पास जाने के विचार, चेकअप के दौरान और ट्रीटमेंट से मतली, सांस लेने में कठिनाई और चक्कर आने का अनुभव होने लगता है।

    Read more: सावधान! माउथवॉश के इस्तेमाल से आपको हो सकती है डायबिटीज

    डेंटल ट्रीटमेंट से जुड़ी चिंता के पीछे के कई कारण हो सकते हैं, जैसे

    • पेन
    • नीडल का डर 
    • एनेस्थेटिक साइड इफेक्ट्स
    • शर्मिंदगी
    • कंट्रोल में कमी महसूस करना

    dental anxiety health in

    क्या कहती है रिसर्च

    800 रोगियों के साथ छह परीक्षणों की समीक्षा में, शोधकर्ताओं ने चिंता को मापने के लिए एक बिंदु पैमाने का उपयोग किया और पाया कि चिंता आठ अंक से कम हो गई है जब दांत के रोगियों को उपचार के रूप में एक्यूपंक्चर दिया गया था। कमी का यह स्तर चिकित्सकीय रूप से प्रासंगिक माना जाता है, जिसका अर्थ है कि एक्यूपंक्चर डेंटल ट्रीटमेंट से होने वाली चिंता से निपटने में हेल्‍प कर सकता है।

    पिछले नैदानिक परीक्षणों में निचले हिस्से में दर्द, डिप्रेशन और पेट से ज़डी समस्‍या सहित कई बीम‍ारियों के उपचार के लिए एक्यूपंक्चर शमिल था। हालांकि, चिंता के विशिष्ट मामलों पर इसके प्रभाव का विवरण सीमित अनुसंधान है।

    रिसर्च के नतीजे

    इंग्लैंड, चीन, स्पेन, पुर्तगाल और जर्मनी में 120 से अधिक परीक्षणों की पहचान दंत चिंता के रोगियों पर एक्यूपंक्चर के प्रभाव की जांच के रूप में की गई थी, और छह परीक्षण हाई क्वालिटी गुणवत्ता वाले तरीकों के साथ समीक्षा के लिए पात्र थे। एक्यूपंक्चर के प्रोफेसर ह्यूग मैकफेरसन ने कहा: "एक्यूपंक्चर की प्रभावशीलता में या तो एक स्टैंडअलोन उपचार के रूप में या अधिक पारंपरिक दवाओं के साथ एक साथ उपचार के रूप में वैज्ञानिक रुचि बढ़ रही है।"हमने हाल ही में दिखाया है, उदाहरण के लिए, एक्यूपंक्चर उपचार पुराने दर्द और अवसाद में मानक चिकित्सा देखभाल की प्रभावशीलता को बढ़ावा दे सकता है।"

    "क्रोनिक पेन प्रायः दीर्घकालिक स्थिति का एक लक्षण है, इसलिए एक्यूपंक्चर के विभिन्न उपयोगों की हमारी समझ को आगे बढ़ाने के लिए हम देखना चाहते थे कि तेजी से और विशेष अनुभवों की प्रतिक्रिया के रूप में अचानक होने वाली स्थितियों के लिए क्या हासिल कर सकते है।"

    Read more: क्या आपका पसंदीदा टूथपेस्ट आपके दांतों की सुरक्षा करने में सक्षम है, जानें

    अध्ययन जो एक्यूपंक्चर प्राप्त करने वाले मरीजों के बीच चिंता स्तर की तुलना करते थे और जो नहीं थे, ने दंत चिकित्सा के दौरान चिंता के स्कोर में महत्वपूर्ण अंतर दिखाया। चिंता में नैदानिक रूप से प्रासंगिक कमी तब मिली जब एक्यूपंक्चर की तुलना एक्यूपंक्चर प्राप्त नहीं हुई थी।

    हालांकि, एक निष्कर्ष निकाला जा सकता है, जो एक्यूपंक्चर को हस्तक्षेप के रूप में प्राप्त किया गया था और जो प्लेसबो उपचार प्राप्त करते थे, सुझाव देते हैं कि निष्कर्षों की मजबूती बनाने के लिए बड़े पैमाने पर नियंत्रित परीक्षणों की आवश्यकता होती है। शोध यूरोपीय जर्नल ऑफ इंटीग्रेटिव मेडिसिन में प्रकाशित किया गया है।

    Recommended Video

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।