आपको अपना स्‍केलेटल सिस्टम एक चट्टान की तरह लग सकता है, लेकिन इसका हर हिस्सा जीवित है। अन्य सभी जीवित चीजों की तरह, आपकी हड्डियों को भी जीवन भर पोषण और रखरखाव की आवश्यकता होती है। यह सच है कि एक निश्चित उम्र के बाद आपकी हड्डियों का बढ़ना बंद हो जाता है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आंतरिक एक्टिविटी भी बंद हो जाती है।

"हड्डी रीमॉडेलिंग" की प्रक्रिया एक सतत प्रक्रिया है जिसमें पुराने टिशूओं का निरंतर विनाश और ताजा का पुनर्जनन शामिल है। यदि आप सोच रही हैं कि आप अपने संपूर्ण हड्डी के स्वास्थ्य की सर्वोत्तम देखभाल कैसे कर सकती हैं, तो यहां कुछ तथ्य दिए गए हैं जिनकी मदद से आप शुरुआत कर सकती हैं। इनके बारे में हमं नई दिल्ली की डॉक्टर आकांक्षा अग्रवाल (BHMS) बता रही हैं। 

हड्डियों के लिए स्ट्रेंथ ट्रेनिंग है जरूरी

strength training for bone health

रोजाना एक्‍सरसाइज करने से सिर्फ वजन कम करने में ही मदद नहीं मिलती है बल्कि यह अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने की कुंजी है। स्ट्रेंथ ट्रेनिंग के भाग के रूप में वेट-बियरिंग एक्‍सरसाइज दो कारणों से आवश्यक हैं। पहला, मसल्‍स के निर्माण के लिए जो आपको मजबूत और शेप में रखता है। दूसरा, मसल्‍स और हड्डी के कार्य के बीच तालमेल का समर्थन करने के लिए।

कई अध्ययनों ने साबित किया है कि कैसे स्ट्रेंथ ट्रेनिंग न केवल मसल्‍स के लिए बल्कि आपकी समग्र संरचना का समर्थन करने, संतुलन में सुधार करने और गिरने के जोखिम को कम करने के लिए भी है। जो लोग नियमित रूप से स्ट्रेंथ ट्रेनिंग करते हैं, उनकी हड्डियां बुढ़ापे में भी मजबूत रहती हैं।

इसे जरूर पढ़ें:आज से ही लें अपनी हड्डियों की protection और care की शपथ

कैल्शियम हेल्‍दी हड्डियों की एकमात्र कुंजी नहीं है

calcium for bone health

बचपन में हमें हमेशा हर दिन दूध पीने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। हम इस धारणा के साथ बड़े होते हैं कि हमारे शरीर को कैल्शियम की पर्याप्त आपूर्ति रखना हेल्‍दी हड्डियों की कुंजी है। 

लेकिन यह सिर्फ आंशिक रूप से सच है कि आपको हर दिन कम से कम 1000 मिलीग्राम कैल्शियम की आवश्यकता होती है, लेकिन आपको अपनी हड्डियों को मजबूत रखने के लिए मैग्नीशियम, विटामिन-डी और प्रोटीन की दैनिक खुराक की भी आवश्यकता होती है। 

वास्तव में, आपको इष्टतम अस्थि घनत्व के लिए विटामिन-के की भी आवश्यकता होती है। हड्डियों के चयापचय को बढ़ावा देने के लिए इन पोषक तत्वों का सही कॉम्बिनेशन आवश्यक है। इनके अलावा, "कैरोटीनॉयड" नामक यौगिक, जो हरी सब्जियों, शकरकंद और गाजर में पाए जाते हैं, अस्थि मिनरल घनत्व को बनाए रखने के लिए आवश्यक हैं।

अत्यधिक अल्‍कोहल और कैफीन से हड्डियां होती हैं कमजोर

coffaine bad for bone health

अल्‍कोहल का ज्‍यादा सेवन न सिर्फ आपके लीवर के लिए बल्कि आपके हडि्डयों के लिए भी बुरा है। अल्कोहल हेल्थ एंड रिसर्च वर्ल्ड द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, अल्कोहल कैल्शियम चयापचय को नियंत्रित करने वाले हार्मोन के साथ-साथ कैल्शियम चयापचय को प्रभावित करने वाले हार्मोन के साथ हस्तक्षेप करता है। 

इसके अलावा, अत्यधिक अल्‍होकल पीने से हड्डियों को ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा अधिक होता है, एक ऐसी स्थिति जो हड्डियों को छिद्रपूर्ण बनाती है और फ्रैक्चर की संभावना को बढ़ाती है।

इसे जरूर पढ़ें: कमजोर ह‍ड्डियों को बनाना है मजबूत तो रोजाना घर पर करें ये 5 आसन

इसी तरह, अधिक कैफीन का सेवन भी समय के साथ स्‍केलेटल सिस्टम में असंतुलन पैदा कर सकता है। जैसे-जैसे आप बड़े होते हैं, ये असंतुलन बिगड़ने लगते हैं और हड्डियों के अध: पतन की गति इतनी तेज हो जाती है कि पुनर्जनन प्रक्रिया जारी नहीं रह पाती है।

Recommended Video

आदर्श रूप से, हर दिन एक या दो कप कॉफी को हानिकारक नहीं माना जाता है, लेकिन अधिक निश्चित रूप से खतरनाक है। लेकिन, कैफीन का मतलब केवल कॉफी नहीं है। आपको कैफीनयुक्त चीनी वाले सोडा से भी दूर रहने की आवश्यकता है, जो केवल खाली कैलोरी हैं।

अगर आप अपनी हड्डियों की हेल्‍थ को अच्‍छा रखना चाहती हैं, तो रेगुलर एक्‍सरसाइज और अपने डाइजेशन को सही रखने की कोशिश करें। हड्डी के द्रव्यमान की निगरानी करने और समस्याओं का जल्द से जल्द पता लगाने के लिए हर 2-3 साल में नियमित मेडिकल जांच कराना महत्वपूर्ण होता है। 

65 वर्ष से अधिक उम्र के वयस्कों और ऑस्टियोपोरोसिस के हाई जोखिम वाले लोगों, जिनमें भारी धूम्रपान करने वालों और फ्रैक्चर और वजन की समस्याओं के इतिहास वाले लोग शामिल हैं, को अपने हड्डियों के स्वास्थ्य की जांच नियमित रूप से करानी चाहिए।

यह आर्टिकल आपको कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Freepik.com & Shutterstock.com