कैसा होता है न, जब आप चमकते रंगों को देखती हैं, तो मन खुश हो जाता है। कुछ रंगों को देखकर आपका मन शांत होता है, तो कुछ रंग आपके डल मूड को दिखाते हैं। रंगों बिना जिंदगी कितना अखरती है न? बहुत बड़े आर्टिस्ट पाबलो पिकासो ने कहा था, ‘ रंग, फीचर्स की तरह ही हमारे इमोशन्स के बदलने को फॉलो करते हैं। अलग रंग, अलग तरह की भावनाओं को दर्शाते हैं और वो आपके मूड, भावनाओं और इमोशन्स को प्रभावित करते हैं।’ एक्सपर्ट इसी को कलर साइकोलॉजी कहते हैं। आइए जानें कि साइकोलॉजिस्ट डॉ. भावना बर्मी क्या कहती हैं।

क्या है कलर साइकोलॉजी?

color psychology by expert

कल्पना कीजिए कि आप एक ब्राइट रेड रूम में हैं, तो आपकी बॉडी अलग तरह से उस रंग के प्रति रिस्पॉन्ड करेगी। अब सोचिए कि आप एक लाइट-स्काई ब्लू रंग के कमरे में हैं, तो यह आपकी बॉडी और दिमाग को अलग तरीके से प्रभावित करेगा। ऐसा करने से आपको यह महसूस होगा कि रंग आपके जीवन में कितना प्रभाव डालते हैं और सायद इसलिए हम ब्लैक और व्हाइट चश्मों से दुनिया नहीं देखते। हम यह देख सकते हैं कि हमारे दैनिक जीवन में कलर साइकोलॉजी को इमोटिकन्स के जरिए कितना उपयोग करते हैं। स्माइली इमोजी येलो होता है, एंग्री फेस लाल होता है, जब हम डिस्गस्ट फील करते हैं तो ग्रीन इमोजी का उपयोग करते हैं। यह बताता है कि हम रंगों को अपनी भावनाओं से जोड़कर देखते हैं। कौनसा रंग कौन सी भावना दर्शाता है, यह हमारी धारणा और कल्चरल बैकग्राउंड पर निर्भर करता है। हालांकि हम यह कह सकते हैं कि लाइट शेड्य प्यार और कम्फर्ट की भावना को उजागर करते हैं। डार्कर शेड्स गुस्से और चिंता को दर्शाते हैं। कूलर टोन्स के कलर्स आपके मन को हल्का करते हैं और डार्कर टोन्स अवसाद और उदासीनता दिखाते हैं। रंगों का कूलर टोन्स ब्लड प्रेशर कम करता है। वहीं लाल और ऑरेंज, खासकर ऑरेंज रंग मेटाबॉलिज्म बढ़ाता है।

इसे भी पढ़ें :चार मगज यानि 4 फलों के बीज करेंगे आपका दिमाग तेज, जानें अन्य फायदे

थेरेपी में भी रंगों का उपयोग

therapy color psychology

डॉ. बर्मी के मुताबिक, थेरेपी में भी रंगों का उपयोग होता है। जैसे किसी का मन अशांत हो, तो लाल रंग का उपयोग किया जाता है। यह रंग मन और शरीर को प्रोत्साहित करता है और सर्कुलेशन भी बढ़ाने में मदद करता है। ऑरेंज का उपयोग तब किया जाता है, जब किसी में ऊर्जा की कमी होती है। यह रंग ऊर्जा के स्तर को बढ़ाता है। वहीं माना जाता है कि ब्लू रंग, आपकी नसों को शांत करता है और दर्द में भी राहत देता है। इसी तरह कई रंगों के कई उपयोग हैं, जो आपके मेंटल हेल्थ के लिए बड़े महत्वपूर्ण हैं।

नीला रंग - यह रंग अधिकांश लोगों के लिए सौम्यता, लॉयल्टी और शांति का प्रतिनिधित्व करता है। यह स्ट्रेस मैनेजमेंट में भी काफी प्रभावी है। एक रंग भी है जो तनाव प्रबंधन में प्रभावी है। यह रक्तचाप के स्तर को कम करता है, चिंता को कम करता है, आपके हृदय गति को धीमा करता है, और आप खुशी महसूस करते हैं। विश्वास और लॉयल्टी दिखाने के लिए कई मीटिंग्स में लोग नीले रंग का सूट पहनकर जाना पसंद करते हैं। यह रंग सकारात्मक इमोशन्स दर्शाता है।

docotr quotes

इसे भी पढ़ें :माइंडफुलनेस के लिए आर्ट थेरेपी का सहारा!

हरा रंग- यह रंग काफी हद तक प्रकृति से जुड़ा हुआ है। यह गुणवत्ता, हीलिंग और ताजगी का प्रतीक है। आपकी चिंता को कम करने में मदद करता है। कुछ लोगों को लगता है कि यह उनके अंदर दया की भावना पैदा करता है, जबकि अन्य लोग उर्जावान और आशावादी महसूस करते हैं। ग्रीन कलर के गहरे शेड्स से अच्छा है आप बेज ग्रीन या फिर पेल येलो ग्रीन को चुनें, जो आपका तनाव कम करने में सहायक है।

गुलाबी रंग- यह रंग करुणा और ईमानदारी का प्रतीक है। साथ ही यह मन में खुशी का एहसास करवाता है। गुलाबी रंग चिंता को कम करता है और सकारात्मक ऊर्जा से भरता है। कुछ लोग इस रंग से ताजगी और सकारात्मक महसूस करते हैं। आप भी यह रंग चुन सकती हैं, मगर इसका भी लाइट शेड या बेबी पिंक शेड चुनना ज्यादा बेहतर है।

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें। ऐसे अन्य आर्टिकल्स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी के साथ।

Image credit : freepik images