बॉलीवुड एक्‍ट्रेस मलाइका अरोड़ा भी कुछ समय पहले कोविड-19 की चपेट में आ गई थीं। उन्‍होंने खुद को घर में क्‍वारंटाइन किया और कोरोना को मात दी थी। लेकिन कोरोना के बाद मलाइका अरोड़ा ने कई परेशानियों का सामना किया और उनकी फिटनेस में भी बदलाव आया। वह एक फिटनेस फ्रिक हैं, बावजूद इसके मलाइका ने कोरोना की वजह से निराशा और कमजोरी महसूस की थी। इस बात की जानकारी उन्‍होंने हाल ही में अपने एक नए सोशल मीडिया पोस्ट में घातक वायरस से रिकवरी अनुभव के बारे में बात करते हुए कहा कि यह “आसान नहीं” था। आइए उनकी कोविड रिकवरी के बारे में इस आर्टिकल के माध्‍यम से विस्‍तार से जानते हैं। 

47 साल की एक्‍ट्रेस ने अपने इंस्टाग्राम के माध्‍यम से अपनी टोन्ड बॉडी की फोटोज का एक कोलाज शेयर किया। उन्‍होंने कैप्शन में खुलासा किया कि ''उनकी फिटनेस के आधार पर, लोगों ने माना कि उनके लिए कोविड से ठीक होना आसान हो होगा। लेकिन वायरस ने उसे शारीरिक रूप से 'तोड़' दिया और यहां तक कि चलने जैसे बेसिक मूवमेंट को भी एक कठिन कार्य की तरह महसूस किया।''

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Malaika Arora (@malaikaaroraofficial)

कोविड रिकवरी थी बेहद मुश्किल

उन्‍होंने आगे लिखा, "मैं नियमित रूप से सुनती हूं कि कुछ लोगों के लिए कोविड से लड़ना आसान रहा। आप बहुत भाग्यशाली हैं कि यह आपके लिए इतना आसान रहा। हां, मैं अपने जीवन में बहुत सी चीजों के लिए आभारी हूं। लेकिन किस्मत ने इसमें बहुत छोटी भूमिका निभाई और मेरे लिए यह आसान नहीं था। मेरा कोविड 19 का टेस्ट 5 सितंबर को पॉजिटिव आया। ये वाक्य में बहुत खराब रहा। कोई भी व्यक्ति जो कोविड रिकवरी को आसान कहता है, उसकी या तो इम्‍यूनिटी बहुत अच्‍छी होगी या वह कोविड के संघर्षों से अवगत नहीं है।''

इसे जरूर पढ़ें:मलाइका अरोड़ा 46 की उम्र में भी दिखती हैं 30 की, ये 3 योग हैं सीक्रेट

दो कदम भी चलना था मुश्किल

"अपने ठीक होने के अनुभव के बारे में और बात करते हुए, मलाइका ने कैप्‍शन में लिखा, "खुद इससे गुज़रने के बाद, "आसान" वह शब्द नहीं है जिसे मैं चुनूंगी। इसने मुझे शारीरिक रूप से तोड़ दिया। 2 कदम चलना मेरे लिए मुश्किल हो गया था। बस बिस्तर से उठकर बैठना, खिड़की में खड़ा होना अपने आप में एक जर्नी थी।'' 

malaika arora covid recovery inside

वजन काफी बढ़ गया था

आगे उन्‍होंने लिखा ''मेरा वजन काफी बढ़ गया था, मुझे कमजोरी महसूस हुई, मेरी सहनशक्ति खो गई, मैं अपने परिवार से दूर थीं और मैंने और बहुत कुछ सहा। फिर 26 सितंबर को आखिरकार मेरा कोरोना टेस्ट नेगिटिव आया। लेकिन कमजोरी तब भी बनी थी। मैं काफी निराश हो चुकी थी मेरे दिमाग पर भी इसका असर पड़ रहा था।''

फिर से फिट न हो पाने का डर

"मलाइका ने कहा कि ठीक होने के बाद भी वह कमजोर महसूस कर रही थीं और उनके लिए वर्कआउट करना काफी संघर्षपूर्ण था। मुझे निराशा हुई कि मेरा शरीर मेरे दिमाग को कैसा महसूस कर रहा था, इसका समर्थन नहीं कर रहा था। मुझे ये डर था कि क्या मैं वापस पहले जैसी हो पाऊंगी या वैसी ताकत वापस आ पाएगी। क्या मैं 24 घंटों में भी कुछ एक एक्टिविटी करने में सक्षम हो पाऊंगी या नहीं।''

malaika arora covid recovery inside

एकदम टूट गई थी मलाइका 

एक्‍ट्रेस ने आगे लिखा, ''मैंने जब कोरोना के बाद पहली बार वर्कआउट किया ये बहुत ही दर्दनीय था। मुझे एकदम टूट हुआ महसूस हुआ। उस दिन कुछ नहीं कर पाई। फिर दूसरे दिन मैं खड़ी हुई और खुद से कहा कि मैं खुद ही अपनी निर्माता हूं और मैंने फिर से मेहनत करना शुरू की।

Recommended Video

बेहतर महसूस हो रहा है अब

''मेरी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव होने के 32 हफ्ते हो चुके हैं और अब मैं पहले जैसा महसूस करने लगी हूं। अब मैं पहले की तरह वर्कआउट करने में सक्षम हूं। पहले से बेहतर सांस लेने में सक्षम हूं और शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से मजबूत महसूस कर रही हूं।'' 

इसे जरूर पढ़ें:बढ़ती उम्र में भी जवां बने रहने के लिए मलाइका अरोड़ा की तरह ये योग करें

''चार अक्षर का शब्द जिसने मुझे आगे बढ़ाया वह था HOPE। उम्मीद है कि सब ठीक हो जाएगा, तब भी जब ऐसा लगे कि यह ठीक नहीं है। आप सभी का धन्यवाद जो मुझे संदेश, डीएम और प्रेरक सामग्री भेज रहे हैं जिन्होंने मेरा उत्साह बढ़ाया है। लेकिन मैं यह भी प्रार्थना करती हूं कि दुनिया भी ठीक हो जाए और हम सब एक साथ इससे बाहर आएं। मैं इस स्‍टेज से 2 शब्दों धैर्य और आभार के साथ बाहर आई हूं।''

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा? हमें फेसबुक पर कमेंट करके जरूर बताएं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें।