कई लोगों की दिन की शुरुआत चाय के बिना नहीं होती है। सुबह-सुबह चाय पीने का अपना ही एक मजा है। ज्यादातर लोग ग्लास या फिर कप में चाय पीना पंसद करते हैं, लेकिन पहले लोग इसे मिट्टी के कप यानी कुल्हड़ में पीना पसंद करते थे। क्योंकि यह न सिर्फ आपके चाय की स्वाद को बढ़ा देता है, बल्कि मिट्टी की सौंधी-सौंधी खुशबु से आपका मन बार-बार चाय पीने का करेगा। उत्तर भारत में आज भी कई लोग कुल्हड़ में चाय पीना पसंद करते हैं। कुछ लोग चाय कुल्हड़ में इसलिए पीना पसंद करते हैं क्योंकि यह सेहत के लिए काफी फायदेमंद हैं। जिसे जानने के बाद आप रोजाना कुल्हड़ में चाय पीना पसंद करेंगी।

वहीं कोविड-19 के दौर में ज्यादातर लोग चाय पीने के लिए डिस्पोजल कप का इस्तेमाल कर रहे हैं। जो कि सही नहीं है, इससे वायरस के संपर्क में भी आने का खतरा रहता है। ऐसे में अगर आप चाहे तो डिस्पोजल, स्टील या कांच के ग्लास में चाय पीने के बजाय कुल्हड़ में पी सकती हैं। कई ग्रामीण इलाकों और छोटे शहरों में आज भी चीय पीने के लिए कुल्हड़ का उपयोग किया जाता है। क्योंकि इसके एक नहीं बल्कि कई फायदे हैं। 

कुल्हड़ में चाय पीने के फायदे

kulhad

प्लास्टिक से बने डिस्पोजल या फिर कांच के ग्लास में चाय पीना स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक है और यह पर्यावरण के लिए भी सही नहीं है। मिट्टी से बने कुल्हड़ इको फ्रेंडली होते हैं जो फेंकने के बाद मिट्टी में परिवर्तित हो जाते हैं। माना जाता है कि कुल्हड़ में चाय पीने से पाचनवतंत्र बिगड़ता नहीं है और इससे आपके शरीर की हड्डियां मजबूत होती हैं।

इसके अलावा मिट्टी के बर्चतनों में क्षरीय स्वभाव होता है जिसकी वजह से शरीर के एसिडिक स्वभाव में कमी आती है। क्योंकि इसमें अधिक मात्रा में कैल्शियम होता है और यह शरीर की एसिडिक को कम करने में मदद करता है। हालांकि कुल्हड़ में चाय पीने से मिट्टी की सौंधी खुशबू आती है जिसकी वजह से इसका स्वाद काफी अच्छा लगता है।

 इसे जरूर पढ़ें- लोहे की कढ़ाई में खाना बनाने के हैं ये फायदे, वजन कम करने से लेकर आयरन की कमी तक को करती है दूर

प्लास्टिक, फोम कप में चाय पीने बचें

chai

डिस्पोजल कप या फिर प्लास्टिक कप में चाय पीने से बचें। यह सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है। ज्यादातर डिस्पोजल पॉली-स्टीरीन से बने होते हैं। गरम-गरम चाय डालने से कुछ तत्व चाय के साथ पेट में भी चले जाते हैं। इससे कई गंभीर बीमारी होने की संभावना होती है। इसके अलावा पेट से जुड़ी समस्याएं भी पैदा हो सकती हैं। पेट खराब होने के साथ -साथ इसका असर पांचन तंत्र पर भी पड़ सकता है। इसमें पाया जाने वाले एसिड चाय के साथ पेट में चले जाते हैं और ये आंतों में जमा हो जाते हैं जो पाचन तंत्र को प्रभावित करते हैं। 

 इसे जरूर पढ़ें- खाना खाने के बाद तुरंत सोने की है आदत तो जान लें क्‍या हो सकते हैं परिणामकुल्हड़ में चाय पीने का स्वाद न सिर्फ बढ़ जाता है बल्कि इसके कई फायदे भी हैं

Recommended Video

कांच के कप से होते हैं कई नुकसान

kulhad tea benefits

दुकानों में चाय ज्यादातर कांच के कप में दी जाती है। ऐसा अक्सर देखा गया है कि कांच के कप को अच्छी तरीके से साफ नहीं किया जाता है। ऐसे में इसमें मौजूद बैक्टीरिया सेहत के लिए खतरनाक साबित हो सकते हैं। इसके अलावा उन्हें साफ करने के लिए गंदे पानी का इस्तेमाल किया जाता है। जिससे पीने वाले को इंनफेक्शन का खतरा रहता है। कई बार इससे फूड पायजनिंग जैसी गंभीर समस्या उत्पन्न हो सकती है। इसलिए अगर आप बाहर चाय पी रहें हैं तो कुल्हड़ में चाय पिएं, सेहत के लिहाज से इसे सुरक्षित माना जाता है। वहीं अगर आपकों ये आर्टिकल पसंद आए तो इसे शेयर करें और इस तरह की आर्टिकल पढ़ने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।